बड़े किसानों के खेतों में जलती रहती है पराली जिम्मेदार खामोश

बड़े किसानों के खेतों में जलती रहती है पराली जिम्मेदार खामोश

मोटी रकम लेकर लेखपाल लगा देते हैं रिपोर्ट की किसी दूसरे ने लगा दिया आग

 रायबरेली / बछरावां.

 जिले के विभिन्न थाना क्षेत्रों में आए दिन पराली जलाने का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है जिम्मेदार सब कुछ जानने के बावजूद भी रहते हैं खामोश खेतों में  पराली ना जले इसके लिए शासन  के  सख्त निर्देश के बावजूद भी बड़े किसान अपने खेतों में दिनदहाड़े पराली जलाने से बाज नहीं आ रहे हैं पराली जलाने वाले किसानों पर कड़ी कार्यवाही करने के बजाए लेखपाल व पुलिस उन्हें बचाने की भरपूर कोशिश करती है

 एसडीएम के आदेश के बावजूद भी लेखपाल व पुलिस बड़े किसानों से मोटी रकम लेकर मामले की लीपापोती कर देते हैं पराली जलाने के अधिकतर मामलों में लेखपाल द्वारा किसानों से मोटी रकम लेकर झूठी रिपोर्ट लगाने की कई घटनाएं प्रकाश में आई हैं  किसान ने अपने खेत में पराली नहीं जलाई है

किसी दूसरे व्यक्ति ने जानबूझकर उसके खेत में पराली जला दी है पराली जलाने का ताजा मामला बछरावां थाना क्षेत्र के रामपुर मोहिद्दीन पुर में   रात के वक्त पराली जलाने का मामला प्रकाश आने आने पर एसडीएम को किसी ने जानकारी दी एसडीएम के आदेशानुसार क्षेत्रीय पुलिस वाले व लेखपाल  किसान से  मोटी रकम लेकर मामले को दबाने की कोशिश में लगे हुए हैं 

अधिकतर पराली जलाने के मामलों में यही देखा गया है कि लेखपाल के द्वारा पराली जलाने की खबर झूठी कह कर या किसान के खेत में किसी दूसरे अराजक तत्वों ने जानबूझकर आग लगा दी होगी किसान ने पराली नहीं जलाई है और मामला वहीं पर शांत हो जाता है

बड़े किसानों पर कार्यवाही ना होने के कारण रात  व दिन में पराली  जलती देखी जा सकती है बड़े किसान कि पहुंच किसी नेता विधायक  आदि से होने के कारण क्षेत्रीय पुलिस भी उनके खिलाफ किसी प्रकार की कार्यवाही करने से कतराती है ऐसे मामलों में ज्यादातर पराली जलाने के मामले झूठे हैं कहकर रिपोर्ट लगा दी जाती है रामपुर मोहिद्दीन में पराली जलाने के मामले में की जानकारी एसडीएम महराजगंज से प्राप्त की गई 

तो एसडीएम द्वारा बताया गया कि किसान को नोटिस जारी कर  दी गई है पराली जलाने वाले किसान के विषय में लेखपाल राजेंद्र कुमार भारती से स्वतंत्र प्रभात संवाददाता ने जानकारी मांगी तो  संवाददाता से लेखपाल ने झूठ बोला और बताया कि मैं ग्राम पंचायत रामपुर मोहिद्दीन पुर का लेखपाल नहीं हूं इस विषय में ग्राम पंचायत रामपुर मोहिद्दीन पुर के लेखपाल से आप जानकारी प्राप्त करें  जबकि यह  लेखपाल ने सरासर झूठ बोला  कि वह रामपुर  मोहिउद्दीनपुर के लेखपाल  नहीं हैं लेखपाल राजेंद्र कुमार भारती  के द्वारा किसान सम्मान  निधि में फार्म भर कर पैसा दिलाने के नाम पर भी कई लोगों से 100-100 भी  लिए हैं 

 किसान शासन द्वारा पराली जलाने पर रोक लगाए जाने व आर्थिक जुर्माने से बचने के लिए किसान अपने खेतों में पराली ना जलाएं जिससे कि उन्हें आर्थिक  जुर्माना ना भरना पड़े पराली जलाने वाले छोटे किसान नहीं बड़े 10-20 बीघे वाले किसान ही हैं जिनकी पकड़ बड़े नेताओं व अधिकारियों से होने के कारण उन पर किसी भी प्रकार की कार्यवाही नहीं होती है

Comments