बहुत कुछ जीतने की जद्दोजहद में जाने कुछ हार ना जाऊँ मैं............

बहुत कुछ जीतने की जद्दोजहद में जाने कुछ हार ना जाऊँ मैं............

बहुत कुछ जीतने की जद्दोजहद में जाने कुछ हार ना जाऊँ मैं,
लगता डर है अब मुझको ; कहीं ख़ुद में ही ख़ुद को ना खो आऊँ मैं,
ज़िद तेरे तक है तुझमें ; पर मेरी जिद में क़ैद ना हो जाऊँ मैं,
ख़ुद को मैं यूँ बाँध रहा; कहीं उड़ना भूल ना जाऊँ मैं...
#@noop

Comments