शाहजहांपुर की बड़ी खबरे

शाहजहांपुर  की बड़ी खबरे

गौशाला में गाय की संदिग्ध मौत,सचिव के चेले के सहारे गौशाला

बंडा/शाहजहांपुर। गौवंशीय पशुओं के लिए इससे बुरे दिन नहीं हो सकते।जब से आवारा की श्रेणी में आयी है।तब से दाने दाने को मोहताज होकर घुट घुट कर मरने को मजबूर हैं। कहने को सरकार ने लाखों रुपए खर्च कर गौशालाएं बनवा दिया। लेकिन यह गौशालाएं काला पानी की सजा से कम नहीं है। वहीं गौशालाओं के लिए जिम्मेदार अधिकारियों ने अपने चेलों के भरोसे गौशाला में पशुओं को छोड़ रखा है।
        बताते चलें कि ग्राम इंदलपुर में स्थित गौशाला में पशुओं की हालत बद से बत्तर हो चुकी है। जिम्मेदारों की अदूरदर्शिता के चलते उचित आहार व इलाज के अभाव में पशु कंकाल में परिवर्तित हो चुके हैं। बुधवार को 29गायों वाली गौशाला में बीमारी के चलते एक गाय की बीमारी के चलते मौत हो गई है। जबकि एक गाय कई दिनों से बीमार चल रही है। गौशाला में मौजूद गौवंशीय पशुओं को चारा के नाम पर सूखा भूसा खाने को दिया जा रही है।गाय की मौत के बारे में पूछने पर गौशाला के ग्वाला शंकर लाल ने बताया कि बीमारी के चलते गाय की मौत हुई है। बीमारी के चलते अब तक कई गायों की मौत हो चुकी है।आज तक किसी भी अधिकारी ने गौशाला देखने की जरूरत नहीं समझी।सचिव शिवालय शर्मा के मुताबिक उन्हें गौशाला के बारे में कोई जानकारी नहीं है।उनका चेला हरीबाबू की देखरेख में गौशाला चल रही है। यदि कोई जानकारी चाहिए तो उसी से सम्पर्क कर प्राप्त करें। वहीं ग्राम प्रधान संतराम की मानें तो इसके लिए कोई बजट नहीं आया है। गौशाला में लोग बीमार गायों को छोड़ जाते हैं।फिर भी उनकी देखभाल करवा रहे हैं।आखिर यह समझ से परे है कि गौशाला की जिम्मेदारी किसकी है। गौशाला के लिए लाखों रुपए बजट आवंटन की बात कही जाती है।क्या यह सब हवा-हवाई है।सवाल उठता है कि कहीं ऐसा न हो कि गौवंशीय पशु भ्रष्टतन्त्र की भेंट चढ़ धीरे धीरे विलुप्त होने की कगार पर पहुंच जाए।और सरकार इनके संरक्षण के लिए गौशालाएं खुलवाकर लाखों का बजट लुटाती रहे और जिम्मेदार अधिकारी सरकार को भ्रमित करते रहे।

 

विवाहिता की संदिग्ध परिस्थितियों में आग से जलकर मौत

बंडा/शाहजहांपुर। थाना क्षेत्र के ग्राम ढकाघनश्याम में एक विवाहिता की संदिग्ध परिस्थितियों में जलकर मौत हो गई। घटना को लेकर ग्राम में तरह तरह की चर्चाएं हो रही है। पुलिस ने मृतका के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए जिला मुख्यालय भेज दिया।
जानकारी के मुताबिक सोमवार को ग्राम ढकाघनश्याम निवासी राजीव की पत्नी मीना देवी की आग से जलकर संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। परिजनों के मुताबिक सोमवार की शाम लगभग 5बजे चाय बनाते समय मीना की साड़ी में अचानक आग लग गई। जिससे वह आग की चपेट में आकर जल गई।

लेकिन जहां पर मीना के जलने की बात बताई जा रही है वहां पर रखे तेल, पालीथीन में रखे सामान आदि पर आंच न आने से संदेह व्यक्त किया जा रहा है कि महिला कही दूसरी जगह आग से जली होगी। वहीं लोगों के मुताबिक मीना का पति शराब का आदी हैं। उसने चार दिन पहले जमीन बेची थी।जब मीना उससे मायके जाने को कहती और उससे पैसे मांगती तब वह उसे पीटता था। वहीं बच्चों के स्कूल की फीस भी देना था।हो सकता है उसी बात को लेकर उसने आग लगाकर आत्महत्या कर ली। उसके दो बच्चे बड़ा बेटा तनुज बारह वर्ष व पुत्री रिया दस वर्ष के हैं। मंगलवार को पुलिस ने शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए जिला मुख्यालय भेज दिया। पुलिस के मुताबिक मामले में हत्या व आत्महत्या दोनों के आधार पर जांच की जा रही है।जांच व तहरीर के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

 

 

Comments