रामलीला की जमीन पर अवैध कब्जेदारों के खिलाफ मेला कमेटी ने खोला मोर्चा

रामलीला की जमीन पर अवैध कब्जेदारों के खिलाफ मेला कमेटी ने खोला मोर्चा

शिकायत के उपरांत भी प्रशासन द्वारा अबैध अतिक्रमण को गंभीरता से न लेने पर प्रशासन के खिलाफ लोगों में नाराजगी

टिकैतनगर,बाराबंकी-


राम जानकी लीला दशहरा कमेटी टिकैतनगर की जमीन पर अवैध कब्जे को खाली कराए जाने की शिकायतों पर राजस्व विभाग द्वारा निस्तारण न करने से नाराज कमेटी ने नगर में की जा रही रामलीला का मंचन रविवार को बीच में ही रुकवा दिया।

तो वही सोमवार को टिकैतनगर में सभी दुकानें बंद कर तहसील प्रशासन के प्रति आक्रोश जताया गया। मामले को गंभीरता से लेते हुए उप जिलाधिकारी सिरौलीगौसपुर मौके पर पहुंचे और मामला शांत कराया।मालूम हो कि टिकैतनगर के मुख्य चौराहे पर लगभग अस्सी वर्षों से रामलीला का मंचन होता चला आ रहा है।

लेकिन रविवार को इसका मंचन अचानक बीच में ही रोक दिया गया।कमेटी के अध्यक्ष राजू मौर्या का आरोप है कि सन्1953 मे टिकैतनगर निवासी रामप्यारी पत्नी बद्री प्रसाद ने ग्राम सूर्रा मे स्थित लगभग 5 बीघा भूमि को रामलीला कमेटी मे लिखी थी।

कमेटी की इस भूमि पर ग्राम सुर्रा के लोगों द्वारा अवैध अतिक्रमण किया जा रहा है। जिस संबंध में कमेटी के अध्यक्ष द्वारा उप जिला अधिकारी महोदय को वर्ष 2017 में प्रार्थना पत्र देकर अवैध अतिक्रमण हटाने को कहा गया था लेकिन तब से अब तक अवैध अतिक्रमण नहीं हटाया गया। कमेटी ने उपजिलाथिकारी सिरौलीगौसपुर के सम्मुख रजिस्ट्री के समस्त अभिलेख उपलब्ध कराए। लेकिन उप जिलाधिकारी महोदय ने मामले में फिर टालमटोल करते हुए समय न होने व यथास्थिति बनाए रखने की बात कहकर टाल दिया और अध्यक्ष को नया कार्य न की

हिदायत देकर वापस कर दिया। जबकि राजू मौर्या का आरोप है किउक्त विवादित भूमि पर ग्राम सभा के प्रधान द्वारा रंगाई पुताई का कार्य शुरू करा दिया गया जिससे नाराज कमेटी के लोगों ने रविवार को रामलीला का मंचन बीच में ही रोककर प्रदर्शन शुरू कर दिया रामलीला का मंचन रुकने की खबर सुनते ही नगर की भारी भीड़ मौके पर एकत्र हो गई और सभी मामले की तत्काल निस्तारण की मांग को लेकर बैठ गए।

कमेटी ने मामले का निस्तारण न होने तक रामलीला का मंचन न करने का फैसला लिया और सोमवार को कस्बे के समस्त व्यापारिक प्रतिष्ठान पूरी तरह से बंद करवा दिए गए। मसले को गंभीरता से लेते हुए उप जिलाधिकारी सिरौली गौस पुर शाम को मौके पर पहुंचे और दोनों पक्षों से बातचीत करके यह निर्णय लिया कि उक्त जमीन के प्रकरण में न्यायालय का फैसला आने तक यथा स्थिति बरक़रार रखी जाए और कोई भी पक्ष उक्त जमीन पर कब्जा या निर्माण नहीं करेगा जिसे दोनों पक्षों ने स्वीकार कर लिया और तब मामला शांत हुआ।

अबैध अतिक्रमण को लेकर सभी ब्यापारिक प्रतिष्ठान पूरी तरह से रहे बन्द

रामजानकी लीला दशहरा कमेटी टिकैतनगर की जमीन अतिक्रमण क्रमण कारियों से मुक्त कराने की मांग को लेकर कस्बा टिकैतनगर के सभी व्यापारिक प्रतिष्ठान पूरी तरह से बंद रहे और कमेटी के पदाधिकारी व सदस्य जमीन को अति क्रमण कारियों से मुक्त कराने की मांग को लेकर अनशन पर बैठे रहे। टिकैतनगर की बंदी का असर इतना अधिक था कि पूरे नगर में सन्नाटा पसरा हुआ था और चाय व पान की दुकानें तक बंद थी जिससे आम जनमानस त्रस्त दिखा।

तो वही कमेटी के सदस्य अपनी उक्त जमीन से अवैध कब्जा हटवाए जाने की मांग को लेकर अडे हुए थे स्थानीय पुलिस पूरे दिन हलाकान रही। मामले में पटाक्षेप तब हुआ जब उप जिलाधिकारी सिरौली गौस पुर ने मौके पर पहुंचकर न्यायालय का फैसला आने तक यथा स्थिति बरक़रार रखने का निर्देश दिया।

Comments