उन्नाव की बड़ी खबरे

उन्नाव  की बड़ी खबरे

मामूली विवाद में दो पक्ष भिड़े, तीन घायल


उन्नाव।

आसीवन क्षेत्र में खङी फसल को मवेशी निगलने लगा। शिकायत पर दोनों पक्षों में कहासुनी के बाद मारपीट हो गई जिसमें तीन लोग घायल हो गए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायलों को इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मियांगंज में भर्ती कराया। जहां डाक्टर ने हालत नाजुक देख जिला अस्पताल रेफर कर दिया। दोनों पक्षों की तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

आसीवन थाना क्षेत्र के चैकी रसूलाबाद के मोहल्ला सुभाषनगर निवासी उमेश 35 पुत्र बैठू अपनी गोभी फसल की रखवाली कर रहा था तभी सुभाषनगर निवासी बबलू 35 वर्ष व जब्बार पुत्रगण घसीटे 24 वर्ष का मवेशी खेत में खङी गोभी की फसल को निगलने लगा जिसको लेकर कहासुनी के बाद मारपीट हो गई। दोनो पक्षों के तीन लोग घायल हो गए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायलों को इलाज के लिए सीएचसी मियांगंज में भर्ती कराया। जहां डाक्टर ने हालत नाजुक देख जिला अस्पताल रेफर कर दिया। इस संबंध में थाना प्रभारी राजेश सिंह से बात की गई तो बताया खेत में मवेशी को लेकर विवाद हुआ। जांच करने के बाद कार्यवाही की जाएगी।

 

दीपावली में आतिशबाजी से रहें सुरक्षित

  • दीपावली पर सम्बन्धित अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश

उन्नाव। जिलाधिकारी देवेन्द्र कुमार पाण्डेय की अध्यक्षता में हुई बैठक में दीपावली महोत्सव के दृष्टिगत सुरक्षा व्यवस्था के सम्बन्ध में अधीनस्थों के साथ समीक्षा की गयी जिसमें उपस्थित अधिकारियों को निर्देश दिये गये कि धनतेरस एवं दीपावली के त्योहार को शांतिपूर्ण सम्पन्न कराने के लिये चिन्हित स्थलों पर राजपत्रित अधिकारियों, थाना प्रभारियों की समय से ड्यूटी लगायी जाये। उन्हें बताया गया विगत 5 वर्षों में दीपावली त्योहार में कानून व्यवस्था को प्रभावित करने वाली कोई घटना नहीं हुई है।

बैठक के दौरान जिलाधिकारी ने बताया कि जनपद में आतिशबाजी बनाने वाले लाइसेन्स धारकों के गोदामों एवं विक्रय एवं अवैध अतिशबाजों पर बराबर नजर बनायी रखी जा रही है। उपजिलाधिकारी, क्षेत्राधिकारियों आदि से अवैध रूप से बना रहे अतिशबाजी की जांच करायी जा रही है तथा सुसंगत धारा के तहत कार्यवाही की जा रही है नियमित रूप से पैदल गस्त करायी जा रही है। आतिशबाजी के विक्रय के निर्धारित स्थानों पर फायर टेण्डर, अग्निशमन उपलब्ध रखने के निर्देश विस्फोटक लाइसेंस धारकों को दिये गये हैं। उन्होंने बताया कि अग्निशमन अधिकारियों से कहा गया है कि आतिशबाजी बैण्डरों द्वारा सुरक्षा के मानक पूरे कराये जाय, फायर फाइटिंग उपकरणों को क्रियाशील रखा जाये।

त्योहारों को दृष्टिगत रखते हुये नगरीय/ग्रामीण क्षेत्रों में सफाई करायी जाये। सफाई व्यवस्था की चेकिंग/सफाई कर्मचारियों की उपस्थिति के सत्यापन हेतु अधिकारियों की टीम गठित करने के निर्देश दिये गये। पेयजल की उपलब्धता एवं खाद्य सुरक्षा के तहत दुकानों से खाद्य नमूनों का सेम्पल लिया जाये। बैठक में जिलाधिकारी ने जनता से भी आह्वान किया कि दीपावली के मौके पर साफ-सफाई व सुरक्षा का ध्यान दिया जाये। उन्होंने व्यापार मण्डल के अध्यक्ष को निर्देश दिये कि सभी पटाखों के दुकानदारों से आह्वान करें कि वे एक बड़ा डिब्बा रख लें और पटाखों के रैपर आदि उसी में रखें ताकि सड़कों आदि में सफाई की व्यवस्था हो सके। बैठक के दौरान पुलिस अधीक्षक एमपी वर्मा अपर जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह, समस्त उपजिलाधिकारी, क्षेत्राधिकारी, मुख्य चिकित्साधिकारी, व्यापार मण्डल के अध्यक्ष आदि उपस्थित थे।

