हरियाणा की राजनीति मे भजन लाल कुल के तीसरे दीप का भाग्य भव्‍य होगा कि नहीं ये हिसारवासियों पर निर्भर है

हरियाणा की राजनीति मे भजन लाल कुल के तीसरे दीप का भाग्य भव्‍य होगा कि नहीं ये हिसारवासियों पर निर्भर है

हरियाणा की राजनीति मे भजन लाल कुल के तीसरे दीप का भाग्य भव्‍य होगा कि नहीं ये हिसारवासियों पर निर्भर है

सिवानी मण्डी ( सुरेन्द्र गिल ) पूर्व मुख्यमंत्री चौधरी भजनलाल का सियासी गढ़ हिसार एक नई इबारत लिखने को तैयार है। महज 26 साल की उम्र में भजन के पौत्र भव्य बिश्नोई हिसार लोकसभा सीट से अपनी किस्मत अजमाएंगे। इस सीट से उनके पिता कुलदीप बिश्नोई और उनके दादा भजनलल सांसद बनकर देश की सबसे बड़ी पंचायत में पहुंच चुके हैं। अब देखना यह है कि अपने पिता और दादा की राह पर चलते हुए भव्य क्या अपने परिवार के भव्य इतिहास को कायम रख पाएंगे।

करनाल से केंद्रीय राजनीति में कदम रखने वाले भजनलाल तीन बार लोकसभा पहुंचे। जीवन के अंतिम दिनों में हिसार लोकसभा का संसद में प्रतिनिधित्व कर रहे थे। वर्ष 2011 में उनकी मृत्यु के बाद हुए उपचुनाव में बेटे कुलदीप बिश्नोई इनेलो के अजय चौटाला को 6337 हराकर सांसद बने थे। इसके बाद वर्ष 2014 में 16वें लोकसभा चुनाव में अजय चौटाला के बेटे दुष्यंत चौटाला इनेलो के टिकट पर चुनाव मैदान में उतरे। उन्होंने भाजपा-हजकां गठबंधन के प्रत्याशी कुलदीप बिश्नोई को 31847 वोटों से हरा दिया।

भव्य दोहरा पाएंगे इतिहास?

हिसार लोकसभा सीट से जीतकर सांसद बने दुष्यंत चौटाला को देश के सबसे युवा सांसद का तमगा हासिल है। तीन अप्रैल 1988 को पैदा हुए दुष्यंत चौटाला 26 साल की उम्र में देश की सबसे बड़ी पंचायत में पहुंच गए थे। 16 फरवरी 1993 को पैदा हुए भव्य बिश्नोई की उम्र भी 26 साल है। सवाल यह है कि क्या भव्य हिसार की जनता का आशीर्वाद हासिल कर यह इतिहास दोहरा पाएंगे।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments