योगी सरकार में धृतराष्ट्र बने जिला श्रम अधिकारी अभी तक नहीं हुई जांच 

योगी सरकार में धृतराष्ट्र बने जिला श्रम अधिकारी अभी तक नहीं हुई जांच 
  •  मनरेगा में नाबालिक बच्चों से कराया जा रहा था श्रम अपराधियों और भ्रष्टाचारियों पर नहीं हुई कोई कार्यवाही 

रायबरेली / बछरावाँ

विकास क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पंचायत रामपुर मोहिद्दीन पुर में दिनांक 4-11-2019 को महात्मा गांधी रोजगार योजना मनरेगा के तहत चकरोड मरम्मत का कार्य कराया जा रहा था जिसमें तीन नाबालिग बच्चे श्रम करते हुए संवाददाता के कैमरे में कैद हुए कैमरे में कैद होने के बाद ही संवाददाता ने खंड विकास अधिकारी को फोन पर इस मामले की जानकारी दी

लेकिन जांच के लिए उस दिन कोई भी ब्लॉक का आला अधिकारी नहीं पहुंचा दिनांक 5- 11- 2019 को जिलाधिकारी रायबरेली को भी फोन करके पूरे मामले से अवगत कराया गया लेकिन नतीजा यहां पर भी सिफर ही रहा दिनांक 6 -11-2019 को स्वतंत्र प्रभात ने इस खबर को फिर एक बार प्रमुखता से प्रकाशित किया संवाददाता ने इस खबर को ट्विटर अकाउंट पर डाला

तो जिला अधिकारी ने तत्काल ही जिला श्रम अधिकारी को कार्यवाही करने हेतु निर्देशित किया लेकिन आज लगभग एक महीना बीतने वाला है अभी तक जिला श्रम अधिकारी जांच करने के लिए नहीं पहुंचे इसी बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि इन्हीं भ्रष्टाचारियों के बीच में जिला श्रम अधिकारी इस मामले में इतिश्री करके धृतराष्ट्र बनकर झूठी रिपोर्ट लगाकर जांच पूरी कर चुके होंगे

इसी कारण कोई कार्यवाही नहीं की गई योगी सरकार में इस समय भ्रष्टाचार, बलात्कार, कत्लेआम,महंगाई, बेरोजगारी, गुंडागर्दी जैसे अपराधों में अत्यधिक वृद्धि हुई है जब कोई पत्रकार सच्चाई दिखाने की कोशिश करता है तो उसको धमकाया जाता है ना जाने कितने कलम के सच्चे सिपाहियों को मौत के घाट तक भी उतारा जा चुका है

सच्चाई को छुपाने के लिए अपराधियों से अधिकारी ऐसा कार्य कराया करते हैं अब देखना यह होगा कि इस मामले में अपराधियों व  भ्रष्ट अधिकारियों के ऊपर सरकार क्या कार्यवाही करती है या तो एक और सच्चाई को उजागर करने वाले पत्रकार की कलम को डुबो  दिया जाएगा ।

 

Comments