 

निर्वाचन नामावलियो का घर-घर जाकर हो रहा सत्यापन 


उन्नाव।

उप जिला निर्वाचन अधिकारी/अपर जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह ने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार अहर्ता 1 जनवरी 2020 के आधार पर विधानसभा निर्वाचक नामवालियों के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण के पूर्व मतदाता सत्यापन का कार्य चल रहा है जिसके अंतर्गत मतदाताओं के मतदाता पहचानपत्र का सत्यापन बीएलओ के द्वारा घर-घर जाकर किया जा रहा है। आयोग के निर्देशानुसार जिन दस्तावेजों से सत्यापन कराया जा सकता है उनका वर्णन करते हुए उन्होंने बताया कि इंडियन पासपोर्ट, आधार कार्ड, पैन कार्ड, बैंक पासबुक, वाटर टैक्स बिल, टेलीफोन बिल, बिजली बिल, गैस कनेक्शन बिल, ड्राइविंग लाइसेंस, राशनकार्ड, स्मार्ट कार्ड, किसान पहचानपत्र, सरकारी, अर्धसरकारी विभाग द्वारा जारी पहचानपत्र है। उन्होंने कहा कि यह भी स्पष्ट किया गया है कि सत्यापन हेतु आधारकार्ड अनिवार्य नहीं है अन्य दस्तावेजों के माध्यम से भी सत्यापन कराया जा सकता है।

आधारकार्ड को मतदाता पहचानपत्र से लिंक नहीं किया जा रहा है। मतदाता स्वयं भी वोटरकार्ड का किसी दस्तावेज के द्वारा नेशनल वोटर सर्विस पोर्टल पर जाकर ऑनलाइन सत्यापन कर सकते हैं। इस वेबसाइट पर इलेक्टर वेरिफिकेशन का विकल्प चुनना होगा। इसके अलावा नजदीकी मतदाता पंजीकरण केंद्र, अपने क्षेत्र के बीएलओ, राष्ट्रीय मतदाता सेवा पोर्टल मोबाइल ऐप या हेल्पलाइन नंबर 1950 के जरिए भी सत्यापन कराया जा सकता है। उन्होंने बताया कि नजदीकी कॉमन सर्विस सेंटर के माध्यम से भी सत्यापन कराया जा सकता है। इसके अतिरिक्त किसी भी परिवार के एक सदस्य द्वारा उपलब्ध कराये गए किसी दस्तावेज से परिवार के अन्य मतदाताओं का सत्यापन कराया जा सकता है। उन्होंने समस्त मतदाताओं को सूचित करते हुए बताया है कि अपने मतदाता पहचान पत्र का सत्यापन 5 नवंबर तक अवश्य करा लें।

 

डेढ़ किलो गांजा सहित महिला गिरफ्तार
उन्नाव। बारासगवर थाना क्षेत्र के अंतर्गत धानीखेड़ा निवासी एक महिला को पुलिस ने डेढ़ किलो गाँजे के साथ गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। पुलिस की कार्यवाही में महिला कांस्टेबल विनीता ने अहम भूमिका निभाई। मादक पदार्थों की बिक्री में सोनी द्विवेदी पत्नी अनिल द्विवेदी निवासी धानीखेड़ा जिसे थाना क्षेत्र के भटखेरवा गांव से महिला कांस्टेबल विनीता की मदद से थाना पुलिस ने धर दबोचा। लम्बे समय से यह महिला मादक पदार्थों की बिक्री में संलिप्त है। पुलिस को अर्से से इसकी तलास थी किन्तु हाथ नहीं आ रही थी।

 

