मुसमरिया ग्रामवासियों ने ग्राम प्रधान पर लगाए भ्रष्टाचार का आरोप

मुसमरिया ग्रामवासियों ने ग्राम प्रधान पर लगाए भ्रष्टाचार का आरोप


- बिना ग्राम पंचायत सदस्यों की सहमति से हो जाते हैं प्रस्ताव पारित


मुसमारिया - 

ग्राम सिमरिया के ग्राम पंचायत सदस्यों व ग्रामीणवासियों ने ग्राम प्रधान पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए माननीय जिलाधिकारी को बिंदुवार शिकायती पत्र सौंपा। जिसमें बताया गया कि ग्राम प्रधान मुसमारिया अपनी दबंगई के चलते ग्राम विकास से संबंधित सभी प्रस्ताव में ग्राम पंचायत सदस्यों की अनदेखी कर गुप्त रूप से विकास कार्यों के प्रस्ताव को प्रस्तावित करा लेते हैं। जिससे वह सीधे तौर पर अधिकारियों के साथ मिलीभगत कर भ्रष्टाचार का कार्य करते हैं

इस संबंध में समस्त ग्राम वासियों ने एकमत होकर ग्राम पंचायत सदस्यों के साथ मिलकर जिलाधिकारी को एक शिकायती पत्र दिया। जिसमें बताया कि ग्राम पंचायत द्वारा अब तक जितने निर्माण कार्य किए गए हैं उसमें घटिया किस्म का पीला (तीन नंबर) का ईटा प्रयोग किया जा रहा है एवं शौचालय निर्माण में भी  मानक विहीन सामग्रियों का उपयोग कर शौचालय का निर्माण किया जा रहा है। साथ में खुले तौर पर यह भी कहते हैं कि जिसने हमको अपना समर्थन दिया सिर्फ उन्हीं को ही शौचालय मिलेंगे

जिसके कारण ग्राम मुसमरिया में कई पात्र आज भी शौचालय को दूर का सपना मानकर नहीं बना पा रहे हैं। इसके अलावा कन्या प्राथमिक विद्यालय मुसमरिया में वर्ष 2009 - 2010 में ग्राम प्रधान द्वारा शौचालय का निर्माण कार्य कराया गया था। उसी शौचालय की छत तोड़कर 1 फीट दीवाल ऊंची कर शौचालय को नवनिर्माण दिखाकर उसकी राशि का भुगतान करा लिया गया। इसी प्रकार शासन द्वारा सुंदरीकरण में किसी प्रकार का कोई भी कार्य आज तक नहीं किया गया।

सरदार दाऊ एवं देवेंद्र द्विवेदी के दरवाजे तय माप से कम इंटरलॉक का निर्माण कार्य 5 - 5 मीटर ही कराया गया और इस कार्य को पूरा दिखाकर भुगतान कराया गया इसके अलावा पंचायत भवन में शौचालय एवं बाउंड्री वॉल के निर्माण में व्यय राशि से अधिक का भुगतान अवैध तरीके से किया गया। तालाब खुदाई व भराई एवं सुंदरीकरण पर भी कई लाख रुपए का भ्रष्टाचार ग्राम प्रधान द्वारा किया गया जबकि इसमें किसी भी प्रकार का कोई कार्य नहीं किया गया।

जहां आवश्यक हैंडपंप रिबोर के कार्य को न कर उन हैंडपंपों को रिबोर किया गया जिनमें कम खर्चा करना पड़ता है और भुगतान पूरे रिबोर का अवैध रूप से करा लिया गया जिसके कारण आज भी ग्रामवासी पेयजल की समस्या से जूझ रहे हैं इसी प्रकार शासन द्वारा गौ सुरक्षा हेतु प्रदान राशि का पूर्ण रूप से अवैध तरीके से गबन कर लिया गया और जूनियर कन्या स्कूल में हो रही आंगनवाड़ी सेंटर रूम के सामने तालाब टूटा तथा घटिया सामग्री लगाई जा रही है तथा कन्या स्कूल की बाउंड्री के ईट को घर ले जाकर कार्य कराया जा रहा है

इसी प्रकार कुआं की मरम्मत कराया गया जिसमें लागत से 10 गुना एस्टीमेट बनाकर धनराशि का भुगतान करा लिया गया और अधिक सामान निकलवा कर बचे हुए सामान को अपने निर्णय में उपयोग में लाया जा रहा है तथा सरकारी नाली एवं निर्माण में घटिया किस्म का इंटर का प्रयोग करना जबकि सरकारी मानक के अनुसार हर कार्य में नंबर एक का ईट ए का प्रयोग किया जाना होता है

इस दौरान उपस्थित ग्राम वासियों में चंद्रपाल सिंह शंकर सिंह विशाल सिंह रामू सिंह विवेक राजू सिंह गब्बर सिंह कल्लू सिंह रामबाबू सिंह चंद्रशेखर सिंह राम मोहन अजीत सिंह प्रभात सिंह लाल सिंह सुमित सिंह जितेंद्र सिंह अमरपाल सिंह स्वराज सिंह रज्जन सिंह राकेश रामराजा भगत सिंह सत्येंद्र सिंह नरेश सिंह इंद्रपाल सिंह शैलेंद्र सिंह सौरभ गुप्ता माता प्रसाद रामबाबू रामसेवक सिंह राजू सिंह आदि ग्रामीण उपस्थित रहे।

Comments