रिलायंस म्यूचुअल फंड ने CPSE ETF के लिए FFO3 की घोषणा की

रिलायंस म्यूचुअल फंड ने CPSE ETF के लिए FFO3 की घोषणा की

 रिलायंस म्यूचुअल फंड (RMF) ने अपने केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों- विनिमय व्यापार निधि (CPSE ETF) के भावी निधि प्रस्ताव 3 (FFO3) की घोषणा की।

यह FFO3, भारत सरकार के ETF के माध्यम से समग्र विनिवेश कार्यक्रम का हिस्सा है, जिसकी घोषणा पहले ही निवेश एवं सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग (DIPAM), वित्त मत्रांलय द्वारा की जा चुकी है | 

भारत सरकार के दिशानिर्देशों के आधार पर, रिलायंस म्युचुअल फंड ने "प्रारंभिक राशि" के साथ-साथ "अतिरिक्त राशि" (यदि कोई हो) के रूप में लगभग 8,000 करोड़ रुपये (US$ 1.12 बिलियन) तक एकत्र का प्रस्ताव रखा है |

"CPSE ETF में भावी निधि प्रस्ताव 3 (FFO3), सरकार के बड़े विनिवेश कार्यक्रम का हिस्सा है, जिसकी घोषणा वित्त मत्रांलय द्वारा पहले ही की जा चुकी है।

हमें दृढ़ विश्वास है कि, निर्गम को इस समय जारी किए जाने से निवेशकों को CPSE ETF जैसे विविधतापूर्ण प्रस्तावों से लाभार्जन में मदद मिलेगी, जिसमें अपने-अपने क्षेत्रों में अग्रणी PSUs की एक सूची शामिल है। 


“CPSE ETF FFO3 की घोषणा करते हुए हमें अत्यंत प्रसन्नता का अनुभव हो रहा है। यह निवेशकों के लिए, विशेष रूप से खुदरा एवं सेवानिवृत्ति निधि के अंतर्गत,

भारत की विकास गाथा में लाभप्रद मूल्यांकन, न्यूनतम व्यय तथा सन्निहित छूट पर निवेश के आकर्षक अवसर प्रदान करता है"- श्री संदीप सिक्का, ईडी एवं सीईओ, रिलायंस निप्पॉन लाइफ एसेट मैनेजमेंट।


FFO3 एंकर निवेशकों, खुदरा निवेशकों, सेवानिवृत्ति निधि, QIBs, गैर-संस्थागत निवेशकों और विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FPIs) सहित सभी श्रेणियों के निवेशकों के लिए खुला है | 


FFO3 के हिस्से के रूप में, सभी श्रेणियों में निवेशकों को 4.5% की अग्रिम छूट का प्रस्ताव दिया जा रहा है।


निफ्टी सीपीएसई इंडेक्स के लाभांश की प्राप्ति लगभग 5.25% (स्रोत एनएसई: 31 अक्टूबर, 2018 तक के आंकड़ों के अनुसार) है,

जो ETF में निवेश की समग्र उपयुक्तता को और आगे बढ़ाता है। इसके अलावा, CPSE ETF का व्यय अनुपात 0.95 bps है, जो अत्यंत न्यूनतम है।


एंकर निवेशकों के लिए FFO3 के खुलने एवं बंद होने की तिथि 27 नवंबर, 2018 है तथा गैर-एंकर निवेशकों के लिए FFO3 के खुलने की तिथि 28 नवंबर, 2018 और बंद होने की तिथि 30 नवंबर, 2018 है।


चर्चा को जारी रखते हुए सिक्का ने कहा, "हम FFO3 में निवेश को सेवानिवृत्ति निधि तक विस्तृत करना चाहते हैं

तथा इसे सार्वजनिक उपक्रमों के विकास के माध्यम से अपने धन एवं लाभार्जन को सुरक्षित करने का एक अवसर मानते हैं - जिनमें से कुछ नवरत्न, महारत्न एवं मिनीरत्न के साथ-साथ अपने संबंधित क्षेत्रों की अग्रणी एवं लगभग एकाधिकार वाली कंपनियां शामिल हैं।"


DIPAM ने आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज लिमिटेड को FFO3 के लिए सलाहकार नियुक्त किया है।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Loading...
Loading...

Comments