प्रयागराज में नवयुवतियों की लाश मिलने का सिलसिला जारी,लोगो में दहशत

प्रयागराज में नवयुवतियों की लाश मिलने का सिलसिला जारी,लोगो में दहशत

‌आठ दिन के अंदर चार  युवतियों की लाश मिलने से सनसनी।

‌किसी भी यु वती की लाश की शिनाख्त न होने से  दहशत।

‌ पुलिस की कार्य प्रणाली  पर उठे सवाल।
‌ 


‌ प्रयागराज -

‌आस्था विश्वास और धर्म की नगरी प्रयागराज में अनैतिक पाप बढ़ जाने से लोगों में दहशत पैदा हो गया है और पुलिस की कार्यप्रणाली पर लोग उंगली उठा रहे हैं।


‌पिछले 8 दिनों में चार अज्ञात युवतियों की लाश मिलने से पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान खड़े हो गए।

शंकरगढ़ थरवई हडिया में 18 से 20 वर्ष की युवतियों की लाश सुनसान स्थानों पर मिलने का मामला अभी हल नहीं हो पाया था कि आज  पुनः झूसी थाना क्षेत्र में रेलवे स्टेशन के पास एक 20 वर्षीय युवती की लास रेलवे ट्रैक पर पाई गई प्रत्येक मामले में पुलिस सूचना मिलने पर मौके पर जाती है और लाश को पोस्टमार्टम में अज्ञात दर पता दिखाकर भेज देती है।

लेकिन घटना के तह तक जाने के बजाय वह अपराध तब तक नहीं मानती जब तक उस युवती की शिनाख्त नहीं हो जाती पहली घटना शंकरगढ़ में हुई
‌जहां एक युवती की लाश शंकरगढ़ हाईवे पर सड़क के किनारे में मिली दूसरी लाश थरवई थाना क्षेत्र के  समाधि पुर गांव के पास।

तीसरी  युवती की लाश हडिया के उतराव  थाना क्षेत्र में  मिली। इन सब मामलों में पुलिस पिछले 8 दिनो से उलझी हुई थी की आज चौथी लाश झूसी रेलवे स्टेशन के पास रेलवे ट्रैक पर मिली।
‌आश्चर्य की बात यह है कि यह जितनी भी लाशे मिली है सब यूवतियो की उम्र 20 वर्ष से अधिक नहीं है जिससे यह आशंका है कि इनके साथ व्याभिचार करने के बाद इनकी हत्या करके फेक दिया गया।
‌यहां बताना जरूरी है कि इसके पूर्व एक दिन में 6 हत्या होने के बाद तत्कालीन एसएसपी अतुल शर्मा हटा दिए गए थे और बाद में निलंबित भी कर दिए गए थे।

लेकिन अज्ञात युवतियों की सिलसिलेवार लाश मिलने से पुलिस के ऊपर कोई असर नहीं दिखाई पड़ रहा है।
‌सबसे बड़ी बात यह है कि सभी लासे मुख्य मार्गो पर ही फेकी हुई मिली है जिससे यह तो साबित होता है कि किसी वाहन से यह लाशे वहा तक लाई गई और फ़ेक कर अपराधी चले गए।जिससे प्रयाग राज की पुलिसिंग पर सवाल उठ रहे है कि पुलिस का खोफ नहीं रह गया ? क्या रात में थाने कि पुलिस रोड पर गश्त नहीं करती।
‌इन लाशो की बरामदगी से अभी तक उनकी पहचान करने के लिए किसी का न आना यह संकेत प्रकट कर रहा है कि यह प्रयागराज जनपद की युवतियां नहीं हो सकती वरना कोई न कोई परिचित या परिवार का सदस्य दावा प्रकट करता।लेकिन प्रयागराज की छबि तो अपराधियों कि चारागाह जैसी बनती जा रही है
‌ पुलिस सूत्रों कहना है कि नए कप्तान ने यह आदेश जरूर दिया है कि राज मार्गो पर गश्त तेज किया जाय। और वाहनों कि जाँच प्रतिदिन किया जाय।जिससे बाहरी जनबड्से  हत्या या ब्यभिचर करके हमारे जनपद में लाश ना फेकी जा सके।

प्रयागराज से दयाशंकर त्रिपाठी की रिपोर्ट।

Comments