जिला पूर्ति कार्यालय में फैला भ्रष्टाचार जन सूचना अधिकार हुआ बेकार

  जिला पूर्ति कार्यालय में फैला भ्रष्टाचार जन सूचना अधिकार हुआ बेकार

शाहजहांपुर/ आज से 14 वर्ष पूर्व सरकार द्वारा चालू की गई जन सूचना अधिकार अधिनियम 2005 शाहजहांपुर जिला पूर्ति कार्यालय में बेकार नजर आ रहा है यहां के अधिकारी इतने भ्रष्ट हो गए हैं की एक-एक कोटेदार के पास पूर्व में दो दो सौ राशन कार्ड फर्जी पाए गए थे जिन पर लगातार खाद्यान्न उठान भी होता रहा लेकिन पूर्ति विभाग ने आंखें बंद करके अच्छा खासा गोलमाल किया जब किसी व्यक्ति द्वारा शिकायत भी की गई तो पूर्ति कार्यालय है ना भाई सब हजम कर गया

अब मरता क्या न करता एक समाजसेवी कार्यकर्ता ने एक कोटेदार पर जन सूचना डाल दी उसने जन सूचना अधिकार 2005 के तहत विकासखंड भावल खेड़ा  के दाउदपुर आटा खुर्द कोटेदार से संबंधित जन सूचना जिला पूर्ति अधिकारी शाहजहांपुर से मांगी आवेदक संजीव कुमार वर्मा काफी दिन तक जन सूचना प्राप्त होने का इंतजार करता रहा जब जन सूचना 2 माह बीत जाने के बावजूद प्राप्त नहीं हुई

तो आवेदक  जिला पूर्ति कार्यालय गया जहां संबंधित क्षेत्र के पूर्ति निरीक्षक अंकुर से मुलाकात की तो पता चला की जन सूचना तो आपको प्राप्त हो गई है पूर्ति निरीक्षक ने लेटर दिखाते हुए कहा कि इस पर आपके साइन हैं आपने ही लिख कर दिया है कि आपको सूचना प्राप्त हो गई है इतने में आवेदक ने फर्जी हस्ताक्षर कर लेटर बना लेने का आरोप लगाया इसी बीच मीडिया कर्मी भी वहां पहुंच गए तो जानकारी मिली कि संबंधित कोटेदार द्वारा फर्जी पत्र तैयार कर पूर्ति निरीक्षक को दिया गया था जब इस संबंध में जिला पूर्ति अधिकारी से जानकारी चाही गई कि नियमानुसार जन सूचना अधिकारी ही सूचनाएं आवेदक को  डाक द्वारा प्रेषित करता है

या स्वयं अपने समस्त आवेदक के हस्ताक्षर कराकर सूचनाएं देता है तो कोटेदार से लेटर क्यों मंगवाया गया तो जिला आपूर्ति अधिकारी कोई सटीक जवाब नहीं दे सके फिलहाल कुछ भी हो लेकिन जिला  पूर्ति कार्यालय शाहजहांपुर में जन सूचना का अधिकार बेकार नजर आ रहा है

Comments