गायत्री महायज्ञ से अमन-चैन की दुआ मांगी

गायत्री महायज्ञ से अमन-चैन की दुआ मांगी

उन्नाव। राम मन्दिर प्रकरण पर अपने राष्ट्र के सर्वोच्च अदालत का फैसला आने के बाद हम सभी समुदाय के लोग न्यायालय के आदेश का आदर करते हुए स्वेच्छा से सहर्ष निर्णय स्वीकार करते हुए अमन-चैन से रहें।

इसी कामना के साथ स्थानीय गायत्री शक्ति पीठ पर रविवार को गायत्री महायज्ञ करके गायत्री परिजनों नें यज्ञ पिता, गायत्री माता से आपस में अमन-चैन की दुआ मांगी।व्यवस्थापक सिद्धनाथ श्रीवास्तव ने कहा कि हम सब का दायित्व है कि अपने ग्राम, मोहल्ले, वार्ड में अशान्ति फैलाने वालों की सूचना प्रशासन को दें ताकि हम सब में आपसी भाईचारा एवं समरसता बनी रहे।

इसी यज्ञीय सुगंध में शान्तिकुंज हरिद्धार से प्रशिक्षित गायत्री परिव्राजक पं.चन्द्रकिशोर द्विवेदी नें सामूहिक यज्ञोपवीत संस्कार में 4 बटुकों शिखर बाजपेयी, विनीत शुक्ला, अंकित मिश्रा एवं विपिन शुक्ला को वैदिक मंत्रोच्चारण करते हुए यज्ञोपवीत धारण कराया और बताया कि शिखा-सूत्र आर्यजनों की पहचान है।

अन्त में वरिष्ठ संरक्षक चन्द्रकान्त तिवारी नें गायत्री परिजनों के साथ बटुकों एवं उनके परिवारीजन को मंगलमय जीवन की कामना की और सभी नें एक स्वर से कम जल का प्रयोग का संकल्प लिया, क्योंकि जल ही जीवन है।

इस अवसर पर प्रमुख रूप से जयसिंह वर्मा, सिद्धनाथ श्रीवास्तव, सुरेश चन्द्र मिश्रा, अजय कुमार शुक्ला, सुशील कुमार जायसवाल, विश्वास त्रिपाठी, अश्विनी मिश्रा, सरल अग्निहोत्री, विमला मिश्रा, साधना, सुदामा एवं बटुकों के सैकड़ों परिवारीजन उपस्थित रहे।

Comments