इस साल की दीवाली मिट्टी के बर्तन बनाने वाले गरीबो के नाम करेः हिन्दू जागरण मंच

इस साल की दीवाली मिट्टी के बर्तन बनाने वाले गरीबो के नाम करेः हिन्दू जागरण मंच

उन्नाव

प्रतिवर्ष दीवाली पर चीनी झालरों के विरुद्ध जमीन पर जनजागरण अभियान चलाने वाले हिन्दू जागरण मंच ने इस बार प्रांतीय मंत्री एवं प्रभारी विमल द्विवेदी के नेतृत्व में चीनी झालरों के विरोध के साथ जमीन पर जनजागरण के लिए एक नई रणनीति अपनाई है

जिसमें हिन्दू जागरण मंच ने लोगों से कुम्हारों के बने मिट्टी के दिए खरीदने को प्रेरित करने के लिए दीवाली पर मिट्टी के दिए फुटपाथ पर बेंच रहे कई गरीब कुम्हारों से इकट्ठे खरीद लिए और बाजार में उपस्थित आम लोगो को मुफ्त में बाँटकर हर घर में कम से कम दस दिए जलाने का आह्वाहन किया एवं स्वदेशी वस्तुओ के प्रति प्रेरित करने का अभियान चलाया।

इस अवसर पर दूर-दराज गाँवो से आकर शहर में मिट्टी के दिए बेचने वालो के चेहरे पर रौनक साफ दिखी कि ग्लोबलाइजेशन के दौर में कोई उन गरीबों भी चिंता कर रहा है क्योंकि चीनी झालरों के बाजार में आने से उनके बनाए दीयो को कई वर्षो से कोई नही पूंछ रहा था। लोग झालर लगाने को प्राथमिकता देते रहे है।

इन दिए बेंचने वालो ने खुशी जताकर कहा कि वो भी अब घर जाकर खुशी से दिवाली मना सकेंगे। इस अभियान को लेकर विमल द्विवेदी ने कहा हमें स्वदेशी व अपने आसपास के दुकानदारो को प्राथमिकता देनी चाहिए।

जहाँ दीवाली भारत मनाता है लेकिन पैसा चीन को देता है जो पाकिस्तान को हर तरह से मदद करता है। विमल द्विवेदी ने कहा हालांकि लगातार अभियानों से थोड़ी जागरूकता लोगो में आई है लेकिन अभी भी जमीन पर काफी काम करना है

उन्होंने पाम आयल इम्पोर्ट करने वाले भारतीय व्यापारियों द्वारा मलेशिया के आर्डर कैंसिल करने पर उन्हें धन्यवाद दिया और कहा ये नया भारत है

जो सशक्त है और जवाब देने में सक्षम भी। इस अवसर पर मंच के जिलाध्यक्ष अजय त्रिवेदी नगर अध्यक्ष विकास सिंह सेंगर महामंत्री धर्मेन्द्र शुक्ला युवा प्रभारी मनीष अवस्थी उपाध्यक्ष शिवम आजाद राजेश शुक्ला मंत्री मनीष पाण्डेय नगर उपाध्यक्ष अंशू शुक्ला वीरांगना प्रमुख शोभा पाण्डेय सुधा अवस्थी विकास जायसवाल शिवम चैरसिया अभिषेक अवस्थी बैभव अवस्थी नितिन सिंह जीतेन्द्र शुक्ला पप्पी शुक्ला जय अवस्थी विष्णु गुप्ता अभिषेक तिवारी परभजीत सरदार विपिन कुमार नगर मंत्री शुभम कनौजिया आदि दर्जनों भगवा रक्षक मौजूद रहे।

Comments