ये है स्वस्थ रहने के अचूक उपाय, जरूर अपनाइये ...

ये है स्वस्थ रहने के अचूक उपाय, जरूर अपनाइये ...

स्वस्थ रहने के अचूक उपाय (the perfect way to stay healthy)


1 प्रातःकाल जल्दी उठना है लाभकारी (early in the morning is beneficial)


सर्वप्रथम हमें स्वस्थ रहने के लिए सुबह ब्रह्म मुहूर्त यानी कि सुबह 4:00 से 5:00 बजे के बीच में उठ जाना चाहिए। उठने के पश्चात सूर्य आराधना से दिन कि शुरुआत करें, इससे आपको एक शक्ति का अनुभव होगा। यह शक्ति दिनभर आपको उर्जा प्रदान करेगी। हमें पता है कि इस समय प्रकृति हमें शुद्ध प्राण-वायु, प्रसन्नता एवं स्वास्थ्य इत्यादि प्रदान करती है। सुबह का समय ही योगासन एवं व्यायाम के लिए उचित होता है। सुबह उठकर पैदल 2-3 किलोमीटर तक घूमने जाएँ। इसलिए सुबह जल्दी उठने की आदत डालें और स्वस्थ रहें।

2 प्रोटीन से भरपूर भोजन करें (eat rich protein)
अगर हमें स्वस्थ रहना है तो हरी पत्तेदार साग-सब्जिओं का प्रयोग अधिक से अधिक मात्रा में करना चाहिए। भोजन हमेशा चबा-चबाकर करना चाहिए। इससे हमारी पाचन-क्रिया भी ठीक प्रकार से कार्य करती है। भोजन में नित्य प्रतिदिन फल तथा सलाद का प्रयोग करें। बाहर के दूषित खाने से परहेज करें। नाश्ते में फाइबरयुक्त दलिया ओट्स एवं केल्लोग्स का सेवन करें। ऐसा करने से निश्चित ही आप स्वस्थ रहेंगे।

3 उषापान करें :
सुबह शयन कक्ष से उठते ही मूत्र त्याग करने के पश्चात बासी मुंह से कम से कम 1 लीटर या दो से तीन गिलास ताम्बे के पात्र में रखा हुआ शीतल जल पीना चाहिए। ऐसा करने से मोटापा, आंखों के रोग, कब्ज सहित कई रोगों से छुटकारा मिल सकता है। ध्यान रहे बहुत अधिक ठंडा पानी या फ्रिज का पानी न पीयें।

4 स्नान नित्य प्रतिदिन करें (shower daily daily)
कहते हैं कि स्नान करने से हमारा शरीर और मन दोनों ही स्वच्छ होते हैं। इसलिए हमें प्रतिदिन स्नान अवश्य करना चाहिए। सुबह के समय स्नान हमेशा सामान्य शीतल जल से ही करना चाहिए। लेकिन मौसम के अनुकूल आप ठंडा या गर्म पानी का भी चयन कर सकते हैं। स्नान करने से हमारे शरीर के रोम छिद्र खुल जाते हैं और हमें स्फूर्ति प्रदान करते हैं। प्रातःकाल स्नान करने से हमारा शरीर निरोग रहता है। स्नान करते वक्त हमेशा यह ध्यान रखें कि सर्वप्रथम पैर धोएँ फिर सर पर पानी डालें।

5 शीतल जल से धोएं आँखें (wash with cold water eyes)
सुबह फ्रेश होने के साथ ही, हाथों में जल लेकर अपनी आंखों को खोलकर शीतल जल से हल्के हाथों से छींटे मारें।  आँखों को स्वस्थ रखने के लिए आप अनुलोम-विलोम योग का भी प्रयोग करें। ऐसा करने से आँखें सदैव स्वस्थ रहती हैं और किसी भी प्रकार की बीमारी नहीं होती है। इससे आपकी आँखों की रौशनी भी बराबर बनी रहेगी।

