मच्छर का लार्वा मिलने पर पांच परिवारों को नोटिस

 मच्छर का लार्वा मिलने पर पांच परिवारों को नोटिस

-मथुरा में विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान में मच्छरों के पीछे दौड़ाए दस महकमा
-बलदेव के मनोहरपुर समेत कई स्थानों पर डेंगू के रोगी मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग सजग


मथुरा।

मच्छर का लार्वा मिलने पर पांच परिवारों को नोटिस भेजा गया है। विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान के दौरान स्वास्थ्य विभाग की टीमों ने पहले भरे पानी के ऊपर मच्छर का लार्वा मिलने पर पांच परिवारों को नोटिस थमाया है। इसके साथ ही लोगों को साफ सफाई रखने और गंदगी न फैलाने के लिए प्रेरित किया है।

जिला मलेरिया अधिकारी आर के सिंह ने बताया कि 16 से 30 नवंबर तक संचारी रोग नियंत्रण पखवाड़े का विशेष कार्यक्रम चल रहा है। इस कार्यक्रम में स्वास्थ्य विभाग के साथ दस अन्य विभाग भी सहयोग कर रहे हैं। इनमें पंचायती राज, शिक्षा, नगर निगम आदि महकमे भी अपने स्तर से दवा का छिड़काव करा रहे हैं व मलेरिया व डेंगू से बचाव को जागरूकता ला रहे हैं।

हाल ही में डेंगू का प्रकोप शुरू हो गया है। बलदेव के ग्राम मनोहपुर समेत कई जगह पर डेंगू के मरीज पाए गए हैं। इसे देखते हुए शासन ने विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान प्रारंभ किया है।इसके तहत लोगों को मलेरिया व डेंगू से बचाव को जागरूक किया जा रहा है तथा निरोधात्मक कार्यवाही की जा रही है।

यह निरोधात्मक कार्रवाई उन लोगों के खिलाफ हो रही है जिनके घर में या घर के आसपास पानी काफी दिनों से भरा है और वहां मच्छर पनप रहे हैं। उन पर दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी। आर के सिंह ने बताया कि अभियान के दौरान फिलहाल स्वास्थ्य विभाग की टीम ने 5 लोगों को चिन्हित किया है। उनके यहां आसपास पानी भरा हुआ मिला है।

476 स्कूलों में हुआ दवा छिडकाव
मथुरा के 990 स्कूलों में दवा छिड़काव जागरूकता के कार्यक्रम चलाने का लक्ष्य तय किया गया था, जिसमें से 26 नवंबर तक 476 स्कूलों में टीमें पहुंची हैं। ग्राम विकास विभाग ने दवा के छिड़काव का लक्ष्य 54 फीसदी लक्ष्य पाया है। अभियान अभी जारी है।

मथुरा। जिला मलेरिया अधिकारी डॉ आर के सिंह के अनुसार डेंगू चिकनगुनिया मलेरिया जैसी बीमारियों की रोकथाम के लिए सभी अस्पतालों में अलर्ट जारी कर दिया गया है। मुख्य शिक्षा अधिकारी कार्यालय में कंट्रोल रूम स्थापित है जहां 24 घंटे कर्मचारी की ड्यूटी रहती है कोई भी मरीज किसी भी तरह अगर पाया जाता है तो सूचना दी जा सकती है, वहां टीम पहुंचेगी।

डेंगू से कैसे करें बचाव
-किसी झोलाछाप से इलाज न कराएं
- मच्छर रोधी क्रीम उपयोग करें
- आसपास पानी का जमाव न होने दें
-गंदगी भी न होने दें
- खून की जांच कराएं
- सरकारी अस्पतालों में ही पैथोलॉजी का उपयोग करें
- बुखार आने पर चिकित्सक को बताएं और उसी के अनुसार दवा लें

Comments