बीमारी के चलते पहले माता की , फिर  पिता की भी हुई मृत्यु , तीन बच्चे हुये अनाथ।

बीमारी के चलते पहले माता की , फिर  पिता की भी हुई मृत्यु , तीन बच्चे हुये अनाथ।

नरेश गुप्ता /मनोज कुमार की रिपोर्ट

बीमारी के चलते पहले माता की , फिर  पिता की भी हुई मृत्यु , जिससे तीन बच्चे हुये अनाथ।

महमूदाबाद , सीतापुर।
उत्तर प्रदेश के जिला सीतापुर की तहसील महमूदाबाद के ब्लॉक पहला की ग्राम पंचायत कोरार में राम किशोर पुत्र  राम गुलाम निवासी कोरार के कैंसर था। जिसका इलाज काफी दिनों से लखनऊ के निजी अस्पताल में चल रहा था। और आज करीब सुबह बजे राम किशोर की मृत्यु हो गई।

और जिसके तीन बच्चे भी है । जिनका नाम सुधा देवी उम्र लगभग 18 वर्ष , मेनका देवी उम्र लगभग 13वर्ष  ,और एक  लड़का जिसका नाम अनमोल कुमार उम्र लगभग 10 वर्ष बताया गया है। और इन बच्चों की माता राम लली पत्नी राम किशोर का देहांत 2015 में ही हो गया था। और जिसका कारण गरीब एवं अत्यधिक असहाय होने की बात को बताया जा रहा है। क्यों कि न तो इन गरीब बच्चों के रहने की ब्यवस्था। कच्चा घर वो भी बरसात में गिर गया। और गिरी हुई कच्ची दीवाल  पर रखी टीन शेड के नीचे रहकर अपना जीवन यापन कर रहे है। और परिवार में न कोई  रोजगार  है।

जिसके चलते परिवार का बोझ उठाने के लिए अब कोई भी नही। और राम किशोर बहुत ही गरीब और असहाय ब्याकित थे। और ये अपनी पत्नी का भी सही ढंग से इलाज नही करा पाने के कारण इनकी पत्नी राम लली भी साथ 2015 में तीनों बच्चो के साथ साथ अपने पति का साथ छोड़ कर भगवान के घर चली गई थी। फिर कुछ दिनों  के बाद राम किशोर भी बीमार पड़ गए। जिसका इलाज तो करते रहे । लेकिन फिर  भी डॉक्टरो ने जांच के माध्यम से राम  किशोर के कैंसर होने की बात को बताया।कैंसर का नाम सुनकर इलाज तो करना शुरू कर दिए थे। फिर भी इलाज चलने के बावजूद भी राम किशोर की मृत्यु हो गई। माता -  पिता की मृत्यु के बाद तीनो बच्चे अनाथ हो गए। और बच्चो के रहने के लिए कोई सही ढंग की जगह भी नही है । मृतका की बड़ी बेटी सुधा देवी शादी करने के योग्य भी हो गई।

जिसका सहयोग करने वाला नही है । पीड़ित परिवार सरकार के द्वारा दिए जाने वाले लाभो में से प्रधानमंत्री आवास एवं शादी अनुदान दिलवाने की मांग कर अपने जीवन यापन को आगे बढाने एवं चलाने के लिए सरकार की ओर से अपने निज निवास स्थान पर रहने व अन्य भी सरकारी लाभो की मदद मांग रहे है। 

 

Comments