दरोगा ने रेप पीड़िता परिवार से मांगी घूस
उन्नाव। बारासगवर थाने में तैनात एक दरोगा ने रेप पीड़ित परिवार से ही रुपयों की मांग कर थाने को शर्मसार करने का काम किया है। पीड़िता के पिता ने थाने में तैनात वरिष्ठ उपनिरीक्षक पर घूस मांगने का आरोप लगाया है। प्रभारी निरीक्षक ने कहा कि मामले की जांच कर उच्चाधिकारियों को अवगत कराया जाएगा। बारा थाना क्षेत्र के एक गांव में 16 अक्टूबर को प्राइवेट शिक्षक ने एक 8 वर्षीय बालिका के साथ रेप की घटना को अंजाम दिया था। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था।

वही कागजों की खानापूर्ति के लिए हल्का प्रभारी वरिष्ठ उप निरीक्षक अशोक कुमार गुप्ता ने रेप के पीड़ित परिवार से रुपयों की मांग की। रेप पीड़िता बालिका के पिता का आरोप है कि मेडिकल परीक्षण भेजे जाने के दौरान उन्नाव जिला चिकित्सालय परिसर में वरिष्ठ उपनिरीक्षक अशोक कुमार द्वारा उससे 1500 की मांग की गई। मेरे पास रुपये न होने के चलते धमकी दी गई कि मामला बिगड़ जाएगा। थाने के प्रभारी निरीक्षक मुकेश कुमार वर्मा ने बताया कि अभी इस मामले में उन्हें कोई सूचना नहीं है लेकिन फिर भी मामले की जांच कराकर उच्चाधिकारियों को भी अवगत कराया जाएगा।

 

लम्बित वादों को त्वरित गति से पैरवी के दिये गये निर्देश


उन्नाव।

जिलाधिकारी देवेन्द्र कुमार पाण्डेय की अध्यक्षता में स्थानीय पन्नालाल हाॅल में कानून व्यवस्था से सम्बन्धित बैठक की गयी, जिसमें जिलाधिकारी ने अभियोजन कार्य एवं कानून व्यवस्था के सम्बन्ध में न्यायालय से जुड़े अधिकारियों एवं शासकीय अधिवक्ताओं से कहा कि मुकदमों की पैरवी, सरकारी-गैर सरकारी गवाहों की उपस्थिति समय से न्यायालय में दर्ज करायी जाये। गम्भीर वादों में शासकीय पक्ष मजबूत रखते हुये समय से पीड़ित को न्याय दिलाने का प्रयास करें। गैंगेस्टर एक्ट जैसे अन्य वादों में त्वरित पैरवी कराई जाये इसमें शिथिलता न बरती जाये।

इस अवसर पर उपस्थित अधिकारियों से वादों के निस्तारण की गहन समीक्षा की, जिसमें अभियोजित वादों का विवरण, जमींदारी उन्मूलन की धारा पर विचार, तीन बड़ी सजाओं, कार्यवाही शिनाख्त, अभियुक्त एवं माल तथा गवाहों के सम्बन्ध में अपेक्षित कार्यवाही पर बल दिया। जिला पूर्ति, वन एवं परिवहन विभाग के प्रवर्तन कार्यों से सम्बन्धित, आबकारी अपराधों के नियन्त्रण हेतु मारे गये छापे, कृषि प्रकोष्ठ द्वारा न्यायालय भेजे गये मामले, खाद्य अपमिश्रण निवारण अधिनियम के अन्तर्गत कार्यवाही, श्रम, विद्युत, अवैध खनन, परिवहन, भण्डारण के विरूद्ध की गयी कार्यवाही की समीक्षा की गयी। बैठक के दौरान पुलिस अधीक्षक एमपी वर्मा, अपर जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह, संयुक्त निदेशक अभियोजन सुरेन्द्र सिंह यादव, समस्त उपजिलाधिकारी व क्षेत्राधिकारी, अपर पुलिस अधीक्षक, शासकीय अधिवक्ता आदि उपस्थित थे। 

 

‘द मिलियन फार्मस स्कूल‘ किसान पाठशाला का आयोजन
उन्नाव। जिलाधिकारी देवेन्द्र कुमार पाण्डेय के निर्देशन में ‘द मिलियन फार्मस स्कूल‘ किसान पाठशाला का आयोजन जनपद के सभी विकास खण्डों के 133 राजस्व ग्रामों में किया गया। विकास खण्ड नवाबगंज के ग्राम पटकापुर में निदेशक कृषि प्रसार रामशब्द जैसवारा ने किसान पाठशाला आयोजन का निरीक्षण किया, उन्होेंने कृषकों को सम्बोधित करते हुये कहा कि किसान भाईयों को अपनी आय को दोगुना करने के लिये 21 उपाय जिसमें मृदा, बीज, सिंचाई, उर्वरक, कृषि रक्षा रसायन आदि के बारे में तकनीकी जानकारी निहित है। उन्होंने उत्पादन द्वारा वृद्धि लागत कम कम करने के बारे में जानकारी दी।

उन्होंने कहा कृषि से विविधिकरण करके, रबी मौसम में संरक्षित खेती करके, पशुपालन और मत्स्य पालन करके अपनी आमदनी किसान भाई दोगुनी कर सकते है। उन्होंने सहफसली और अन्तः फसली खेती के रूप में आलू के साथ राई, चना के साथ राई, रबी मक्का के साथ सब्जी, मटर खेती करने की सलाह दी। किसान पाठशाला में विकास खण्ड असोहा के ग्राम कांथा में उप कृषि निदेशक (भूमि संरक्षण), लखनऊ मण्डल लखनऊ एसपी सिंह ने भाग लिया, कृषकों को जानकारी दी। कार्यक्रम में अलग-अलग स्थलों पर उप कृषि निदेशक, जिला कृषि अधिकारी, जिला कृषि रक्षा अधिकारी, भूमि संरक्षण अधिकारी, सहायक निदेशक मत्स्य, पशु चिकित्साधिकारी ने पाठशाला में उपस्थित रहकर कृषकों को विभागीय योजनाओं के अनुदान की जानकारी दी

और तकनीकी जानकारी दी। उप कृषि निदेशक ने बताया कि उद्यान विभाग की ओर से 28900 रूपया का स्प्रिंकलर सेट प्राप्त होता है, जिसमें 22600 का अनुदान किसान भाईयों के खाते में जायेगा, इसी तरह से 20 हार्स पावर के टैªक्टर पर 1 लाख रूपया का अनुदान, 8 हार्स पावर के पावर टीलर पर 50 से 75 हजार का अनुदान देय है, इसी तरह से पशुपालन, सब्जी खेती, मसालों पर 50 से 90 प्रतिशत तक का अनुदान किसान भाई उद्यान विभाग से सम्पर्क कर प्राप्त कर सकते है। 

 

शहीद अशफाक उल्ला खां को जयन्ती पर दी गयी श्रद्धांजलि
उन्नाव। दावतुल हक उमर सोसाइटी की जानिब से आइडियल इस्लामिक स्कूल किला छिपियाना चैराहा में वीर शहीद क्रान्तिकारी अश्फाकउल्ला खां की जयन्ती दिवस समारोह मनाया गया। 
इस मौके पर जयन्ती समारोह को सम्बोधित करते हुए दावतुलहक उमर सोसाइटी के अध्यक्ष मोहम्मद अहमद ने कहा कि अश्फाकउल्ला खां की बहादुरी के चर्चे पूरी दुनिया में होते हैं और अंग्रेज उनसे बहुतत घबराते थे। उनका सामना भी नही करते थे। जब 9 अगस्त 1925 को काकोरी कान्ड का अशफाकउल्ला खां ने बहादुरी के साथ मुकाबला किया। वही से अंग्रेजों के हौसले पस्त हो गये अंग्रेज बेबस हो गये और अश्फाकउल्ला खां को फांसी पर लटका दिया गया।

इस मौके पर मास्टर मोहम्मद आरिफ ने कहा कि काकोरी षडण्यन्त्र के सम्बन्ध में जब एचआरए दल की बैठक हुई तो अश्फाकउल्ला खां ने ट्रेन डकैती का विरोध करते हुए कहा कि इस डकैती से हम सरकार को चुनौती तो अवश्य दे देंगे परन्तु यहां से पार्टी का अंत प्रारम्भ हो जायेगा क्योंकि दल इतना सुसंगठित और दृढ नही है इसलिये अभी सरकार से सीधा मोर्चा लेना उचित नही होगा लेकिन अंततः काकोरी में ट्रेन डकैती डालने की योजना बहुमत से पास हो गई।

समारोह में मुख्य रूप से मो0 जाबिर, नफीस अहमद, दिलशाद अहमद दिलेर मो0 आसिफ अतीकुल जफर जहीर अब्बास मून मो0 दानिश हबीब अहमद इकराम मोहम्मद फरीदी संजय जयसवाल कमलेश कुमार रावत डीसी आजाद भैय्यालाल कलीम बाबू मो0 सामिद मो0 यूसुफ आदि लोगो ने शिरकत की। 

 

प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना के लिए सात नगर पंचायते चयनित

  • लाभार्थियो को चिन्हित कर डीएम के पास भेजी गयी फाइल

उन्नाव। प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना के पहले चरण में सात नगर पंचायतों का चयन किया गया है। इन पंचायतों में लाभार्थी चिह्नित करके उनकी फाइल अनुमोदन के लिए डीएम के पास भेजी गई है। जिलाधिकारी से स्वीकृति मिलते ही सूची शासन को भेजकर धनराशि की डिमांड की जाएगी।नगर निकायों में रहने वाले ऐसे आवासहीन परिवारों जो झुग्गी बस्ती या गैर झुग्गी बस्ती में निवास करते हैं उन्हें पक्की छत उपलब्ध कराने के लिए केंद्र सरकार की ओर से प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) शुरू की गई है। प्रदेश में राज्य नगरीय विकास अभिकरण (सूडा) को योजना के संचालन की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

डूडा और नगर पंचायतों की ओर से ऐसे आवासहीन परिवारों से पक्के आवास के लिए पिछले साल आवेदनपत्र लिए गए थे। इस दौरान 3 नगर निकायों और 15 नगर पंचायतों से हजारों आवेदन आए। इसमें कुछ आवेदन ऑफलाइन और कुछ ऑनलाइन प्राप्त हुए। केंद्र सरकार की ओर से आए आवेदनों की जांच के लिए गुजरात की एसबीईएनजी इंडिया प्राइवेट लिमिटेड को नियुक्त किया गया था। संस्था की ओर से 7 नगर पंचायतों में किए गए सर्वे के बाद पहले चरण के लिए कुल 1398 लाभार्थियों का चयन किया गया है।

यह लाभार्थी ऐसे हैं जिनके घर कच्चे हैं या मकान बनाने के लिए उनके पास खुद की जमीन है। इसी आधार पर इन्हें चिह्नित करके फाइल अनुमोदन के लिए जिलाधिकारी के पास भेज दी गई है। परियोजना अधिकारी डूडा ने बताया कि डीएम से हरी झंडी मिलने के बाद लाभार्थियों की सूची शासन को भेजी जाएगी। 
आवास निर्माण के लिए ढाई लाख देगी सरकार
पहले चरण में बनने वाले आवासों के लिए सरकार की ओर से लाभार्थी को ढाई लाख रुपये की धनराशि किस्तों में दी जाएगी। वैसे आवास की कुल लागत 335698 रुपये रखी गई है। शेष रकम लाभार्थी को स्वयं लगानी होगी। इस धनराशि से लाभार्थी को खुद की जमीन पर 2 कमरे किचन व शौचालय बनाना होगा। 
इन्सेट
डीएम से अनुमोदन के बाद फिर होगा रैंडम सर्वे
सर्वे करने वाली संस्था के जिला कोआर्डिनेटर शिवम तिवारी ने बताया कि डीएम सेे अनुमोदन मिलने के बाद दुबारा लाभार्थियों का रैंडम आधार पर सर्वे किया जाएगा। इसमें यदि किसी के गलत जानकारी देने की पुष्टि होगी तो उसे लाभार्थी सूची से बाहर कर दिया जाएगा। साथ ही उसके खिलाफ कार्रवाई भी होगी। 
इन्सेट
नगर पंचायत कुल आवासों की संख्या
सुरसेनी 70
टंडा मीठा पतौली 60
सैता 85
बीघापुर 45
नवाबगंज 74
न्योतनी 320
मोहान 558
हैदराबाद 194 
कुरसठ 77
रसूलाबाद 130

 

मुकदमा दर्ज होने पर प्रधानाचार्य ने पांच छात्रो को किया निलंबित

  • अनुशासनहीनता व अभद्रता पर दी गयी थी तहरीर

उन्नाव। थाना बीघापुर क्षेत्र के रुझेई स्थित रामनाथ इंटर कॉलेज में छात्रों के दो गुटों में हुई मारपीट व शिक्षको के साथ अभद्रता को लेकर प्रधानाचार्य द्वारा थाने में केस दर्ज कराने बाद पांच छात्रों को निलंबित कर दिया गया। निलंबन की कार्यवाही से आक्रोशित अभिभावकों ने विद्यालय प्रशासन की कार्यवाही को छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ बताया है।

रामनाथ इंटर कॉलेज में 12 अक्टूबर को शिक्षण कार्य के समय ही विद्यालय के दो छात्र गुटों में बवाल हुआ था जिसमें बीच-बचाव करने पहुंचे विद्यालय के शिक्षक सुनील कुमार व धर्मेंद्र कुमार से की लड़कों की झड़प हो गई थी। दूसरे दिन विद्यालय के प्रधानाचार्य रामेश्वर द्विवेदी प्रलयंकर ने पांच छात्रों सहित 8 के विरुद्ध थाने में तहरीर देकर केस दर्ज कराया। केस दर्ज होने के बाद प्रधानाचार्य ने रैथाना के कक्षा 12 के छात्र विमलेश अमित शनि अंकुल शिवांश को विद्यालय से निलंबित कर दिया।

निलंबन की कार्यवाही होने से अभिभावकों में रोष है। अभिभावक रामनरेश राजाराम रामकिशोर शशिप्रकाश पांडेय का कहना है कि विद्यालय बच्चों के लिए संस्कारशाला होती है। विद्यालय प्रशासन छात्रों पर आपराधिक केस दर्ज कराकर उनके भविष्य के साथ खुल्लम खुल्ला खिलवाड़ कर रहा है।

जिन शिक्षकों के साथ अभद्रता की बात कही जा रही है वह शिक्षक कई बार बच्चों के साथ बर्बर पिटाई घटना कर चुके है और छात्रों की ओर से इन अध्यापकों के विरुद्ध आपराधिक तहरीर दी गई थी। लोगों के बीच में पड़ जाने से मामला शांत हुआ था। अभिभावकों का कहना है कि विद्यालय में कार्यरत उपरोक्त शिक्षक गरिमा के अनुकूल कार्य नहीं कर रहे हैं। अभिभावकों ने उच्चाधिकारियों से शिकायत कर न्यायिक शरण में जाने की बात कही।

 

खाल कारोबारी ने टेनरी मालिक पर लगाया परेशान करने का आरोप

  • माल खरीदने के तीन माह बाद भुगतान देने को लेकर बना रहा तरह-तरह के बहाने

उन्नाव। कानपुर के जाजमऊ इलाके में स्थित असलम टेनर के मालिक असलम परवेज पर आरोप है कि वह खाल कारोबारी एचएमए एग्रो इंडस्ट्रीज को फर्जी तरीके से परेशान कर रहा है। पीड़ित ने मामले की शिकायत पुलिस से की है। 

मामला पांच महीने पहले मई माह का है जब एचएमए एग्रो इंडस्ट्रीज के एजेंट मो0 प्यारे ने लगभग 22 लाख रुपये का चमड़ा असलम टेनर को नगद भुगतान पर सप्लाई किया और वही 3 महीने बाद असलम टेनर अब सप्लाई किए गए चमड़े में खामियां गिना रहा है और दी गयी पेमेंट वापस लेने के लिए पुलिस को फर्जी प्रार्थनापत्र देकर एचएमए एग्रो इंडस्ट्रीज को परेशान कर रहा है जबकि उसी माह में और भी टेनरी संचालकों को चमड़ा दिया

