यू पी बोर्ड में जो नही बदल सका....

यू पी बोर्ड में जो नही बदल सका....

रिपोर्ट आनंद वेदान्ती त्रिपाठी अयोध्या

एशिया का सबसे बड़ा शैक्षिक बोर्ड यूपी बोर्ड कहा जाता है जिसमे लार्खों की संख्या में हर साल विद्यार्थी इस संस्था के दसवीं और बारहवीं की परीक्षाओं में शामिल होते हैं।

समय ,सत्ता ,और सरोकारों के साथ बहूत कुछ बदल गया पर जो चीज नही बदली वह है ।हर साल कापीयों जाँच में मिलने वाले ख्यालात । वक्त के साथ मजमून अभी वही है।

वही पूरानी शेरो शायरी मास्टर साहब की जहग प्यारे जीजा जी मामा जी न जाने कौन कौन से रिश्ते मिलते है...इलू वाला भी नम्बर सहित... मेंरे प्यारे मै काफी परेशान थी मुझे पास कर देना।

कभी बिमारी का ,कभी गरीबी का , बहाना । ....तुम्हारी फला -फला , इन जज़्बातों के साथ हरे ,नीले ,लाल ,करारे नोटों का मिलना अभी भी बदतस्तूर जारी है।

हमारी कमजोर व्यवस्था है या हमारी युवा पीढ़ी क्या चाहती है ये गहन अध्यन का विषय है इस पर सरकार को ध्यान देना चाहिए उससे ज्यादा हमारे विद्यालयो को ताकि लाचारी वाले युवा न हो....।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Loading...
Loading...

Comments