जिम्मेदारों की लापरवाही से पानी की टंकी बनी शोपीस लोग पानी के लिए तरस रहे

जिम्मेदारों की लापरवाही से पानी की टंकी बनी शोपीस लोग पानी के लिए तरस रहे

रिपोर्ट-डीके सिंह

टिकैतनगर-बाराबंकी
विकास खंड पूरेडलई क्षेत्र की ग्राम पंचायत कस्बा इचौली में बीते दस वर्षों से अधिक समय से सूखा पड़ा वाटर टैंक प्रशासनिक अधिकारियों को मुंह चिढा रहा है। इस अधूरी योजना को पूर्ण बता कर ग्राम पंचायत के सुपुर्द कर दिया गया लेकिन ग्रामीणों को स्वच्छ पानी का आज भी मयस्सर नही है।


विकास खंड पूरेडलई क्षेत्र में ग्राम कस्बा इचौली ब्लाक की सबसे बड़ी ग्राम पंचायतों में से एक है।तकरीबन 20 से 25 हज़ार आबादी वाली ग्राम सभा के ग्रामीणो द्वारा घर घर जलपूर्ति के उद्देश्यसे शासन द्वारा दस वर्ष पूर्व पानी की टंकी का निर्माण करवाया गया था ।

और निर्माण कार्य पूर्ण दिखाकर इसे ग्रामीणों को सुपुर्द कर दिया गया लेकिन 10 वर्ष से अधिक समय बीत जाने के बाद भी आज तक केवल 20 प्रतिशत पाईप लाईन बिछाई जा सकी है और 80% प्रतिशत लोगों के यहाँ अब तक पाइप लाइन नही बिछाई गई।

जिससे ग्रामीणो को स्वच्छ पानी नसीब नहीं हो रहा है। स्मरण रहे कि ग्राम पंचायत कस्बा इचौली में राष्ट्रीय ग्रमीण पेयजल परियोजना के तहत का निर्माण 2008 - 2009 मे कराया गया था इस योजना का उद्देश था की गांव की गरीब जनता को स्वच्छ पेयजल उप्लब्ध कराना था।

किन्तु कई लाख की लागत से वाटर टैंक निर्माण वा बोरिंग कराने के बाद भी 80% प्रतिशत ग्राम सभा मे ना तो पाईप लाईन बिछाई गई जिससे ग्रामीणों को उम्मीद थी कि अब हम लोगो को शहरों की तरह स्वच्छ पानी नसीब होगा लेकिन अब तक मयूसी रही ग्रामीणों दुआरा सरकार से सवालिया निशाना लगाया जा रहा है पानी की तरह जहा लाखो का धन खर्च करने के बाद भी ग्रामीणो को शुद्ध पानी नही नसीब हो रहा है।

ग्रामीणों ने जन प्रतिनिधि से लेकर प्रशासनिक अधिकारी वा ग्रामप्रधान से शिकायत की लेकिन कोई सुनने को तैयार नही है गरमी के दस्तक देते ही लोग परेशान रहते है ग्रामीण को रास्ते का आवागमन रहता हे ना तो चौराहो पर कोई पानी का इन्तज़ाम है।

लेकिन कस्बा इचौली में बनी पानी की टंकी बेमतलब साबित हो रही है और इसे शुरू कराए जाने की जहमत नहीं उठाई जा रही है। ग्रामीणों ने पानी की टंकी शुरू कराए जाने की मांग शासन से की है।

Comments