सैकड़ो किसानो के बैंक खाते मे अभी तक सरकारी अनुदान राशी जमा न होने पर आंदोलन की तैयारी

सैकड़ो किसानो के बैंक खाते मे अभी तक सरकारी अनुदान राशी जमा न होने पर आंदोलन की तैयारी

हमीद तडवी 

(जलगाव)                                   

 

महाराष्ट्र के जलगाव जिले के रावेर तहसील मे ४ महिनो से लगभग जो किसानो को खरीप अनुदान शासन द्वारा जारी किया जा रहा है.उसमे रावेर तहसीलदार से लेकर जिलाधिकारी  इनके धील्ले काम के वजह से रावेर तहसील के कुसुंबा ग्राम मे अभी भी  यहा के ग्रामीण किसानोपर बहोत सारी मुसिबतो का सामना करना पड रहा है.

इसकी अधिक पाप्त जानकारी ऐसी कि,तलाठी सजा कार्यालय,और तहसील कार्यालय के चक्कर काट-काट के अब फील हाल मे इन किसानो को भी चक्कर आना शुरू हो गये है.इसका मतलब ये है कि ग्रामीण क्षेत्र के किसानो ने  तलाठी ऑफिस लोहारा और तहसील ऑफिस रावेर यहा  जा जा के ४ से ५ बार आधार कार्ड झेरोक्स और बँक पासबुक झेरोक्स सबंधित अधिकारी को देने के बावजूद अभीतक उन किसानोके बँक खाते मे अनुदान राशी जमा न होने पर ग्रामीण क्षेत्र का किसान एक मुसुबत के घेरे अटका है,

 कारण रावेर तहसील के किसानोमे एक तरह का आक्रोश दिखाई दे रहा है.अब इन किसानोकी समस्या का निराकरण कौन करेगा, इस पर सारे जिले के हर किसान का ध्यान लगा हुवा है..इतनी बार  आधार कार्ड झेरोक्स और बँक पासबुक  का झेरोक्स के दस्तावेज देने के बावजूद  भी कोई भी सरकारी अनुदान राशी जमा न होने पर रावेर तहसील के किसानो ने तय किया है, कि सरकारी किसान पेन्शन योजना कि राशी और सरकारी खरीप अनुदान कि राशी हमारे बँक खाते मे अगर ये जून महिने के अंदर न जमा हुई तो हम सब किसान मिलकर तहसील और जिला अधिकारी कार्यालय पर किसानो द्वारा एक आंदोलन मोर्चा लेकर जाने कि भी हम किसानोने ठान लि है ,

इसका निवेदन  तहसील और जिला अधिकारी को दिया जायेगा. ऐसी  चर्चा किसानोमे जोर धरने लगी है.  इस सारे प्रकार को  सबंधित मुख्यमंत्री एव जिला उच्च अधिकारी ध्यान देकर वंचित किसानो के  बँक खातो मे किसान पेन्शन कि राशी और खरीप अनुदान कि राशी जमा करने कि जल्द से जल्द कार्यवाही करे.ताकी अभी बरसात शुरू होनेमे  कुछ ही समय, कुछ् ही दिन  बाकी है.इन किसानो का विचार करके जल्द से जल्द उन किसानोके बँक खाते मी सरकारी राशी जमा करने कि मांग जलगाव जिले के किसानो द्वारा मांग कि गयी है.

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments