तमाम जद्दोजहद के बाद भी पुलिस और प्रशासन नहीं हटा पाए सड़क के बीचोबीच अतिक्रमण

मौके पर पूरी फोर्स के साथ पहुंचे लेखपाल और कानूनगो

• ग्रामीणों का आरोप बिना अतिक्रमण हटाये ही किया गया सड़क की मार्किंग

• लेखपाल और कानूनगो के मुताबिक नहीं किया ग्रामीणों ने अवैध कब्जा हटाने में सहयोग

• ग्राम प्रधान प्रतिनिधि संदीप सिंह ने अतिक्रमण हटाने का किया विरोध 

•  स्थानीय लोगों में अतिक्रमण न हटने से काफी रोष 

•  गांव वालो ने नहीं किया कोई दस्तख़त कुछ प्रधान के समर्थको ने किया हस्ताक्षर 

•  लेखपालों की टीम ने मौके पर नाप किया और सड़क की जमीन को किया मार्क 

•ग्रामीणों के इंतजार की घड़ी हुई समाप्त,मौके पर पहुंचे अधिकारियों ने चकरोड की मार्किंग कराकर बनवाने का दिया आश्वासन

•  लेखपाल राकेश सिंह मीडिया कर्मी को नसीहत देते नजर आये वीडियो बनाने का किया विरोध 

•  मौके पर नहीं आये आला अधिकारी पहले भी मामले मामले को करते रहे नजरअंदाज 

अंबेडकर नगर/भीटी:- 

रणवीर सिंह

उत्तर प्रदेश के अंबेडकर नगर जनपद के भीटी तहसील अंतर्गत आने वाले महरुआ ग्राम सभा के सुखई पुर गांव में काफी दिनों से रास्ते को लेकर विवाद चल रहा था ग्रामीणों ने आरोप लगाया था कि मुख्य मार्ग पर कई जगह दबंगों ने अवैध रूप से जेसीबी से खोदकर सड़क को अपने चक में मिला लिया है

जिसकी खबरें स्वतंत्र प्रभात मीडिया ने लगातार अपने समाचार पत्र के माध्यम से प्रकाशित कर संबंधित अधिकारियों को जानकारी दिया काफी हीला हवाली करने के बाद आखिर अधिकारियों को मौके पर पहुंचना ही पड़ा, 

आला अधिकारियों के गांव में पहुंचते ही दबंगों में हड़कंप मच गया और मौके पर काफी ग्रामीण भी इकट्ठा हो गए। ग्रामीणों में सही ढंग से सड़क बनने की  उम्मीदें जागने लगी और अधिकारियों ने शुरू किया चकरोड की मार्किंग का काम, मार्किंग करने के बाद लेखपाल और कानूनगो ने ग्राम प्रधान को मौके पर बुलाकर अवैध कब्जा हटाने के लिए निवेदन किया

लेकिन ग्राम प्रधान ने कोई सहयोग नहीं किया और बोले कि जब सड़क पटनी होगी तो सारा कब्जा हटवा कर सड़क पटाई जाएगी, अधिकारी मार्किंग करके मौके से चले गए अब ग्रामीणों की निगाहें इंतजार कर रही हैं कि आखिर कब तक सड़क हम लोगों को चलने के लिए मिलेगी।


      
 क्या था पूरा मामला.....

     मामला अंबेडकर नगर जनपद के भीटी तहसील अंतर्गत आने वाले मुकुंदी पुर ग्राम सभा के सुखई पुर गांव का है, जहां पर भीटी महरुआ मुख्य मार्ग से सुखईपुर को जोड़ने वाला एकमात्र रास्ता है, जिस पर काफी दिनों से दबंगों का अवैध रूप से कब्जा चल रहा था, जिन्होंने अवैध रूप से सड़क के बीचों बीच खुदाई कर अपने चक में मिला लिया है।

यदि ग्रामीण उसका विरोध करते थे तो दबंगों द्वारा आए दिन ग्रामीणों से मारपीट भी किया जाता था, जिसकी शिकायत ग्रामीणों ने लिखित रूप से 21 जुलाई को एसडीएम भीटीे को प्रार्थना पत्र देकर किया था, लेकिन उस प्रार्थना पत्र पर कोई कार्यवाही न होने से नाराज ग्रामीणों ने दोबारा 23 जुलाई को रिमाइंडर दिया था।



     जिसे आज अधिकारियों ने गंभीरता से लेते हुए मय पुलिस बल के साथ भीटी महरुआ मुख्य मार्ग से सुखई पुर को जोड़ने वाले मार्ग की पैमाइश किया और अवैध कब्जा हटवाने की कोशिश भी किया, लेकिन बातचीत में लेखपाल और कानूनगो ने बताया कि हमें ग्रामीणों का कोई सहयोग नहीं मिला जिस वजह से मार्किंग तो करा दी गई है लेकिन अभी अतिक्रमण नहीं हट पाया है ग्राम प्रधान ने अतिक्रमण हटाते हुए चकरोड बनवाने का आश्वासन दिया है।



       ग्रामीणों का आरोप है कि ग्राम प्रधान प्रतिनिधि संदीप सिंह ने अतिक्रमण को वैध बताकर कब्जा हटाने से आलाधिकारियों को मना कर दिया और चकरोड पाटते समय कब्जा हटाने की बात कहा।
    अब देखने वाली बात यह होगी कि क्या ग्राम प्रधान मार्किंग किए किए गए स्थान पर ही ढंग से रास्ते का निर्माण कार्य कराते हैं या मार्किंग हटने का इंतजार करते हैं।

इस मामले की और जानकारी के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करे और जाने पूरा मामला.....

आपराधिक छबि वाले दबंग ने सैकड़ो वर्ष पुराने सरकारी रास्ते को JCB से खोदकर कब्जा करने का किया प्रयास ,गांव की जनता में भयंकर रोष

ग्रामीणों ने ग्राम प्रधान पर गबन का लगाया आरोप

विवादित सड़क के गलत नव निर्माण से ग्रामीणों में भारी आक्रोश

एसडीएम भीटी के ऊपर लगा जनता को लगातार गुमराह कर झूठ बोलने का आरोप 

ADM ने मीडिया को धमकाया बोला ज्यादा मामले को उठाओगे तो गच्चा खा जाओगे 

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments