अस्पताल में आने वाले मरीजों के साथ चिकित्सक सद्भाव के साथ अच्छा बर्ताव करें-जिलाधिकारी

अस्पताल में आने वाले मरीजों के साथ चिकित्सक सद्भाव के साथ अच्छा बर्ताव करें-जिलाधिकारी

अस्पताल में आने वाले मरीजों के साथ चिकित्सक सद्भाव के साथ अच्छा बर्ताव करें-जिलाधिकारी

सन्तोष तिवारी (रिपोर्टर)

भदोही। जिलाधिकारी राजेंद्र प्रसाद ने कहा कि चिकित्सक सौभाग्यशाली होते है कि उन्हे समाज के लोग ईश्वर का दूसरा स्वरूप मानते है, कि ऐसी स्थिति में यदि चिकित्सक अपने दायित्वो का निवर्हन निष्ठा एवं ईमानदारी के साथ नही करते है तो ईश्वर भी उन्हे माफ नही कर सकता है। जिला चिकित्सालय में चिकित्सकगण नियमित अपने समय से पहॅूच कर दूर दराज ग्रामीण अंचलो से आने वाले मरीजो का उपचार करने में शिथिलता एवं लापारवाही न बरते अन्यथा ऐसे चिकित्सको के कार्यशैली को गम्भीरता से लेते हुए उनके विरूद्ध कठोर कार्यवाही होगी।


 जिलाधिकारी राजेंद्र प्रसाद ने महाराजा चेतसिंह जिला चिकित्सालय के औचक निरीक्षण के दौरान विभिन्न वार्डो में जाकर मरीजो से रूबरू होते हुए, उन्हे शासन द्वारा मिल रहे सुविधाओं दवा आदि की जानकारी कर कर्मियो के प्रति चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया। जिलाधिकारी ने पूरे अस्पताल परिसर का भ्रमण कर सफाई व्यवस्था पर  काफी नाराजगी व्यक्त की खासतौर पर शौचालय में साफ सफाई ना होना और नल से पानी न आना ।  

जिलाधिकारी ने कहा कि अस्पताल में आने वाले मरीजो के साथ चिकित्सक सद्भाव के साथ अच्छा बर्ताव करें, तथा उन्हे शासन द्वारा निर्धारित दवाओ के अतिरिक्त जो सुविधाएं अनुमन्य है वे प्रत्येक दशा में मिलती रहे इसमें शिथिलता कत्तई नही बर्दाश्त होगा। जिलाधिकारी ने ब्लड बैक कक्ष का निरीक्षण करते हुए  चिकित्साधिकारी को निर्देश दिया है कि रक्त दान के लिए जनपद के स्वयं सेवी संस्थाओ, रोटरी क्लब आदि का भी सहयोग लिया जाय, इस क्रम में  चिकित्साधिकारी को निर्देश दिया है कि ऐसे लोगो से पहल करे कि इस पुनित कार्य में सक्रिय होकर बढ़ चढ़ कर भागीदारी निभाये, उन्होने यह भी निर्देश दिया है कि अस्पताल में साप काटने/कुत्ते काटने की दवाऐ प्रत्येक दशा में उपलब्ध रहने चाहिए, तथा ऐसे मरीजो को अस्पताल से मायूस होकर कत्तई बाहर न जाना पडे़।

जिलाधिकारी द्वारा कुपोषित वार्ड का निरीक्षण के दौरान कुपोषित वार्ड में मरीज ना पाए जाने खासी नाराजगी व्यक्त की गांव में चौपाल व भ्रमण के दौरान कुपोषित बच्चे पाए जाते हैं उक्त कड़ा निर्देश देते हुए जिला कार्यक्रम अधिकारी व आंगनवाड़ी कार्यकर्ती व सहभागिता व आशा बहुओं को निर्देश दिया की गांवों में उक्त जांच कर बच्चों को जिला अस्पताल में उन्हें इलाज का लाभ दिलाएं।

Comments