छात्र संगठन ने समाज कल्याण अधिकारी द्वारा मुख्यमंत्री को सौंपा ज्ञापन

छात्र संगठन ने समाज कल्याण अधिकारी द्वारा मुख्यमंत्री को सौंपा ज्ञापन

एससी एसटी की छात्रवृत्ति में 60% अंक मानक तय करने के विरोध में जताया विरोध

सुल्तानपुर-

शुक्रवार को छात्र संग़ठन एस०एफ०आई और भारत की जनवादी नौजवान सभा ने सरकार द्वारा sc/st छात्रों की छात्रवृत्ति के लिए 60 प्रतिशत अंक का मानक तय किया है जिसके विरोध में जिला समाज कल्याण अधिकारी द्वारा मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश को सम्बोधित ज्ञापन सौंपा गया ।

ज्ञापन सौंपते हुए संग़ठन के प्रदेश अध्यक्ष विवेक विक्रम सिंह ने कहा कि सरकार का यह फैसला पूरी तरह से SC/ST छात्रों को उच्च शिक्षा से दूर कर देगा । सरकार ने पहले SC/ST छात्रों के जीरो फीस प्रवेश पर रोक लगाया फिर छात्रवृत्ति और शुल्क प्रतिपूर्ति पर मानक तय करना जाहिर करता है कि सरकार गरीब तबके से आने वाले छात्रों को शिक्षा से दूर करने का रास्ता खोल दिया है ।हमारे संग़ठन की मांग है कि प्रवेश लिए है तो छात्रवृत्ति और शुल्क प्रतिपूर्ति बिना शर्त के देना होगा । 

इस  क्रम में भारत की जनवादी नौजवान सभा के जिला अध्यक्ष मुदस्सर खान व जिला सचिव शिवपूजन पांडेय ने कहा कि sc/st छात्रों के लिए बना हुआ जनपद का एक मात्र छात्रावास "जवाहर छात्रावास " ढहाये जाने के बाद से अभी तक नही बना है जबकि इसके निमार्ण को लेकर जिला पंचायत व शासन से कई बार पत्र व्यवहार किया गया जल्द ही छात्रवास के निर्माण की प्रक्रिया शुरू नही हुई तो बड़ा प्रदर्शन किया जायेगा ।

एस०एफ०आई० जिला सचिव राजीव तिवारी व अध्यक्ष दिव्यांग शर्मा ने कहा कि  जिले के अंदर के सभी महाविद्यालयों में वितरित होने वाली छात्रवृत्ति और शुल्क प्रतिपूर्ति में भयानक असमानता है जिस कोर्स में पहले छात्रवृत्ति और शुल्क प्रतिपूर्ति मिलाकर 28 हजार आती थी अब वहां पर 10 हजार से 11 हजार मिल रहा है कुछ को वो भी नही । बी०एस०सी०व बी०ए० जैसे कोर्सेस में भी भारी अनियमितता व्याप्त है ।

हम संग़ठन की तरफ से यह मांग करते हैं कि सरकार तत्काल 60%का मानक हटाये और सबको फीस के ढ़ाचे के हिसाब से छात्रवृत्ति और शुल्क प्रतिपूर्ति देना सुनिश्चित करे ।

कार्यक्रम में शशांक पाण्डेय ,राधेश्याम वर्मा, रोहित नाविक , सौरभ मिश्र , अम्बुज , सुनील , विवेक मौर्य , मानवेन्द्र आयुष , हरिराम , जुल्फीकार अहमद , धीरेन्द , दर्जनों साथी मौजूद रहे ।

Comments