खामोश खामोश खामोश छेनू को मिला कांग्रेस का साथ

खामोश खामोश खामोश छेनू को मिला कांग्रेस का साथ

खामोश खामोश खामोश छेनू को मिला कांग्रेस का साथ'' चुनाव से पहले बिहार में कांग्रेसी पकड़ मजबूत 

पटना साहिब 2019 का चुनाव हुआ काफी दिलचस्प

नई दिल्ली :2014 के चुनाव के बाद से ही बगावती तेवर में शत्रुघ्न सिन्हा को देखा  जा रहा था  लेकिन उन सभी अटकलों पर आज विराम लग चुका है  जब उन्होंने  बीजेपी के  स्थापना दिवस पर ही बीजेपी छोड़  हाथ का साथ पकड़ लिया. लोकसभा चुनाव से ठीक पहले बीजेपी के बागी नेता ने कांग्रेस का हाथ थाम लिया है. पटना साहिब से सांसद शत्रुघ्न सिन्हा आज कांग्रेस में शामिल हुए और बीजेपी के स्थापना दिवस के दिन ही उन्होंने भाजपा का साथ छोड़ दिया. शत्रुघ्न सिन्हा को बीजेपी ने टिकट नहीं दिया था. शत्रुघ्न सिन्हा ने दिल्ली में बिहार भाजपा के प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल और राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला की मौजूदगी में कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की. 

इस दौरान प्रेस कॉन्फ्रेंस करते वक्त शत्रुघ्न सिन्हा ने नए परिवार और साथियों का धन्यवाद किया और कहा कि मैंने दुखी मन से पार्टी के क्रियाकलापों को देखते हुए  पार्टी छोड़ी. साथ ही उन्होंने भाजपा को स्थापना दिवस की बधाई दी. इस दौरान शत्रुघ्न सिन्हा ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि पार्टी ने भाजपा के वरिष्ठ नेताओं का अपमान किया है. बीजेपी में लोगों की कद्र नहीं होती है कुछ लोगों की वजह से लोकशाही धीरे-धीरे तानाशाही में बदलती गई. वहीं पटना साहिब से बीजेपी ने केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद को मैदान में उतारा है. 

लालू यादव का किया धन्यवाद

कांग्रेस में शामिल होने के लिए शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि मैं सिर्फ और सिर्फ मेरे पारिवारिक मित्र लालू प्रसाद यादव के कहने पर ही कांग्रेस में शामिल हुआ हूं. उन्होंने मुझे कहा कि आप जाओ और कांग्रेस पार्टी को मजबूत करो. मैं इसके लिए लालू यादव का धन्यवाद देता हूं. शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि कांग्रेस पार्टी मेेरा परिवार है और अब मैं इस परिवार का हिस्सा  हूं. कांग्रेस पार्टी ने आजादी की लड़ाई में अमूल्य योगदान दिया है. भाजपा छोड़ कांग्रेस में शामिल हुए शत्रुघ्न सिन्हा ने भारतीय जनता पार्टी पर आरोप लगाते हुए कहा कि बीजेपी 'वन मैन शो' और 'टू मैन आर्मी' बन गई है. सिन्हा के कांग्रेस में शामिल होने पर केसी वेनुगोपाल ने कहा कि आज कांग्रेस में बेहतर और कर्मठ पॉलिटिशियन शामिल हो रहे हैं. उन्होंने कहा कि एक अच्छे नेता गलत पार्टी में थे, जो अब सही पार्टी में आए है. वह सप्ताह भर पहले राहुल गांधी से मिले थे और उन्होंने इनका कांग्रेस में स्वागत किया.  

पटना साहिब सीट 2019 चुनाव के लिए माना जा रहा बगावती सीट  

यहां पर पिछले कई वर्षों से शत्रुघ्न सिन्हा अपने परचम को लहराते दिखे लेकिन इस बार भाजपा के खिलाफ बगावती तेवर की वजह से कांग्रेस के चुनाव निशान पर चुनाव लड़ेंगे. मौजूदा  वक्त में 1946249 वोटर हैं जिसमें 54.07 प्रतिशत पुरुष और 45.93 प्रतिशत महिला वोटर हैं. साल 2014 के लोकसभा चुनाव में शत्रुघ्न सिन्हा 485905 वोट मिले थे और दूसरे नंबर पर कांग्रेस थी जिसने आरजेडी के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था उसे 220100 वोट मिले थे. जेडीयू तीसरे, आम आदमी पार्टी चौथे और  समाजवादी पार्टी पांचवें नंबर पर रही थी. आपको बताते चलें कि पटना साहिब  सीट से साल 2009 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने अभिनेता शेखर सुमन को मैदान में उतारा था और फिल्म निर्देशक प्रकाश झा भी प्रत्याशी थे. शेखर सुमन ने बाद में राजनीति से ही किनारा कर लिया.  फिलहाल देखने वाली बात यह होगी शत्रुघ्न सिन्हा किसी भी पार्टी से लड़ें उनके खिलाफ प्रत्याशी कौन होगा. अब जब वे बीजेपी से नहीं लड़ रहे हैं तो पार्टी उनके खिलाफ किसे उतारेगी यह भी अपने आप में दिलचस्प होगा.

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments