गोविंद का इंटरनेशनल बॉडी बिल्डर बनने का सपना हुआ चूर-चूर, खुलेआम कर दिया मर्डर

गोविंद का इंटरनेशनल बॉडी बिल्डर बनने का सपना हुआ चूर-चूर, खुलेआम कर दिया मर्डर

ना जाने देश की राजधानी दिल्ली की पुलिस को क्या हो गया है. आए दिन दिल्ली का कोई ना कोई इलाका गोलियों की आवाज़ से गूंजने लगता है. आए दिन बदमाश सरेआम किसी की भी हत्या करके सनसनी फैला देते हैं. आए दिन दिल्ली की सड़कों पर गैंगवार हो रही है. लेकिन दिल्ली पुलिस वारदात होने के बाद आती है और आरोपियों को सलाखों के पीछे पहुंचाने का दावा करने लगती है. लेकिन अपराधियों को हौसले बुलंद हैं. ताजा मामला मीत नगर का है. जहां एक बॉडी बिल्डर को गोलियों से भून दिया गया.

अबकी बार बदमाशों ने उत्तर पूर्वी दिल्ली में कोहराम मचाया. वहां के मीत नगर इलाक़े में गोविंद नामक एक बॉडी बिल्डर को गोलियों से भून डाला गया. बदमाशों ने पहले उस पर अंधाधुंध गोलियां चलाई और फिर उसे चाकू से भी गोद डाला. ऐसा लग रहा था कि कातिल गोविंद को किसी भी सूरत में जिंदा नहीं छोड़ना चाहते थे. पूरा इलाका गोलियों की आवाज़ गूंज उठा. इस दौरान वहां से गुजरने वाले एक राहगीर को भी इस हमले में गोली लगी और उसकी मौत हो गई.

उस राहगीर की पहचान आकाश के रूप मे हुई. मौके पर ही गोविंद और आकाश ने दम तोड़ दिया. हमलावर वहां से भाग निकले. सड़क पर गोविंद और आकाश तड़पते रहे. किसी ने उनकी मदद नहीं की. हालांकि कुछ लोगों ने हमलावरों के जाने के बाद मोबाइल से उनका वीडियो ज़रूर बनाया.

पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिए गए. गोविंद के परिजनों ने पुलिस को बताया कि उनके घर के पास रहने वाले मटरु लाला ने अवनीश और अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर उनके बेटे गोविंद का मर्डर किया है. परिजनों के अनुसार कातिलों ने पहले गोविंद को 4-5 गोलियां मारी और फिर उसे कई बार चाकुओं से गोद डाला.

पुलिस ने छानबीन शुरू की. हत्या की वजह पुरानी रंजिश निकली. पुलिस को पता चला कि वारदात के वक्त हत्यारे गोविंद का पीछा कर रहे थे. मौका पाते ही उन्होंने उसे गोलियों से भून डाला. 26 साल का गोविंद बॉडी बिल्डर कॉम्पिटीशन की तैयारी कर रहा था. उसके पिता एक कारोबारी हैं. बड़ा भाई दिल्ली की एक कम्पनी में इंजीनियर है. जबकि उसकी छोटी बहन अभी पढ़ाई कर रही है. गोविंद के परिजनों के मुताबिक वह मिस्टर दिल्ली और मिस्टर बिहार का ख़िताब भी जीत चुका था. गोविंद का सपना इंटरनेशनल बॉडी बिल्डर बनने का था.

वारदात के बाद से ही पुलिस कत्ल की गुत्थी सुलझाने की कोशिश में लगी थी. पुलिस को नामजद शिकायत मिल चुकी थी. अब पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही थी. इसी दौरान पुलिस को आरोपियों के बारे में अहम जानकारी मिली. और उस जानकारी के बूते पर पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ़्तार कर लिया. जिनकी पहचान अमन, अंकित और आशु के रूप में हुई है.

इस हत्याकांड का मास्टरमाइंड अनिल उर्फ़ लाला है, जो हमले के बाद से ही अपने परिवार समेत फरार है. पुलिस को पता चला कि उस दिन आरोपी अनिल उर्फ़ लाला ने अपने घर में साथियों के साथ शराब पार्टी की थी. और फिर उनके साथ मिलकर इस वारदात को अंजाम दिया था. अनिल ने अपने साथियों से कहा था कि गोविंद का काम तमाम करना है और वो किसी भी हालत में बचना नहीं चाहिए.

पुलिस को पता चला कि हमले के मास्टरमाइंड अनिल ने पहले तो गोविंद की गर्दन पर गोली मारी और उसके साथ मौजूद अन्य साथियों ने भी उस पर गोलियां बरसा दीं. पूरा इलाक़ा गोलियों की तडतडाहट से गूंज रहा था. पुलिस ने आरोपियों को पकड़ने के लिए 7 स्पेशल टीम बनाई हैं. अब पुलिस बाक़ी आरोपियों की तलाश कर रही है. लेकिन एक बार फिर इस वारदात ने दिल्ली पुलिस के दावों को हवा में उड़ा दिया है.

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments