खबर छापने पर खुलेआम पत्रकार को ग्राम प्रधान दे रहा है धमकी  

खबर छापने पर खुलेआम पत्रकार को ग्राम प्रधान दे रहा है धमकी  
  • प्रधान की मनमानी का शिकार हो रहे विकास खंड पूरनपुर की ग्राम पंचायत कबीरपुर कसगंजा के ग्रामीण
  • ग्राम प्रधान की तानाशाही का शिकार होे रहे ग्रामीण 
  • पूरनपुर विकास खण्ड के कबीरपुर कसगंजा क्षेत्र का मामला
  • ग्राम प्रधान वकालत के दम पर कर रहे दबंगई 
  • अखबार में भ्रष्टाचार की खबर प्रकाशित होने पर संपादक को नोटिस भेजकर दिया धमकी
  • ग्रामीणों का आरोप ग्रामसभा में नहीं हुआ सड़क और नालियों का निर्माण कार्य
  • बजबजाती नालियों से बढ़ रहा संक्रामक रोगों का खतरा
  • प्राथमिक विद्यालय के छात्रों को भी कीचड़ युक्त रास्ते से होकर जाना पड़ता है विद्यालय
  • ग्राम पंचायत अधिकारी और प्रधान मिलकर कर रहे भ्रष्टाचार
  • मूलभूत सुविधाओं से वंचित हो रहे ग्रामीण
  • दिए गए नोटिस में रजिस्ट्रेशन नंबर और मोबाइल नंबर अधूरा
  • सूत्रों के मुताबिक कुछ कथित पत्रकारों के साथ प्रधान की मिलीभगत का गंभीर आरोप
  • क्या प्रधानी और वकालत एक साथ किया जा सकता है?
  • गांव के विकास कार्यों को रोककर अपने व्यक्तिगत वकालत की प्रैक्टिस जारी

 

कसगंजा पीलीभीत! 

ग्राम पंचायत के अंतर्गत ग्रामीणों को होने वाली समस्याओं से रूबरू कराने वाले पत्रकार के खिलाफ गलत तरीके से झूठे आरोप लगाकर लूट और रेप का मुकदमा दर्ज कराने का षड्यंत्र रच रहा ग्राम प्रधान. पीलीभीत जिले के कसगंज इलाके से स्वतंत्र प्रभात हिंदी दैनिक के पत्रकार ने जब स्थानीय  सैकड़ों लोगों की आवाज उठाने की कोशिश की 

तो ग्राम प्रधान ने कुछ दबंगों के साथ मिलकर पहले तो पत्रकार के ऊपर दबिश डालते हुए संस्था के नाम नोटिस जारी करवा दिया और पत्रकार को पुरजोर डराने धमकाने की कोशिश लगातार कर रहा है. पत्रकार ने कहा कि हमारे खबर के खिलाफ अगर आपके पास सबूत हो तो साक्ष्य के तौर पर प्रस्तुत करें हम उसका खंडन भी चला सकते हैं 

जिससे हम अपनी बातों को वापस ले लेंगे लेकिन ग्राम प्रधान धमकी देने से बाज नहीं आ रहा है पत्रकार और उसका पूरा परिवार डर के साए में जिंदगी जीने को मजबूर हो गया है. प्रधान ने कहा कि तुम्हें जो छापना है छापों, लेकिन मैं तुम्हें और तुम्हारे संस्थान को कर दूंगा बर्बाद. 

 एक तरफ भले ही प्रधानमंत्री द्वारा  स्वच्छ भारत अभियान को सफल बनाने के लिए तमाम प्रयास किए जा रहे हैंl लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही है. ग्राम कसगंजा  के बाशिंदे आज भी मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैंl यह खबर स्वतंत्र प्रभात में छपी थी 

लेकिन इस पर कोई कार्यवाही नहीं की गई उल्टे ग्राम प्रधान ने अखबार को ही नोटिस जारी कर दिया हैl गांव के आरएनबी स्कूल एवं उच्चतर माध्यमिक विद्यालय को जाने वाले रास्ते पर नाली व सड़क का निर्माण ना होने से ग्रामीणों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा हैl 

वहीं वार्ड नंबर 7 में संतराम सक्सेना के घर से मुरारी लाल शर्मा के घर तक रोड एवं नाली का निर्माण नहीं कराया गया हैl जिससे राहगीरों एवं स्थानीय ग्रामीणों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है  लेकिन ग्राम प्रधान व ग्राम पंचायत सचिव इस और कोई ध्यान नहीं दे रहे है lउच्चतर माध्यमिक विद्यालय  को  जाने वाले छात्र-छात्राओं को कीचड़ भरे रास्तों से गुजरना पड़ रहा हैl 

सफाई कर्मचारी पर प्रधान की मेहरबानी होने के कारण सफाई करमचारी गांव मे नालियों की सफाई नहीं करता है l ग्राम प्रधान के मोहल्ले में एवं उनके करीबियों के यहां ही सफाई होती है. प्रशासनिक अधिकारी भी इस ओर से मुंह फेरे हुए हैं लोकसभा के चलते प्रत्याशी को सुधारने के लिए कई वादे कर चुके हैं लेकिन गांव की हालत बद से बदतर होती जा रही है. 

गांव की सफाई व्यवस्था लड़खड़ा गई है कई स्थानों पर जलभराव होने के कारण मच्छरों का प्रकोप बढ़ता जा रहा है स्थानीय ग्रामीणों का कहना है कि ग्राम प्रधान इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं ग्रामीणों ने मांग की है कि जल्द से जल्द नाली एवं सड़कों का निर्माण कराया जाए गांव कसगंजा के रहने वाले ग्राम पंचायत सदस्य वार्ड नंबर 7 रमेश चंद्र मिश्रा ने बताया कि वार्ड नंबर 7 के नाली एवं सड़कों के लिए कई बार जन प्रतिनिधियों से एवं प्रशासनिक अधिकारियों से गुहार लगा चुके हैं उनका कहना है कि शिकायत करने के बाद भी इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया गया है l  

 वहीं गांव के लल्ला मियां ने बताया कि गांव में विकास कार्य काफी धीमी गति से  चल रहा है. स्थानीय लोगों की इन समस्याओं पर ध्यान आकर्षित करने की कोशिश की जाए तो जान से मार देने की धमकी तक दी जाती है ऐसे में पत्रकार या तो समाज में हो रही गलतियों को होने दे या तो पत्रकारिता छोड़ दे. lरिपोर्ट कृष्ण गोपाल मिश्रा

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments