मुख्य आरोपी पुलिस की पकड़ से दूर,दो साथी गिरफ्तार और दो फरार।

मुख्य आरोपी पुलिस की पकड़ से दूर,दो साथी गिरफ्तार और दो फरार।

।पांचवे दिन भी धरना प्रदर्शन जारी, स्वास्थ्य सेवाएं मुख्य धारा से अभी दूर।।

।मुख्य आरोपी पुलिस की पकड़ से दूर,दो साथी गिरफ्तार और दो फरार।
स्वतंत्र प्रभात /कौशल किशोर
तिंदवारी-बाँदा ।

चिकित्साधिकारी व ब्लॉक प्रमुख प्रतिनिधि के बीच हुई मारपीट के विवाद में चार अन्य लोगो में  से दो को पुलिस ने  जेल भेज दिया ।  आरोपियों के खिलाफ कई संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया ।वही सीएमओ डॉ. संतोष कुमार तिंदवारी पीएचसी पहुंच कर धरने में बैठे चिकित्सक व स्वास्थ्य कर्मियों को सुरक्षा के प्रति आश्वस्त किया। और हड़ताल खत्म करके  काम मे वापस लौटने की वकालत की ।


         जिलेभर के चिकित्सकों व स्वास्थ्य कर्मियों के धरने प्रदर्शन के बाद  चिकित्साधिकारी व ब्लॉक प्रमुख प्रतिनिधि में हुई मारपीट की घटना में शुक्रवार को  प्रभारी निरीक्षक अशोक कुमार सिंह ने घटना में विभिन्न धाराओं में  चार अन्य नामज़दों में से  दो हफीजुल इस्माइल(राज चश्मे वाले) पुत्र स्व. जहूरुल इस्लाम निवासी बांस मंडी कानपुर, हाल मुक़ाम प्रेम नगर तिंदवारी एवं अतुल कुमार पुत्र रघुबीर सिंह यादव निवासी नाला जेई थाना जैथरा जिला एटा को पपरेन्दा तिराहे से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया ।

इस घटना का मुख्य आरोपी ब्लॉक प्रमुख प्रतिनिधि वरुण यादव व दो अरोपी साथी अभी भी पुलिस की पकड़ से दूर हैं। थाना प्रभारी श्री  सिंह ने बताया कि पीएचसी में हुई घटना में ब्लॉक प्रमुख प्रतिनिधि वरुण यादव सहित चार उनके साथी   में से दो हफीजुल इस्माल व अतुल कुमार यादव को 147, 332, 353, 386, 427 व 506 के तहत मामला दर्ज था। जिनको गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया । और अन्य आरोपियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार  किया जाएगा।


       उधर पीएचसी में घटना के पांचवें दिन अनशन व प्रदर्शन के बीच मंगलवार को ग्यारह बजे से ओपीडी शुरू  हुई। काली पट्टी बांधकर चिकित्सकों ने तेरह मरीजो  का इलाज भी किया गया। लेकिन अनशन व धरना प्रदर्शन शुरू ही रहा। वही अभी भी डिलीवरी व लेबर  रूम में ताला लटकता रहा।


      दोपहर के बाद पीएचसी पहुँचे सीएमओ बाँदा डॉ. सुरेश कुमार ने अनशन पर बैठे चिकित्सक व स्वास्थ्य कर्मियों को सुरक्षा के प्रति आश्वस्त करते हुए कहा कि पीएचसी में सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस को भेजने के लिए एसपी बाँदा से लिखित  अनुरोध किया है।अब आप सुरक्षित हैं आप सभी काम पर लौटें। वही महिला कर्मियों का कहना था कि घटना दिन में हुई है जब तक पुलिस पीएचसी में तैनात नही होती तब तक वह काम पर वापस नहीं लौटेंगी। जो काम पेंडिंग होगा वह दिन रात मेहनत करके पूरा करेंगी।

इस बात को सभी अनशन पर बैठीं स्वास्थ्य कर्मियों ने लिखित रूप में दिया। सीएमओ  लगभग एक घण्टे तक धरना स्थल पर मौजूद रहे।  जनहित में इमरजेंसी के अलावा मंगलवार को ओपीडी भी शुरू हो गई । चिकित्सक डॉ सतीश कुमार व फार्मासिस्ट मनीष तिवारी ने काली पट्टी बांधकर मरीजों का इलाज किया। और अनशन व धरना प्रदर्शन अभी भी शुरू रहा।


        वहीं  दूसरी तरफ प्रधान संघ अपने अध्यक्ष ज्ञान सिंह को छुड़वाने के लिए दर्जनों प्रधानों ने एकत्र हो कर एक मीटिंग की। इसके बाद थाने में थाना प्रभारी से मिले ।प्रधानों का  कहना था कि निर्दोष को पकड़ना गलत है।

इस मामले में हमारे अध्यक्ष ज्ञान सिंह का कोई लेना-देना नही है। पुलिस दोषियों को गिरफ्तार करे। अगर हमारा अध्यक्ष आज नही छूटा तो कल एसपी व आला अधिकारियों से एकजुट होकर मिलेंगे।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments