उत्तम संस्कार ही मानव की सबसे बड़ी पूंजी है -पाराशर शास्त्री

उत्तम संस्कार ही मानव की सबसे बड़ी पूंजी है -पाराशर शास्त्री

उत्तम संस्कार ही मानव की सबसे बड़ी पूंजी है-पाराशर शास्त्री

फतेहपुर/अमेठी


फतेहपुर गांव में पिछले चार दिन से श्रीमद् भागवत सप्ताह ज्ञान यज्ञ में व्यासपीठ पर विराजमान मुख्य वक्ता डॉ श्याम सुंदर पाराशर जी ने कहा संस्कार मानव जीवन की सबसे बड़ी पूंजी है

संस्कार विहीन मनुष्य पशुओं के समान होता है ऐसे में हमें अपने बच्चों को भौतिक सुख-सुविधा अच्छी शिक्षा के साथ-साथ धर्म शास्त्रों एवं अच्छे संस्कारों की सीख देना भी आवश्यक है बुरे संस्कार वाला व्यक्ति समाज कुल परिवार की मर्यादा नष्ट करने के साथ-साथ संपूर्ण ऐश्वर्य एवं वैभव नष्ट कर देता है कुछ बुरे कर्मों के कारण रावण की सोने की लंका एवं संपूर्ण कुल खानदान नष्ट हो गया जबकि बनवासी श्रीराम ने उत्तम संस्कार एवं धर्म के लिए लड़ते हुए विजय श्री का वरण वरण किया

उन्होंने कहा कि किताबी ज्ञान के साथ-साथ बच्चों को वेद उपनिषद रामायण महाभारत श्रीमद्भागवत की शिक्षा देना भी आवश्यक है इस मौके पर आयोजक डॉ अवनीश पाठक,कौशलेंद्र पाण्डेय,मुख्य श्रोता यमुना प्रसाद पाठक, त्रिवेणी प्रसाद पाठक,अनुपम पाठक और बहुत से भक्तगण उपस्थित रहे

Comments