संगीतमयी रामकथा का श्रद्धालुओं ने किया रसपान

संगीतमयी रामकथा का श्रद्धालुओं ने किया रसपान

तिन्दवारी(बाँदा)।

कस्बे के संकटमोचन आश्रम में प्रति वर्ष की भांति  वार्षिकोत्सव कार्यक्रम के अंतर्गत 7 नवंबर से आयोजित पांच कुंडीय हनुमते महायज्ञ एवं गायत्री यज्ञ के साथ-साथ संत सम्मेलन के अंतर्गत आयोजित संगीतमय रामकथा का बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं भक्तजनों द्वारा रसपान किया जा रहा है ।

      कस्बे के गणेश तालाब के पास स्थित संकटमोचन आश्रम में संत समागम के बीच आयोजित रामकथा में आज हरिओम तिवारी रामायणी द्वारा गोस्वामी तुलसी दास द्वारा रचित रामचरितमानस के राम और भरत मिलाप के प्रसंग को प्रस्तुत करते हुए कहा की अत्यंत व्याकुल तथा दुख, प्रेम, विनय और नीति से सनी हुई भरत जी की वाणी को सुनकर सब लोग शोक मग्न हो गए, सारी सभा में विषाद छा गया । मानव कमल के वन पर  पाला पड़ गया हो । तब ज्ञानी मुनि वशिष्ठ जी ने अनेक प्रकार की

पुरानी ऐतिहासिक कथाएं कहकर भरत जी का समाधान किया । फिर सूर्य कुल रूपी कुमुद वन के प्रफुल्लित करने वाले चंद्रमा श्री रघुनंदन उचित वचन बोलते हुए कहते हैं की तात जांय जियँ करहुँ गलानी । ईस अधीन जीव गति जानी ।। हे तात तुम अपने ह्रदय में व्यर्थ ही ग्लानि करते हो । जिओ की गति को ईश्वर के साथ अधीन जानो । मेरे मत में भूत ,भविष्य और वर्तमान तीनों कालों और स्वर्ग ,पृथ्वी और पाताल तीनो लोकों के सब पुण्य आत्मा तुमसे नीचे हैं । हे भरत तुम्हारा नाम स्मरण करते ही सब पाप , प्रपंच और अमंगलों के समूह मिट जाएंगे ।

   संकटमोचन आश्रम के महंत स्वामी उद्धव दास जी महाराज ने इस अवसर पर अपने संदेश में कहा कि हमारे शास्त्रों में विद्या को सबसे बड़ा धन माना गया है । जिसे जितना खर्च करो वह उतना ही बढ़ता जाता है । मानव जीवन के साथ ही विद्या की महत्ता बनी हुई है । आधुनिक दौर में विद्या को शिक्षा का पर्याय माना जाता है । व्यक्ति ,समाज, देश और वैश्विक समुदाय के लिए यह बहुत ही महत्वपूर्ण है। शिक्षा केवल जीवन की आकर्षकता के साथ गुणों की आकर्षकता भी लाए । हमारी शिक्षा में सुंदरम शिवम सत्यम का रूप होना चाहिए । सत्यम ,शिवम ,सुंदरम शिक्षा का मूल था वह खत्म हो रहा है । शिक्षा से शांति आनंद और मैत्री भाव आता है ।

' सा विद्या या विमुक्तए ' के अनुसार मुक्ति दायिनी विद्या ही विद्या कहला सकती है ऐसे ही विद्यादान से देश शांति और आनंद प्राप्त कर सकता है । आज यहां जिला भाजपा अध्यक्ष लवलेश सिंह भाजपा के जिला मीडिया प्रभारी आनंद स्वरूप द्विवेदी ने जाकर जहां  संकट मोचन आश्रम में  माथा टेका  वही  मानस प्रवचन  का रसपान किया  जहां चंद्रशेखर शास्त्री भटौली जगदीश त्रिवेदी मुंगूस बहन रेखा देवी आगरा द्वारा प्रस्तुत मानस प्रवचन ने सभी को भावविभोर कर दिया । इस अवसर पर प्रीतम गुप्ता, रामजन्म वर्मा ,हीरालाल प्रजापति, रामकृपाल वर्मा ,मोहन विश्वकर्मा, राजू विश्वकर्मा ,अरुण सिंह पटेल सहित तमाम गणमान्य लोग उपस्थित रहे ।

 

Comments