भरुआ सुमेरपुर के रेलवे स्टेशन पर पानी का संकट, राहगीर परेशान 

 भरुआ सुमेरपुर के रेलवे स्टेशन पर पानी का संकट, राहगीर परेशान 

रेलवे स्टेशन से लेकर बस स्टैण्ड सहित कस्बे के सार्वजनिक स्थानों पर पेयजल का भारी संकट है। राहगीरों को पानी खरीदना पड़ रहा है। स्वयं सेवी संस्थाओं ने जरूर सुबह-शाम लोग का हलक तर कराना शुरू कर रखा है। इसके बावजूद प्रशासन ने कोई व्यवस्था नहीं कराई है।

स्थानीय रेलवे स्टेशन के लगभग सभी हैण्डपंप खराब है। प्लेटफार्म संख्या एक एवं दो में बनाए गए सभी वाटर प्वाइंट बंद हैं। इससे यात्रियों को ट्रेन रुकने के बाद पानी नहीं मिल पाता है। प्लेटफार्म नंबर एक में एक वाटर कूलर दो टोटी वाला लगा है।

जो सिर्फ कर्मियों की प्यास बुझा रहा है। दैनिक यात्री बबलू वर्मा इचौली, जीतेंद्र कुमार बांदा, बबलू विश्वकर्मा सुमेरपुर, रोहित गुप्ता सुमेरपुर आदि ने बताया कि प्यास बुझाने के लिए घर से पानी लेकर चलना पड़ता है।

यात्रियों की प्यास बुझाने के लिए पिछले कुछ दिनों से समाजसेवी भी सक्रिय है। कस्बे के रज्जन पाण्डेय, आतम सेठ, जीतू सोनी, ब्रह्मा मिश्रा, वैद्य नीरज सुबह-शाम एवं दोपहर में गुजरने वाली यात्री ट्रेनों के यात्रियों को ठंडे पानी के पाउच बांट रहे हैं।

प्रतिवर्ष यहां पर नगर पंचायत की ओर से अप्रैल माह में पौशाला खोली जाती थी। लेकिन इस साल नहीं खोली गई है। इससे सुबह-शाम आने-जाने वाले यात्रियों को पानी खरीदकर हलक तर करना पड़ता है। स्टेशन मास्टर श्रीकृष्ण कुशवाहा ने बताया कि दोनों प्लेटफार्मों में बने वाटर प्वाइण्टों में टोटियां न होने के कारण आपूर्ति में समस्या आ रही है। खराब हैण्डपंप ठीक कराए जा रहे हैं।

 

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments