नकली खाद फैक्ट्री का हुआ भंडाफोड़ कई कुंतल खाद हुई बरामद

नकली खाद फैक्ट्री का हुआ भंडाफोड़ कई कुंतल खाद हुई बरामद

रिपोर्ट-शिवशंकर तिवारी

रामसनेहीघाट बाराबंकी
तहसील रामसनेही घाट क्षेत्र में
बुधवार को जिला कृषि अधिकारी संजीव कुमार ने कोतवाली निरीक्षक आलोक मणि त्रिपाठी के साथ भिटरिया स्थित एक गोदाम पर छापा मारकर नकली पोटाश बनाने की फैक्ट्री से 12 सौ बोरी नकली पोटाश बरामद करके गोदाम सील कर दिया।


प्राप्त जानकारी के अनुसार भानु गुट के जिलाध्यक्ष सुजीत कुमार व अपुल वर्मा को कई दिन पूर्व से जनपद में नकली पोटाश खाद बेचे जाने की जानकारी मिल रही थी मंगलवार की रात सतरिख थाना क्षेत्र के भनौली गांव में भानु गुट के कार्यकर्ताओं ने एक पिकअप पर 55 बोरी पोटाश खाद बरामद करके पुलिस को सूचना दी थी मौके पर पहुंचे ।

थाना सतरिख अध्यक्ष ध्रुव कुमार द्वारा जब खाद लेकर आने वालों से पूछताछ की गई तो वह कोई पेपर नहीं दिखा सके। काफी सख्ती के बाद पकड़े गए कोटवा सड़क निवासी अनिल अंबरपुर निवासी मित्रसेन यादव तथा काशीपुर निवासी बृजेश पाल ने पकड़ी गई खाद को नकली बताते हुए इसे भिटरिया स्थित शिवकुमार के गोदाम से ले जाने की बात कहीं।

जिसके बाद जिला कृषि अधिकारी संजीव कुमार सतरिख कोतवाली निरीक्षक ने रामसनेहीघाट कोतवाली के सब इंस्पेक्टर पतिराम यादव तथा पुलिसकर्मी और किसान यूनियन के लोगों के साथ गोदाम पर छापा मारा तो वहां मौके पर कोई मौजूद नहीं मिला। उसके बाद अधिकारियों ने गोदाम पर अपना ताला लगाकर दो होमगार्डों को मौके पर ही तैनात कर दिया था।

बुधवार को जब अधिकारियों ने गोदाम का ताला खोला तो वह आश्चर्यचकित रह गए गोदाम में मिट्टी गेरू तथा नमक से बनाई गई 45 बोरी एम ओ पी की भरी हुई तथा करीब 1200 बोरियों में रखी नकली खाद बरामद हुई मौके पर मौजूद गोदाम मालिक के भाई सज्जन कुमार ने बताया कि उक्त गोदाम शिव कुमार का है ।

और वह नोएडा में रहते हैं सज्जन कुमार से जब नकली खाद फैक्ट्री के बारे में अधिकारियों ने जानकारी की तो उन्होंने इसे बाराबंकी के दीन दयाल मोहल्ला निवासी प्रमोद कुमार को किराए पर देने की बात कही। लेकिन इस संबंध में वह कोई कागजात नहीं दिखा सके। काफी मात्रा में नकली खाद बरामद होने से क्षेत्र में हड़कंप मच गया।



नकली खाद बरामदगी में की जाएगी सख्त कार्यवाही


जिला कृषि अधिकारी संजीव कुमार ने बताया कि नकली खाद बरामदगी के मामले में फैक्ट्री संचालक के विरुद्ध आवश्यक वस्तु अधिनियम के साथ ही

ब्रांड की डुप्लीकेसी करने तथा किसानों के साथ धोखाधड़ी करने का मुकदमा जिलाधिकारी से अनुमति लेने के बाद दर्ज कराया जाएगा।

Comments