बृज मण्डल भगवान का धाम है-धन्वन्तरि जी महाराज

बृज मण्डल भगवान का धाम है-धन्वन्तरि जी महाराज

 

बल्दीराय,सुल्तानपुर-

भगवान को धन नही मन भेंट करना चाहिए।क्योंकि संसार मे जो कुछ है वो भगवान का ही है। बृज वासी बृंदावन छोड़कर कहीं अन्यत्र नही जाते क्योंकि उन्हें विश्वास है कि वृंदावन धाम में प्राण छूटने से मोक्ष मिलता है।

किशोरी जी की कृपा के बगैर किसी को  वृन्दावन में रहने का सौभाग्य नही मिलता।ये बाते सात दिवसीय संगीतमय श्रीमद्भागवत कथा में कथा व्यास धन्वंतरि जी महाराज ने कहीं।तेरे रंग में रंगा जग सारा मिले।मैं जहां भी रहूं बरसाना मिले ,जैसे भजनों पर  भक्त झूमते रहे।

वृन्दावन धाम से पधारे कथा व्यास धन्वन्तरि जी महाराज ने कथा के छठवें दिन भगवान  श्री कृष्ण के जीवन से जुड़ी लीलाओं का सुंदर वर्णन किया।कथा व्यास ने आज रुक्मणी विवाह का विशद  वर्णन करते हुए  रास लीला व उन अनेक सन्तो के जीवन का  वर्णन किया जिन्होंने आजीवन वृन्दावन में रहने प्रण किया है।

मुख्य यजमान उदयभान सिंह ने व्यास पीठ की आरती उतार कर पूजन वन्दन किया।इस मौके पर पूर्व प्राचार्य श्याम बक्श सिंह,स्वामी बक्श सिंह,राकेश सिंह डॉ ए के सिंह,नरेंद्र सिंह,गोविंद सिंह, कवि सिद्धादास प्रेमी,सीताराम सिंह,श्रीमती सन्ध्या सिंह,राज कुमारी सिंह,प्रगति सिंह सहित तमाम भक्तगण मौजूद रहे।

Comments