संगीतमयी भागवत कथा में कंस वध का वर्णन बड़े ही विस्तार से किया

संगीतमयी भागवत कथा में कंस वध का वर्णन बड़े ही विस्तार से किया

रिपोर्ट-राकेश पाठक

हैदरगढ़ बाराबंकी।
भगवान कृष्ण ने अत्याचारी कंस को मारा धरती पर बढ़ रहे पाप को मिटाया लीला धारी कन्हैया ने गोपिकाओ के साथ रचाया रास। यह बात नीमसार से आई कथावाचक पूर्णिमा मिश्रा ने कही। कस्बा हैदरगढ़ से ब्रह्मनान वार्ड में हो रही श्रीमद् भागवत कथा में कथा व्यास पूर्णिमा मिश्रा ने कहा कि धरती पर कंस के अत्याचार बढ़ रहे थे।

धरती पापों से कराह रही थी। तब कन्हैया का अवतार हुआ। अत्याचारी को मारने के लिए जन्म से ही भगवान ने बालपन में ही पूतना जैसी राक्षसी का नाश किया।

अघासुर बकासुर बलवान राक्षसों को मारा कंस ने भगवान कृष्ण को मारने के लिए तमाम तरह के तमाम प्रकार के प्रयोग किए। लेकिन भगवान तो सभी की महिमा जानते हैं।

तीनो लोको के स्वामी श्री कृष्ण का अवतार लेकर गोपीयो के साथ नृत्य किया यहां मथुरा का दूध दही जाना बंद किया सरोवर में निर्वस्त्र होकर स्नान कर रही गोपिकाओ का चीर हरण किया।

धरती पर बोझ बना अत्याचारी पापाचारी कंस को मारकर पृथ्वी से पाप का बोझ हल्का किया। लगातार कई दिनों से हो रही श्रीमद्भागवत पुराण की कथा में उमड़ रहे हजारों की संख्या मे श्रोताओ को देखकर कथा व्यास पूर्णिमा मिश्रा ने मंच से सभी को आशीर्वाद दिया आज की कथा में प्रमुख रूप से भाजपा पूर्व विधायक प्रदेश कार्यसमिति सदस्य सुंदरलाल दीक्षित बार एसोसिएशन के अध्यक्ष जसकरन तिवारी वरिष्ठ अधिवक्ता दिनेश श्रीवास्तव शेखर मिश्रा माधवराम पाठक देवानंद पांडे

कन्हैया लाल शुक्ला शिव कुमार चतुर्वेदी सौरभ मिश्रा राजकुमार अग्रवाल मुन्नालाल पाठक श्री प्रकाश पांडे चंद शेखर पाठक सहदेव पाठक राजेश तिवारी रामू चतुर्वेदी मुकेश पांडे प्रेम नारायण पांडे ओम प्रकाश पांडे जगदीश मौर्य शिवचरन मौर्य

कृष्ण कुमार द्विवेदी राजू भैया पुत्ती लाल अवधेश कुमार पूर्व सभासद स्कंद तिवारी सभासद विपिन साहू ओमप्रकाश सिंह चौहान रमेश मिश्रा बब्बन सिंह लालता सिंह विनोद पाण्डेय नरेंद्र यादव मनोज यादव राजेश तिवारी राजू चतुर्वेदी पिंकू अवस्थी

एडवोकेट अनिल कुमार मिश्रा प्रीतम चौरसिया सहित हजारों की संख्या में पुरुष व महिलाएं श्रीमद् भागवत कथा का आनंद उठा रही हैं। मुख्य जजमान रूद्र नारायण पाठक उनकी धर्मपत्नी श्रीमती दुर्गेश नंदिनी पत्रकार राकेश पाठक ने आए हुए सभी भक्तों का स्वागत व सम्मान किया।

भागवत कथा में लगे जय श्रीराम के नारे कथावाचक पूर्णिमा मिश्रा ने बहुत ही गर्मजोशी से सुप्रीम कोर्ट द्वारा आए निर्णय का स्वागत किया और उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने दोनों पक्षों का सम्मान रखते हुए एक ऐतिहासिक निर्णय दिया है।

जिसका सभी लोगों को सम्मान करना चाहिए मंदिर मस्जिद दोनों बनने चाहिए एकता की भावना पूरे विश्व में कायम रहे।

Comments