जिसमे किसी तरह की कोई शिकयत नहीं मिली है चमड़े के कारोबार में चमड़ा सप्लाई के 15 दिन का समय होता है जिसमे चमड़े की गुणवत्ता चेक करके लेना है या नही, ये फैसला टेनरी मालिक को करना होता है लेकिन चमड़ा सप्लाई के 3 महीने बाद इस तरह का आरोप लगाना बिल्कुल गलत है। वही चमड़ा कारोबारी का कहना है कि जांच में दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा जिसके बाद चमड़ा कारोबारी एचएमए एग्रो इंडस्ट्रीज असलम टेनरी के मालिक असलम परवेज पर मानहानि का मुकदमा करने की बात कह रहे है।

गौरतलब है अगर असलम टेनर को चमड़े की गुणवत्ता में कोई कमी नजर आई थी तो वो 15 दिनों में चमड़ा वापस कर सकते थे और शिकायत टेनरी एसोसिएशन से करनी चाहिए थी लेकिन असलम टेनर फर्जीवाड़ा कर चमड़ा कारोबारी एचएमए एग्रो इंडस्ट्रीज की छवि को खराब करने की कोशिश कर रहे है और कंपनी के एजेंट मो0 प्यारे को जान से मारने और जाजमऊ में ना रहने देने की धमकी दे रहे है। जबकि यह कंपनी 30 साल से जाजमऊ में कच्चा चमड़ा सप्लाई कर रही है किसी भी टेनरी की तरफ से किसी तरह का कोई विवाद नहीं है।

 

सुविधा शुल्क देने के दो वर्ष बाद भी व्यापारी को नहीं मिला लोन

  • लोन न पास होने पर सर्वेयर-व्यापारी में मारपीट, दोनो पक्ष पहुंचे कोतवाली

उन्नाव। सुविधा शुल्क देने के दो वर्ष बाद भी जब व्यापारी को स्थानीय एचडीएफसी बैंक की शाखा से ऋण नही मिला तो आज बैंक के सर्वेयर और व्यापारी  के मध्य मारपीट हो गयी। दोनों पक्षों ने कोतवाली में तहरीर देकर कार्यवाही की मांग उठाई है। बांगरमऊ नगर के मोहल्ला पटेल नगर निवासी आशीष गुप्ता पुत्र राधाकृष्ण गुप्ता की स्थानीय कृषि उत्पादन मंडी यार्ड में आशीष ग्रेन स्टोर नाम से गल्ले की दुकान है। आशीष के मुताबिक करीब दो वर्ष पूर्व उसने स्थानीय एचडीएफसी बैंक शाखा में अपना चालू खाता खुलवाया था।

खाता खुलवाने के बाद बैंक के सर्वेयर अमित विद्यार्थी पुत्र विद्यासागर विद्यार्थी ने उसे 40 लाख रुपये ऋण दिलाने का वादा किया। बदले में उसने कागजात के खर्च के नाम पर 40 हजार रुपये मांगे। व्यापारी आशीष ने सर्वेयर को 40 हजार रुपये दे भी दिए लेकिन कई महीने बाद तक व्यापारी बैंक के चक्कर लगाता रहा किंतु उसका ऋण स्वीकृत नहीं हुआ। कुछ दिन बाद सर्वेयर अमित विद्यार्थी ने व्यापारी से कहा कि आपका लोन स्वीकृत हो गया है और आपके खाते में पैसा भी पहुंच गया है।

सर्वेयर ने व्यापारी को एक चेकबुक भी थमा दी। व्यापारी गेहूं बेचने वाले किसानों को उसी चेकबुक से चेक काटकर देने लगा लेकिन चेक बाउंस होने लगी और व्यापारी को किसानों को नगद भुगतान करना पड़ा। व्यापारी बैंक पहुंचा और उसने चेक बाउंस होने का कारण पूंछा लेकिन तब व्यापारी को जानकारी हुई कि अभीतक बैंक ने उसका ऋण ही स्वीकृत नही किया। यह सुन व्यापारी को ठगे जाने का एहसास हुआ। आज शाम करीब 4 बजे सर्वेयर अमित विद्यार्थी और व्यापारी आशीष की भेंट हो गई। आशीष ने उससे अपने 40 हजार रुपये वापस मांगे तो वह नाराज हो गया। बात इतनी बढ़ गई कि दोनों में मारपीट होने गयी। दोनों पक्षों ने कोतवाली में तहरीर देकर कार्यवाही की मांग उठाई है।

Comments