6 प्रतिदिन योग एवं व्यायाम करें (yoga and exercise every day)
आजकल की तेज तर्रार ज़िन्दगी में हम स्वस्थ रहने के अचूक उपाय को भूल ही चुके हैं। हम व्यायाम और योग को अपने जीवन में अपनायें तो यह हमारे स्वास्थ्य के लिए वरदान साबित होगा। योगगुरु बाबा रामदेव जी के अनुसार यदि योग को अपनाएं तो लगभग हम सभी प्रकार के रोगों से बच सकते हैं। इसलिए अपनी शारीरिक क्षमता के अनुसार प्रतिदिन योग और व्यायाम करना चाहिए। यदि संभव हो तो किसी योगगुरु की देख-रेख में ही योग करें। सही तरीके से योग न करना हमारे लिए हानिकारक हो सकता है।

7 जल का सेवन ऐसे करें (eat water)
जल का सेवन हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही आवश्यक है। लेकिन यदि कई लोग जल को गलत तरीके से ग्रहण करते हैं। सही तरीके से जल न ग्रहण करना हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। मोटापा और कब्ज जैसे रोगों से बचने के लिए भोजन के 30 मिनट पहले से लेकर 30 मिनट बाद तक जल ग्रहण नहीं करना चाहिए। भोजन करते समय कदापि जल का सेवन ना करें। अगर भोजन करते समय आपको जल की आवश्यकता पड़ती है तो एक दो घूंट ही जल ग्रहण करें। पूरे दिन में कम से कम 3 से 4 लीटर पानी अवश्य पिएं।

8 भोजन करने के बाद वज्रासन करें (vajrasan after eating)
भोजन करने के पश्चात वज्रासन में 5 से 10 मिनट तक बैठना चाहिए। इससे आपकी पाचन प्रणाली भी ठीक रहती है। कुछ समय लगभग 15 मिनट तक टहल लें। रात का भोजन करने के पश्चात कम से कम 500 कदम तक पैदल चलना चाहिए यह क्रिया प्रतिदिन करने से आपका शरीर स्वस्थ रहता है। सोते समय सर्वप्रथम बाई करवट लेकर ही सोना चाहिए। भोजन करने के पश्चात तुरंत बिस्तर पर नहीं सोना चाहिए। ऐसा करने से मोटापा और कब्ज़ जैसी बीमारियाँ उत्पन्न हो जाती हैं।

9 दांतों की प्रतिदिन करें सफाई (cleaning of teeth every day)
दांत हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग हैं। हमें इनकी स्वछता का विशेष ध्यान रखना चाहिए। सुबह उठने के साथ ही दाँतों की सफाई करनी चाहिए। रात में सोने से पूर्व दातों की सफाई अवश्य करनी चाहिए। इससे हमारे दांत स्वस्थ रहेंगे और हमें दांत से सम्बंधित कोई भी बीमारी नहीं लगती।

10 पूर्ण निद्रा है आवश्यक (full sleep is necessary)
दोस्तों वैसे तो आज के इस युग में हमारी जीवन शैली ही ऐसी हो गयी है। हम रात को देर तक जागते हैं। सुबह जल्दी उठाना हमारे लिए मुश्किल सा हो गया है। लेकिन यदि हम अपनी दिनचर्या में कुछ परिवर्तन करें। तो इसका लाभ हमारे स्वस्थ के लिए उचित होगा। इसलिए रात्रि को समय पर सो जाएँ और भरपूर नींद लें। ताकि आपके शरीर को पूर्ण रूप से आराम मिल सके। चिकित्सा विज्ञान (medical science) और आयुर्वेद के अनुसार स्वस्थ रहने के लिए कम से कम 7 से 8 घंटे तक निद्रा लेना आवश्यक है। गर्मी के मौसम के अलावा अन्य मौसम में देर रात तक जागना शरीर में भारीपन, मोटापा, बुखार, जुखाम तथा अपच जैसी समस्यायों को बुलावा देने का कार्य करते हैं।

 

 

Comments