संस्कृति में अतीत समय में ही वसुधैव कुटुम्बकम् का परचम बुलंद किया है : चंद्रशेखर प्रजापति। 

संस्कृति में अतीत समय में ही वसुधैव कुटुम्बकम् का परचम बुलंद किया है : चंद्रशेखर प्रजापति। 

संस्कृति में अतीत समय में ही वसुधैव कुटुम्बकम् का परचम बुलंद किया है : चंद्रशेखर प्रजापति। 
 

 जिला संवादाता नरेश गुप्ता की रिपोर्ट


 सिलाई कढ़ाई प्रशिक्षुओं ने मनाया विश्व परिवार दिवस।   

सिधौली/ सीतापुर

भारत एक ऐसा देश है जहां की संस्कृति में अतीत समय में ही वसुधैव कुटुम्बकम् का परचम बुलंद किया है। यह भारत के लिए ही नहीं बल्कि विश्व के लिए भी गौरव का विषय है क्योंकि  इस शब्द से विश्व को एक परिवार के रूप में परिभाषित किया गया है यह बात आस्था स्किल डेवलपमेंट फाउंडेशन में विश्व परिवार दिवस के अवसर पर शिक्षक चंद्रशेखर प्रजापति ने सिलाई कढ़ाई कर रही प्रशिक्षुओं संबोधित करते हुए आस्था कॉप्लेक्स सिधौली में कही ।

उन्होंने कहा कि जिस देश ने विश्व को एक परिवार के रूप में देखा है वह देश उत्तरोत्तर तरक्की कर रहा है । क्योंकि इस विचारधारा में सबके कल्याण की भावना निहित है भारत इस दिशा में सदैव अग्रणी रहा है जिसके चलते भारत का विश्व के कल्याण में अद्भुत योगदान है जिसको दुनिया कभी भुला नहीं सकती आस्था स्किल डेवलपमेंट फाउंडेशन के प्रबंधक राकेश कुमार ने कहा कि परिवार कुछ लोगों के साथ रहने से नहीं बन जाता अपितु इसमें रिश्तों की एक मजबूत डोर होती है, सहयोग के अटूट बंधन होते हैं। एक-दूसरे की सुरक्षा के वादे और इरादे होते हैं। रिश्ते की गरिमा को बनाए रखना हमारी संस्कृति में, परंपरा में पारिवारिक एकता पर हमेशा से बल दिया जाता रहा है।

प्रशासनिक अधिकारी बबलू राजवंशी ने बताया आज के व्यस्ततम जीवन में संयुक्त परिवार खत्म होना चिंता का विषय है। माता-पिता भी बच्चों को बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए परदेस भेजना मजबूरी है। जिसका कारण ग्रामीण क्षेत्रों में व्यवसायिक शिक्षा और रोजगार के अच्छे साधन उपलब्ध ना होना है जो कि संयुक्त परिवार विघटन का सबसे बड़ा कारण है जिसके लिए आस्था स्किल डेवलपमेंट फाउंडेशन ग्रामीण क्षेत्रों में के युवाओं को कौशल विकास प्रशिक्षण के आधार पर रोजगार प्रदान कराने के लिए दृढ़ संकल्पित है ।

ऐसे में शिक्षण संस्थाओं विद्यालयों में विश्व परिवार दिवस जैसे अवसरों पर गोष्ठियों का आयोजन किया जाना समाज हित में सार्थक होगा इस मौके पर प्रशिक्षक आलोक त्रिपाठी अमित कुमार प्रजापति , साधना यादव, रेनू, सीमा सिंह ,आफरीन ,सौम्या, स्वेता, अनामिका सिंह, दीपा, अनामिका तिवारी, अमित यादव, सुभाषिनी शुक्ला ,पूजा ,अंकिता त्रिवेदी, काजल सारस्वत ,दीपक मिश्रा , दर्शनिका श्रीवास्तव, ज्योति गुप्ता ,नीलम यादव, रोमा  बंसल, प्रिया अवस्थी, प्रिया कुमारी मान्सी गुप्ता तमाम लोग उपस्थित रहे।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments