मीरजापुर की टॉप खबरे

 मीरजापुर  की टॉप खबरे

०किशोरियों में एनीमिया दूर करने के लिए बंटेगा देशी घी ।

 2668 आंगनबाड़ी केन्द्रों पर भेजा गया देशी घी।

० एक किशोरी को 450 ग्राम घी दिया जायेगा।

 

 शासन की ओर से सितम्बर, पोषण माह के रूप में मनाया जा रहा है। इसको लेकर बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग के साथ ही जिले के कई अन्य विभाग भी पोषण माह को सफल बनाने में दिन रात एक किये हुये है। इस माह में प्रत्येक सप्ताह पोषण और स्वास्थ्य से जुड़ी विभिन्न गतिविधियां कराया जा रहा है। जनपद में एनीमिया यानी खून की कमी से ग्रसित किशोरियों को पोषण माह के अन्तर्गत देशी घी का वितरण करने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए शासन की तरफ से जनपद को 24.73 कुन्तल देशी घी उपलब्ध कराया गया है। 

 जिला कार्यक्रम अधिकारी पी0के0 सिंह ने बताया कि विभाग की ओर से  चलाये जा रहे वीएचएनडी कार्यक्रम में स्कूल न जाने वाली किशोरियों को चिन्हित करने का कार्यक्रम किया गया। इसमें 11 से 14 वर्ष की चार हजार किशोरियों को एनीमिया की कमी होने की स्थिति में चिन्हित किया गया है। इसकी रिपोर्ट शासन को भेजा जा चुका है।

 उन्होने बताया कि देशी घी डेयरी उद्योग के माध्यम से शासन की ओर से विभाग को देने का कार्य किया जा रहा है। जो हर चैथे महीने में चिन्हित की गई किशोरियों का आंकड़ा शासन को भेजने पर शासन से प्राप्त होता है। जनपद में 2668 आंगनबाड़ी केन्द्रो पर देशी घी भेजा जा चुका है। जहां पर चिन्हित किशोरियों को शत-प्रतिशत मिलने की व्यवस्था की जा रही है। 

बताया कि चुनार, नरायनपुर, जमालपुर, सीखड़, मझवां, कोन, पटेहरा, राजगढ़, मड़िहान, लालगंज, हलिया, सिटीग्रामीण व सिटी नगर में किशोरियों को चिन्हित किया गया है। इस कार्यक्रम के तहत प्रत्येक किशोरी को 450 ग्राम देशी घी का वितरण किया जाना है। घी मे विटामिन ए, डी, कैल्शियम, फाॅस्फोरस, मिनरल्स, पोटैशियत जैसे कई पोषक तत्व पाये जाते है।

प्रभावती के लिए सच में आशा की किरण रही “आशा संगनी संगीता”आशा संगिनी संगीता ने दी नई जिन्दगीसामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर 18 वर्षो से कार्यरत मिर्जापुर। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर आशा संगिनी संगीता देवी के अच्छे कार्यो से केन्द्र पर सब निःसंकोच होकर जाते है। आशा संगिनी के रूप में पिछले अठ्ठारह वर्षो से स्वास्थ्य केन्द्र पर कार्यरत है। इनके द्वारा कई  सराहनीय कार्य किये गए हैं जिसमें से एक महिला प्रभावती देवी पत्नी रामअधार शर्मा निवासी ग्राम कन्हईपुर विकास खण्ड चुनार जनपद मीरजापुर पिछले कुछ दिनों से अपने बच्चेदानी में हो रहे

दर्द व पस आने की समस्या को लेकर काफी दिनों से बहुत परेशान थी और  गरीबी के कारण वह अपना इलाज नही करा पा रही थी। यह बात आशा को क्षेत्र भ्रमण के दौरान पता चला वह तुरन्त उनके पास पहुंची व उसकी स्थिति के बारे में समझा तभी आशा ने  प्रभावती का आयुष्मान कार्ड का फार्म भरवाया जिससे उसका आयुष्मान कार्ड बनकर आया | जिसकी वजह से  वह विकास खण्ड नरायनपुर स्थित सत्या हास्पिटल पर ले जाकर उसका निःशुल्क आपरेशन करवाया | आपरेशन के दो दिन बाद उसको जिला महिला चिकित्सालय में भेजा गया जहां पर उसका प्राथमिक उपचार संगीता ने कराया गया उसके उपरांत संगीता प्रभावती को उसके  गांव कन्हईपुर में जाकर छोड़ा प्रभाववती को तीन लड़कियां और दो लड़के है इनका पति किसान है जो खेती से ही अपने परिवार का पालन पोंषण कर रहा है जिसके कारण वह इतने दिनो तक अपने पत्नी का इलाज नही करा पा रहा था

प्रभावती देवी आज अपने परिवार के साथ बहुत खुश है। वह और उसका सारा परिवार हमे दुआये दे रहा है। आशा संगिनी संगीता आज अपने कार्य के प्रति निष्ठा रखने के कारण ही वह अपने क्षेत्र में अत्यन्त सक्रियता के साथ कार्य कर रही है।

पूर्व में आशा संगीता हो चुकी है सम्मानितप्रभारी चिकित्साधिकारी डॉ.0 अजय कुमार ने बताया कि संगीता देवी को उनके कार्य के लिए विभाग द्वारा कई बार सम्मानित किया जा चुका है। और उन्हें आशा से संगनी पद दिया गया हैं |

 
  • रात को मकान के पास पेड़ पर गिरी आकाशीय बिजली। 
  • घर पर गिरा पेड़, बाल बाल बचे घऱ में सोते लोग।

मीरजापुर जनपद के इटवां गाँव में बड़ा हादसा टला। आसमान से तेज गर्जना के साथ उक्त गाँव निवासी  राम प्रसाद उर्फ भोनु बिन्द के मकान के पास पेड़ पर  आकाशीय बिजली गिर गई जिसके चपेट में आने से पास रहे कच्चा घर पर पेड़ गिरने से मकान की बल्ली टूट गई। उपर वाले की शुक्र रही कि भीतर सो रहे सात लोग बाल बाल बच गये। 

घटना मीरजापुर जनपद के ग्राम पंचायत इटवां की है। बीती रात्रि समय लगभग 2:30 बजे तेज मूसलाधार बारिश हो रही थी। गांव का भोनु बिन्द रोज की भांति अपने , पत्नी, बहुत, लड़के, नाती के साथ खाना खाकर पेड़ के नीचे बने कच्चे मकान में ही सोया कि तेज बारिश से बिजली गुल हो गई और बादलों की गर्जना होने लगी। इससे पहले कि परिवार का कोई सदस्य कुछ समझ पाता रात के अंधेरे में तेज बिजली चमकी और मकान के पास पेड़ पर गिर गया जिससे पेड़ का एक हिस्सा दशकों पहले बना कच्चा मकान पर जा गिरा। आसपास के लोग तत्काल मौके पर पहुंच कर भोनू के परिवार की सहायता किए ।

Comments