कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पूर्वोत्तर में की रैलियां

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पूर्वोत्तर में की रैलियां

पूर्वोतर के लोगो के लिए वादों के साथ काग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पहुचे असम और नगालैंड की जनता के बीच....तो तृषमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बैनर्जी ने उत्तर बंगाल के कूच बिहार से अपने चुनावी अभियान की शुरुआत। चुनाव प्रचार के बीच नेताओं ने जोर शोर से अपने समर्थको के साथ भरे अपने नामांकन।

 

जैसे जैसे चुनाव की तारीखें नजदीक आती जा रही हैं वैसे वैसे सियासी सरगर्मियां भी बढ़ती जा रही हैं। नेताओं का जनता के बीच जाने का सिलसिला भी लगातार जारी है। बुधवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी असम और नगालैंड के दौरे पर रहे। असम के बोकाखोट में एक रैली को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि उनकी सरकार आने पर उत्तर पूर्व के राज्यों की विशेष स्थिति को फिर से बहाल किया जाएगा साथ ही एक औद्योगिक नीति लाकर उत्तर पूर्व के राज्यों को विनिर्माण का हब भी बनाया जाएगा। राहुल गांधी ने ये भी कहा कि चाय बगान में काम करने वाले लोगों के लिए न्यूनतम वेतन भी सुनिश्चित की जाएगी।

बुधवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री औऱ टीएमसी की प्रमुख ममता बनर्जी ने अपने चुनावी अभियान की शुरुआत कूच विहार से की। इस दौरान उन्होंने पीएम को सीधी बहस के लिए आमंत्रित किया जिसमें  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल के विकास में स्पीड ब्रेकर का काम करती है।

जम्मू कश्मीर की बात करें तो यहां पीडीपी की अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने बुधवार को अनंतनाग से अपना पर्चा भरा। वहीं उनके प्रतिद्वंदी नेशनल कांफ्रेस के जस्टिस हसनैन मसूदी ने पार्टी उपाध्यक्ष उमर अबदुल्ला ही मौजूदगी में नामांकन पत्र भरा। अनंतनाग में तीसरे चरण में चुनाव है। गुरुवार को नामांकन दाखिल करने की आखिरी तारीख है।

वहीं महाराष्ट्र में बारामती से शरद पवार की जगह उनकी बेटी सुप्रिया सुले ने नामांकन पत्र भरा। हालांकि अभी तक अजित पवार को शरद पवार का उत्तराधिकारी माना जाता था लेकिन शरद पवार ने अपनी बेटी को ही बारामती से चुनावी मैदान में उतारा है।

इस बीच कांग्रेस पार्टी के नेता गुलाम नबी आजाद ने कुपवाड़ा में एक जनसभा को संबोधित किया।

बुधवार को टीडीपी प्रमुख और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने नेल्लोर के अटमाकूर विधानसभा क्षेत्र में एक रैली को संबोधित किया। आंध्र प्रदेश में लोकसभा और राज्य विधानसभा के साथ ही चुनाव होने वाले हैं।

इस बीच बीएसपी सुप्रीमो मायावती बुधवार को विशाखापटनम में थीं जहां उन्होंने जन सेना प्रमुख पवन कल्याण के साथ एक साझा प्रेस वार्ता की। ये दोनों पार्टियां राज्य विधानसभा चुनाव साथ मिलकर लड़ रही हैं।

इससे पहले एक ट्वीट के जरिए मायावती ने कांग्रेस पार्टी के घोषणापत्र को एक छलावा करार दिया। उन्होंने कहा कि जनता से किए वादों को नहीं निभाने से ही उनकी विश्वसनीयता कम हो गई है।

वहीं अभिनेता और उत्तम प्रजाकिया पार्टी के संस्थापक उपेंद्र ने कर्नाटक के मैंगलुरु में चुनाव प्रचार किया। इस कड़ी में वो हर दरवाजे पर जाकर लोगों से वोट मांग रहे हैं। 

Comments