कुचलाई पम्प कैनाल पूर्ण रूप से चलवाने हेतु ग्रामीणों ने उपजिलाधिकारी सिधौली को सौंपा ज्ञापन

कुचलाई पम्प कैनाल पूर्ण रूप से चलवाने हेतु ग्रामीणों ने उपजिलाधिकारी सिधौली को सौंपा ज्ञापन

गोंदलामऊ सीतापुर।

विकास खण्ड गोंदलामऊ की ग्राम पंचायत कुचलाई के ग्रामीणों ने कुचलाई पंप कैनाल चलवाने हेतु मुख्यमंत्री द्वारा उपजिलाधिकारी सिधौली को लिखित रूप से ज्ञापन दिया।दिए गए ज्ञापन में उन्होंने लिखा है कि चार दशक पूर्व क्षेत्रीय किसानों के खेत की सिचाई कराने हेतु निर्मित हुई थी।जिससे क्षेत्र के ग्राम कुचलाई,गोपालपुर,सहोली,गढवै पुन्नापुर,तारापुर,खालेगढ़ी आदि  ग्रामो के सैकड़ो हेक्टेयर खेतो की सिचाई हुआ करती थी।लेकिन विभागीय अधिकारियों की अकर्मण्यता के चलते पंप कैनाल समता से नही चल रही है।ग्रामीणों ने इसके पूर्व कई बार शिकायती प्रार्थनापत्र व माननीय उच्च न्यायालय लखनऊ पीठ में रिट याचिका दायर करने के उपरान्त पंप नहर मुख्यालय पर विधुत समस्या से निजात पाने के लिए करोड़ों की लागत से 33/440 वोल्टस का रिजर्व सब स्टेशन का निर्माण कराया गया था।परन्तु नहर विभाग विधुत विभाग पर पर्याप्त वोल्टेज न मिलने की बात हुए नहर नही चलाता है।

विभागीय अधिकारियों की कृपादृष्टि/साठगांठ के चलते लल्लूराम 25 वर्षो से कुचलाई पम्प पर तैनात है।दिए गए ज्ञापन में उन्होंने लिखा कि  किसानों के हित को ध्यान में रखकर कुचलाई पंप कैनल पूर्ण क्षमता से चलाई जाए तथा दिनाँक 20 अप्रैल से 11 मई 2019 तक लगभग 20 दिनों तक नहर न चलाने वाले अधिकारियों व कर्मचारियों की जांच किसी उच्च अधिकारी द्वारा जॉच कराकर दोषियों के खिलाफ कार्यवाही की जाए, तैनाती दिनाँक से आज दिनाँक तक तैनात लल्लूराम का तुरंत स्थानान्तरण कराया जाए, यह की पंप मुख्यालय पर खराब ट्रांसफार्मर  अविलम्ब उपलब्ध कराते हुए पंप कैनाल को पूर्ण रूप से चलाने हेतु पर्याप्त वोल्टेज उपलब्ध कराया जाए।

तथा पंप तैनात कुचलाई के माइनर कुचलाई में स्थित राजकीय महाविद्यालय कुचलाई के सामने जेसीबी मशीन के द्वारा नहर से मिट्टी निकालकर माइनर को गड्ढे में तब्दील करने वाले दोषियों व नहर की देखरेख करने वाले जिम्मेदार द्वारा इस प्रकरण में कोई शिकायत व कार्यवाही न कर नहर के स्वरूप को बरबाद होने से बचाने में कर्तब्यहींन करने वाले दोषियों के विरूद्ध आवश्यक कार्यवाही करते हुए नहर व माइनर दुरुस्त कराई जाए।

तथा पंप कैनाल के केबिल व अधिकतर समय खराब रहने वाले मोटरों व अन्य यांत्रिक खराबियों को अविलम्ब दुरुस्त कराया जाए।यह की पम्प कैनाल के मुख्य नहर व माइनर की देखरेख करने वाले सीचपात के पम्प नहर पर अनुपस्थिति की जांच कराकर कर्तब्यहीनता करने वाले सीचपात के विरुद्ध कार्यवाही करते हुए इसको अपनी ड्यूटी पर उपस्थित रहने हेतु आदेशित किया जाएं।

 

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments