ब्राह्मण चेतना पाठशाला का किया गया आयोजन

ब्राह्मण चेतना पाठशाला का किया गया आयोजन

प्रमोद कुमार चौहान

मनकापुर गोण्डा- 

आदि काल से भारत की भूमि पर ब्राह्मणों के संदेशों का महत्व देश की जनता सदैव आत्मसाद करती  रही हैं जिससे देश सुरक्षित था।

 उक्त विचार जोगापुर के प्राथमिक विद्यालय के परिसर में आयोजित ब्राह्मण चेतना पाठशाला के संयोजक/अधिवक्ता केदार नाथ मिश्र ने मौजूद लोगो से कही।उन्होने कहा कि ब्राह्मण समाज हमेशा देश के उत्थान में सदैव तत्पर रहा है लेकिन आज के 21वीं सदी में ब्राह्मण समाज का उत्पीडन जगह-जगह किया जा रहा है जो चिंता का विषय है।

हम लोगो को पुनः एक जुटता दिखाना होगा।तभी देश व ब्राह्नमण समाज में अमूल-चूल परिवर्तन सम्भव है। इसके पूर्व सर्व प्रथम मां सरस्वती  भगवान परशुराम के चित्र पर दीप प्रज्जवलन- पुष्प अर्पित  व शंख नाद कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया गया।

कार्यक्रम में रवीन्द्र पान्डेय ने अपने सम्बोधन में कहा कि ब्राह्नमण एक शाक्ति है न कि एक चारा है जो चाहे निवाला बना ले।समाज के लोग अपनी ऊर्जा का आत्मसात करे।इसीक्रम में शिव कुमार तिवारी,विध्याचल तिवारी,दिनेश कुमार पान्डेय,भोला नाथ मिश्र,भभूती चौबे,घनश्याम तिवारी,दुष्यत तिवारी ने अपने-अपने विचार रखे।कार्यक्रम का संचालन ब्रह्मदेव पाठक ने किया।

     इस मौके पंर जितेन्द्र मिश्र,बब्बू शुक्ल,हरि प्रसाद द्विवेदी,संजय पाठक,अभिषेक तिवारी,नरायन दत्त तिवारी,भवानी सहाय,लालजी आदि लोग मौजूद रहे।

Comments