जैतीपुर ब्लॉक प्रमुख अविश्वास प्रस्ताव बैठक निरस्त ईश्वर वती बनी रहेंगी ब्लॉक प्रमुख

 जैतीपुर ब्लॉक प्रमुख अविश्वास प्रस्ताव बैठक निरस्त ईश्वर वती बनी रहेंगी ब्लॉक प्रमुख
  • कोर्ट के आदेश पर  अटका अविश्वास प्रस्ताव

शाहजहांपुर /जैतीपुर

ब्लाक प्रमुख ईश्वर वती के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव को लेकर शुक्रवार को क्षेत्र पंचायत समिति की बैठक तय हुई थी जिसकी तैयारियां पूर्ण हो चुकी थी बैठक की कड़ी सुरक्षा को लेकर कडें बंदोबस्त भी किए गए  थे   लेकिन उच्च न्यायालय के आदेश के अनुसार सभी तैयारियों पर पानी फिर गया 

ब्लॉक कार्यालय के सूचना पट पर  शुक्रवार को 11:00 बजे से होने वाली बैठक का नोटिस भी लगा दिया गया था लेकिन उच्च न्यायालय के आदेश के आने पर ब्लॉक परिसर में सन्नाटा छा गया तो वही बता दें कि 2016 में हुए चुनाव में पूर्व ब्लाक प्रमुख सतेंद्र सिंह यादव की पत्नी ईश्वरवती और कांग्रेस नेता स्वर्गवासी महेंद्र प्रताप सिंह मुन्ना की पत्नी विजयलक्ष्मी ने चुनाव लड़ा था 69 सदस्य क्षेत्र पंचायत समिति के 3 सदस्यों द्वारा दोनों प्रत्याशियों को वोट दिए

जाने के कारण निरस्त होने पर शेष  66 मतों की गिनती कराने के बाद दोनों उम्मीदवारों के हिस्से में 33-33 समान वोट आए थे उस वक्त लाटरी पद्धति से ईश्वर वती चुनाव जीत गई थी लेकिन तभी से मरेना से बीडीसी एवं भाजपा नेता राजकुमार सिंह अपने गुट की महिला को ब्लाक प्रमुख बनाने की जुगाड़ में लग गए थे

तो वही राजकुमार ने कटोरी देवी समेत छत्तीस बीडीसी  मेंबरों के साथ गत 22 अक्टूबर को मुख्यालय पर डीएम से भेंट कर उन्हें अविश्वास प्रस्ताव का प्रत्यावेदन दिया था लेकिन डीएम ने इस पर शुक्रवार को बैठक बुलाई थी लेकिन इससे पहले ही दोनों गुटों में ब्लॉक प्रमुख की सीट पर अपना वर्चस्व कायम करने की लड़ाई शुरू हो गई थी

लेकिन कुछ दिन पहले दोनों पक्षों ने एक दूसरे के खिलाफ वोट हासिल करने के लिए धमकाने गाली गलौज लूटपाट के आरोप में रिपोर्ट भी दर्ज करा दी इसी मामले को लेकर एसडीएम मोइनुल इस्लाम व मंगल सिंह रावत  ने ब्लॉक परिसर में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर जायजा भी लिया था

लेकिन जब शुक्रवार को वर्तमान ब्लाक प्रमुख ने जिला अधिकारी को 9:00 बजे अविश्वास प्रस्ताव पर रोक के लिए हाई कोर्ट प्रयागराज का स्टे ऑर्डर सौंप दिया विचार करने के बाद प्रशासन ने अविश्वास प्रस्ताव की बैठक को रद्द कर दिया जिससे 12:00 बजे बैठक निरस्तीकरण की सूचना दे दी गई तब जाकर कर्मचारियों ने राहत की सांस ली वहीं उप जिला अधिकारी मोइनुल इस्लाम ने बताया की उच्च न्यायालय के  आदेश के कारण  बैठक निरस्त कर दी गई है

 

Comments