सुप्रीम कोर्ट के फैसले से शिक्षकों में दिखा आक्रोश,गैर सरकारी कार्य करने से किया इंकार

सुप्रीम कोर्ट के फैसले से शिक्षकों में दिखा आक्रोश,गैर सरकारी कार्य करने से किया इंकार

भागलपुर:

समान कार्य के बदले समान वेतन पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से नाराज सभी शिक्षक संगठनों ने बैठक की।

कहा, हाईकोर्ट के फैसले के बाद सरकार हमें अपना हक न देकर सुप्रीम कोर्ट चली गई। इस पर बैठक में उपस्थित सभी शिक्षक संघों ने राज्य सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। कहा, अब हमारी बारी आने वाली है। शिक्षकों संघों ने सर्वसम्मति ने यह फैसला लिया कि सभी नियोजित शिक्षक प्रभारी प्रधानाध्यापक पद से इस्तीफा देंगे। बीएलओ, बीआरपी, सीआरसीसी, मिड-डे मील आदि गैर शैक्षणिक कार्य नहीं करेंगे।उक्त फैसले पर अंतिम निर्णय राज्य संघों पर छोड़ दिया गया।

उनके दिशा निर्देश पर आगे चरणबद्ध आंदोलन चलाए जाने का फैसला लिया गया। बैठक की अध्यक्षता विजय कुमार सिंह कर रहे थे। बैठक में बिहार पंचायत नगर प्रारंभिक शिक्षक संघ के उप सचिव सुप्रिया सिंह, विनोद कुमार यादव, राकेश कुमार पांडेय, चंदा सिंह , मु. इरफान, मु. मासूम रजा, जयमाला, निशा, प्रिय रंजन, राजीव रंजन सहित अन्य उपस्थित थे।इधर, टीईटी-एसटीईटी के जिला सचिव रणवीर कुमार ठाकुर ने कहा सरकार नियोजित शिक्षकों के विरूद्ध सौतेला व्यवहार कर रही है।

भविष्य निधि, सेवानिवृति लाभ एवं पेंशन जैसी सुविधाओं से वंचित कर दिया गया है। जिस कारण ये शिक्षक सेवानिवृत होने के बाद भुखमरी के कगार पर चले जाएंगे। सरकार को समय रहते शिक्षक समुदाय के हित में उचित निर्णय करनी चाहिए।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments