उत्तर प्रदेश सरकार के शासनादेश पर भारी,बनीकोडर के खंड शिक्षा अधिकारी

उत्तर प्रदेश सरकार के शासनादेश पर भारी,बनीकोडर के खंड शिक्षा अधिकारी

जिला ब्यूरो चीफ प्रवीण तिवारी के साथ शिवशंकर तिवारी की रिपोर्ट

रामसनेही घाट बाराबंकी

सरकारी विद्यालयो मे तैनात अध्यापकों को दूसरे विद्यालय में संबद्ध न किए जाने संबंधी शासनादेश के बावजूद बनीकोडर शिक्षाक्षेत्र में दो दर्जन से अधिक अध्यापकों को विभागीय अधिकारी द्वारा सुविधाजनक स्थानों एवं विद्यालयों में संबद्ध करके शासनादेश की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं।


विदित हो कि उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद प्रयागराज के द्वारा पत्रांक संख्या 10014 / 10107 दिनांक 12 अक्टूबर 2018 को विद्यालयों मे अध्यापकों का अटैचमेंट ना करने का आदेश जारी करते हुए सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को एक माह के भीतर ही क्षेत्र में किसी भी विद्यालय में अध्यापक का अटैचमेंट ना होने का प्रमाण पत्र दाखिल करने के निर्देश दिए थे।

लेकिन इस आदेश के बावजूद बनीकोडर शिक्षा क्षेत्र में अधिकारियों ने दो दर्जन से अधिक अध्यापकों का अटैचमेंट अपने मन मुताबिक जगहों पर कर रखा है।

अटैचमेंट में अधिकारियों की मनमानी तो पूरी तरह आश्चर्यचकित कर देती है।

क्षेत्र के भेदुआ बहरेला गांव के प्राथमिक विद्यालय में 106 पंजीकृत बच्चों को पढ़ाने के लिए प्रधानाध्यापक अनमेहा सिंह तथा उनके पति चंद्रशेखर सिंह के साथ ही बालकरण और शिक्षामित्र सरोजिनी देवी तैनात हैं। विद्यालय में मौजूद शिक्षक बालकरण के मुताबिक विभागीय अधिकारियों ने पति पत्नी दोनों को बीआरसी कार्यालय से अटैच कर रखा है।

इसकी पुष्टि चंद्रशेखर ने स्वयं करते हुए कहा कि वह और उनकी पत्नी बीआरसी कार्यालय से संबद्ध है। आश्चर्य तो यह रहा कि दोनों लोग बीआरसी कार्यालय से भी लापता रहे।

सूत्रों के मुताबिक करीब दो दर्जन से अधिक अध्यापकों ने विभाग से गठजोड़ करके अपना अटैचमेंट अन्य विद्यालयों में करा रखा है।

शासन के आदेश भले ही कुछ हो लेकिन बनी कोडर शिक्षा क्षेत्र में विभागीय अधिकारियों के आदेश ही सब कुछ है जिसके चलते शिक्षा व्यवस्था दिन पर दिन गिरती जा रही है।

Comments