सड़क के किनारे पर सूखे पेड़ दे रहे हादसों को न्यौता, विभाग की ओर से नही दिया जा रहा ध्यान

सड़क के किनारे पर सूखे पेड़ दे रहे हादसों को न्यौता, विभाग की ओर से नही दिया जा रहा ध्यान

सिवानी मण्डी ( सुरेन्द्र गिल )

सिवानी-गुरेरा के माध्यम से हरियाणा को राजस्थान से जोडने वाले मार्ग पर सड़क किनारे झुके हुए पेड़ वाहन चालकों के लिए यमदूत साबित हो रहे हैं।

पूरी तरह से सूख कर ठूठ हो चुके इन पेड़ों की वजह से कई बार सड़क हादसे हो चुके है लेकिन अभी तक इनकी कटाई नहीं हो पा रही है। वन विभाग की तरफ से हालांकि इन पेड़ों की निशानदेही भी करवाई जा चुकी है

लेकिन इन पर आरी चलाने के लिए विभाग को अभी आला अधिकारियों से अनुमति मिलने का इंतजार है। गौरतलब है कि हरियाणा को राजस्थान से जोडने वाले इस मार्ग पर प्रतिदिन सैंकड़ों की संख्या में दुपहिया से लेकर सभी प्रकार के छोटे-बड़े वाहन दौड़ते है।

कुछ पेड तो मामूली सी हवा का झोंका भी नही रोक पा रहे व किसी भी वाहन चालक की जान ले सकते है चूंकि सड़क की तरफ पूरी तरह से झुके हुए इन पेड़ों की टहनिया इतनी कमजोर है कि वे कभी भी गिर कर किसी भी बड़े हादसे को जन्म दे सकती है।

पिछले साल इस तरह से सड़क पर पेड़ गिरने से दो जान चली गई थी जबकि आमतौर पर पेड़ गिरने की वजह से यहां जाम भी आम हो गया है। आंधी और तुफान के समय तो यहां से गुजरने का मतलब जान हथेली पर लेकर गुजरना होता है।

  यही हालात ईश्रवाल से मिरान, मोहिला से पटोदी रोड़ पर भी बने हुए है। इस बारे में अधिवक्ता सुनील परिहार, उदयभान, विक्रम मूण्ड, सोनू, सतबीर, राजकुमार, अमित गिल, अनिल गोदारा ने बताया कि वे कई बार प्रशासन से मिलकर इसकी शिकायत कर चुके है लेकिन इस दिशा में कोई कदम नहीं उठाया गया।

उन्होंने मांग की है कि सूखे हुए और अधिक झुके हुए पेड़ों को प्रशासन तुरंत प्रभाव से कटवाए ताकि हादसों और आए दिन लगने वाले जाम से बचा जा सके। 

उच्च प्रशासनिक अधिकारियों को भेज दी रिपोर्ट - सुरेन्द्र दांगी

इस मसले पर वन विभाग के रेंज ऑफिसर सुरेंद्र दांगी ने बताया कि सूखे पेड़ों की निशानदेही करवाकर विभाग के आला अधिकारियों को रिपोर्ट भेज दी गई है।

उच्च अधिकारियों से अनुमति मिलते ही सड़क किनारे खड़े इन पेड़ों को कटवा दिया जाएगा। और लोगो की समस्या पर काबू पाया जायेगा।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Loading...
Loading...

Comments