नूरमपट्टी में सकुशल संपन्न में हुआ रामलीला, रावण वध के साथ समाप्त हुआ मंचन

नूरमपट्टी में सकुशल संपन्न में हुआ रामलीला, रावण वध के साथ समाप्त हुआ मंचन

 

विश्वामित्र द्वारा यज्ञ रक्षा हेतु राम को मांगने से लेकर रावण वध तक हुआ मंचन।

 

मंचन को देखने भारी संख्या में पहुंचे हुए लोग।

 

 

लंभुआ/सुल्तानपुर :-

श्री रामचंद्र जी के जीवन एवं उनके चरित्र की परिचर्चा से लोगों को उद्बोधन कराने एवं धर्म की तरफ आकृष्ट करने के लिए क्षेत्रों में जगह-जगह रामलीला मंचन के माध्यम से लोगों को प्रभु के जीवन लीलाओं को दिखाया जा रहा है। इसी कड़ी में लंभुआ तहसील अंतर्गत नूरमपट्टी गांव में पांच दिवसीय रामलीला का आयोजन किया गया। जिसमें विश्वामित्र द्वारा यज्ञ रक्षा हेतु राम लक्ष्मण को मांगने से लेकर रावण वध दिखाया गया। पांचों दिन भारी संख्या में दर्शक मौजूद रहे। लोगों ने रामलीला मंचन की भूरी-भूरी प्रशंसा भी की।

वही श्री शिवशक्ति आदर्श रामलीला समिति के कोषाध्यक्ष संतोष सिंह ने बताया कि इस रामलीला की शुरुआत आज से 17 वर्ष पूर्व स्वर्गीय राजेंद्र प्रसाद सिंह की अध्यक्षता में हुई थी। तत्कालीन अध्यक्ष श्री सिंह की मंशा थी कि क्षेत्रवासी भगवान राम के चरित्र को देखें और उन्हें अपने जीवन में उतार कर अच्छे एवं सफल जिंदगी की शुरुआत करें। रामलीला समिति के अध्यक्ष तिलकधारी पांडेय ने बताया कि हमारा प्रयास हमेशा रहता है कि आने वाली पीढ़ियां जो पाश्चात्य सभ्यता से जुड़ती जा रही हैं वह अपने धर्म की तरफ आकर्षित होकर भारत

की संस्कृति और सभ्यता को जीवंत रखें। रामलीला मंच का निर्देश करने वाले दारा सिंह ने बताया कि प्रत्येक कलाकार ने बहुत ही अच्छी तरीके से अपना अभिनय निभाया है। रामलीला समिति के हास्य कलाकार पप्पू सिंह चंचल रामलीला देखने आए सभी लोगों की जुबान से वाहवाही बटोरते दिखे। कार्यक्रम में रामलीला समिति को राम का अभिनय कर रहे कल्लू सिंह ने लगभग 15000 के वस्त्र दिए। रामलीला मंचन में मनीष सिंह डिंपल सिंह राधे कृष्ण पांडे नितिन तिवारी मोनू शर्मा के साथ-साथ गांव के ही बच्चों द्वारा अभिनय किया गया। कार्यक्रम में रमेश सिंह,  भगवती सिंह, नंदन सिंह, राजन सिंह, मुन्ने पांडेय, संगम सिंह, लट्टू विश्वकर्मा, शुभम सिंह, चंदन सिंह राधेश्याम शर्मा सचिन श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे।

Comments