अतिक्रमणकारी उच्चन्यायालय और योगी सरकार के फरमान की उड़ा रहें हैं खुलेआम धज्जियाँ जिम्मेदार मौन

अतिक्रमणकारी उच्चन्यायालय और योगी सरकार के फरमान की उड़ा रहें हैं खुलेआम धज्जियाँ जिम्मेदार मौन

रिपोर्ट-डी.के. सिंह

टिकैतनगर-बाराबंकी
तहसील रामसनेही घाट क्षेत्र की ग्राम पंचायतों की सुरक्षित जमीनो पर किए गए अवैधअति क्रमण के मामले में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ का आदेश बेअसर साबित हो रहा है और अवैध अति क्रमणकारियों के हौसले बुलंद हैं।

इसी क्रम में ग्राम भटपुरवा मजरे बघौली में खलिहान गौचरी घुर गड्ढे आदि की सुरक्षित जमीनो पर किए गए अवैध कब्जे की शिकायत जिलाधिकारी से कर अवैध अतिक्रमण हटवाए जाने की मांग की गई है।

मामला थाना टिकैतनगर क्षेत्रके ग्राम भटपुरवा मजरे बघौली का है।इस ग्राम में अति क्रमण कारियों ने एकछत्र राज्य स्थापित कर लिया है।

अतिक्रमण कारियों के लिए माननीय न्यायालय का आदेश व मुख्यमंत्री का आदेश कोई मायने नहीं रखता क्योकि अतिक्रमणकारियो ने अपना खुद का कानून बना रखा है।

जबकि खलिहान गौचरी घुर गड्ढे आदि की सुरक्षित जमीनों पर अति क्रमण कारियों ने अवैध रूप से कब्जा कर स्थाई व अस्थाई निर्माण कर अपना राज स्थापित कर रखा है।

ग्रामीणों का आरोप है कि गांव भटपुरवा निवासी हौसिल कुमार पुत्र दर्शन ने खलिहान की सुरक्षित भूमि पर अवैध रूप से कब्जा कर रखा है ।

जिसके चलते ग्रामीणों को फसल तैयार करने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है लेकिन खलिहान की सुरक्षित जमीन से अवैध कब्जा नहीं हटवाया जा रहा है।

जबकि माननीय उच्च न्यायालय व प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ का आदेश है कि किसी भी दशा ग्राम पंचायतों की सुरक्षित जमीनो पर कब्जा न होने पाए और यदि कहीं भी सुरक्षित भूमि पर अवैध रूप से कब्जा हुआ है तो उसे तत्काल प्रभाव से हटाया जाए लेकिन भटपुरवा में अति क्रमण कारियों के समक्ष न्यायालय व मुख्यमंत्री का आदेश बेमतलब साबित हो रहा है।

इस मामले की स्थलीय निरीक्षण पर ज्ञात हुआ कि वास्तव मे भटपुरवा में दर्जनों लोगों ने विशेषकर दलित वर्ग के लोगों ने खलिहान गौचरी घूर गड्ढे आदि की सुरक्षित जमीनो पर अवैध रूप से कब्जा कर रखा है और इस अवैध अतिक्रमण के लिए हल्का लेखपाल द्वारा अतिक्रमणकारियो को चेतावनी भी दी जा चुकी है अधिक तर अतिक्रमणकारी पूर्व ग्राम प्रधान जसवंत वर्मा के चहेते हैं तो वही इस विशाल अतिक्रमण को हटवाना केवल लेखपाल की बस की बात नहीं क्योकिअतिक्रमण हटवाने में उप-जिलाधिकारी की संस्तुति तथा पुलिस बल का सहयोग होना चाहिए और इसीलिएअतिक्रमण नहीं हट पा रहा है।जिसके कारण ग्राम भटपुरवा के कुछ लोगों द्वारा हल्का लेखपाल पर दबाव बनाया जा रहा है।

इस संबंध में लेखपाल ने बताया कि अति क्रमण हटवाने के लिए उन पर अनावश्यक आरोप लगाया जा रहा है जबकि वास्तविकता यह है कि उनके द्वारा पहले ही अतिक्रमण हटवाने के लिए आवश्यक लिखा पढी की जा चुकी है। उन्हे क्या पता कि कौन किस जाति या वर्ग का है। उनको अपनी ड्यूटी निभानी है।

सबसे बड़ी बात यह है शिकायतकर्ती महिला द्वारा शिकायत की जा रही है उसने स्वयं बंजर की जमीन पर कब्जा करवाने की बात कही जा रही है जबकि बंजर की जमीन भी सरकारी ही होती है।

फिलहाल ग्रामीणों ने जिलाधिकारी को प्रार्थना पत्र भेजकर खलिहान की जमीन से अवैध कब्जा हटवाए जाने की मांग की है।

Comments