50 सालों की तुलना में सबसे स्वच्छ होगा संगम का जल: सीएम योगी

50 सालों की तुलना में सबसे स्वच्छ होगा संगम का जल: सीएम योगी

50 सालों की तुलना में सबसे स्वच्छ होगा संगम का जलसीएम योगी

प्रयागराज कुंभ मेले में गुरुवार को मीडिया सेंटर का उद्घाटन करने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, दुनिया के सबसे बड़े समागम को भव्य और दिव्य बनाने का सरकार प्रयास कर रही है।

इसलिए संगम में इतना स्वच्छ और निर्मल जल मिलेगा, जितना पिछले पचास वर्षों में किसी भी कुंभ मेले में उपलब्ध नहीं था।

सीएम ने कहा कि आंकड़े बताते हैं कि, पहली बार राज्य सरकार के अथक प्रयासों से गंगोत्री से लेकर प्रयागराज तक के नालों को बगैर ट्रीटमेंट के गंगा में गिरने से रोका गया है।

इसलिए चार मार्च तक चलने वाले कुंभ मेले में साधु-संतों के साथ ही आम श्रद्धालुओं को संगम में स्वच्छ जल मिलेगा।

यही नहीं कुंभ के बाद भी गंगा की अविरलता बनी रहेगी, क्योंकि सरकार इस पर 26 हजार करोड़ खर्च कर रही है।

 

उन्होंने कहा कि कुंभ में मकर संक्रान्ति के स्नान के बाद 17 जनवरी को राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद भी प्रयागराज कुंभ मेले में आएंगे। राष्ट्रपति महर्षि भारद्वाज की प्रतिमा का अनावरण करेंगे।

सीएम ने कहा कि, कुंभ की ब्रांडिंग में मीडिया का पूरा सहयोग मिला है, जिससे मेला पूरी भव्यता और दिव्यता से आगे बढ़ रहा है। सीएम योगी ने कहा कि, डेढ़ वर्ष पूर्व ही कुम्भ मेले की कार्ययोजना राज्य सरकार ने तैयार कर ली थी।

केंद्र सरकार के लिए कुंभ का आयोजन बड़ी उपलब्धि इसलिए भी है, क्योंकि हजारों साल बाद प्रयायराज कुंभ को वैश्विक मान्यता मिल रही है।

 

सीएम योगी ने कहा कि, 15 दिसंबर को 71 देशों के राजनयिकों ने भी यहां पर आकर कुंभ मेले को वैश्विक मान्यता दी है। पहली बार कुंभ मेले की शुरुआत गंगा मां की प्रार्थना से पीएम नरेन्द्र मोदी ने किया है।

यह कुम्भ देश और दुनिया में स्वच्छ और सुरक्षित कुंभ का संदेश दे सके, इसके लिए निरन्तर प्रयास हो रहे हैं। स्वच्छ और सुरक्षित कुंभ ही दिव्य और भव्य कुंभ की परिकल्पना को साकार करेगा।

 

सीएम ने कहा कि, पवित्र गंगा और यमुना के साथ ही अदृश्य सरस्वती के दर्शनों के लिए करोड़ों लोग यहां खिंचे आते हैं। साढ़े चार सौ वर्षों के बाद अक्षयवट और सरस्वती कूप श्रद्धालुओं के लिए खोला गया है।

पहली बार प्रयागराज कुंभ में जल, थल और नभ से आवागमन की सुविधा प्रदान की जा रही है। सीएम ने कहा कि, कुंभ मेले में 15वें अप्रवासी भारतीय सम्मेलन में वाराणसी आने वाले प्रवासी भारतीय भी कुंभ मेले में आएंगे।

सीएम ने कुंभ के आयोजन को सफल बनाने के लिए मीडिया के साथ ही प्रयागराज वासियों से भी सहयोग की अपील की है।

 

मिलेगा इतना जल

इस बार टिहरी बांध से 2000 क्यूसेक और नरोरा बैराज से 5000 क्यूसेक जल दिया जाएगा। कुंभ मेला के मुख्य स्नान पर्व मौनी अमावस्या पर 1000 क्यूसेक अतिरिक्त जल की आपूर्ति सुनिश्चित की जाएगी।

गंगा नदी में जल की आपूर्ति भीमगोडा बैराज, मध्य गंगा बैराज, नरोरा बैराज और कानपुर बैराज द्वारा नियंत्रित की जाएगी।

आकस्मिक परिस्थितियों में अतिरिक्त जल की आपूर्ति रामगंगा और शारदा सहायक नहर से निकलने वाले भदरी स्केप से सुनिश्चित की जाएगी।

 

अजीत सोनी, प्रयागराज

Comments