प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में जल संकट पर जताई चिंता

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में जल संकट पर जताई चिंता

लोकसभा चुनाव में मिली प्रचंड जीत के बाद मन की बात में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पानी से जुड़ी चुनौतियों का जिक्र किया। पीएम ने कहा कि पानी का हमारी संस्कृति में बड़ा महत्व है। पानी की समस्या के समाधान पर प्रधानमंत्री ने कहा कि जनभागीदारी, जनशक्ति, 130 करोड़ देशवासियों के सामर्थ्य, सहयोग और संकल्प से इस संकट का भी समाधान कर लिया जाएगा।

 

मन की बात कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जल समस्या और इसके समाधान पर भी चर्चा की। पीएम ने कहा कि देश में नया जल शक्ति मंत्रालय बनाया गया है, जिससे कि पानी से जुड़े विषयों पर तेजी से फैसले लिए जा सकेगा। पीएम ने जल की कमी से निपटने के लिए जनभागीदारी और सहयोग पर बल दिया।  

प्रधानमंत्री ने मन की बात कार्यक्रम के जरिए देशवासियों से तीन अनुरोध किया। पीएम ने पहले अनुरोध में देशवासियों से स्वच्छता की तरह जल संरक्षण के जन आंदोलन और जन भागीदारी बनाने का अनुरोध किया।

प्रधानमंत्री ने अपने दूसरे अनुरोध में जल संरक्षण के पारंपरिक तरीकों को साझा करने का आग्रह किया।

प्रधानमंत्री ने तीसरे अनुरोध में JanShakti4JalShakti हैशटैग का उपयोग कर जानकारी साझा करने की अपील की। 

प्रधानमंत्री की पानी की समस्या के समाधान के लिए सुझाये गए संकल्पों और उपायों के जरिए नि:संदेह ही जल की समस्या को जड़ से खत्म करने में सफल हो पाएंगे।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments