वाराणसी गृहकर नहीं देने पर होटल सील करने पहुंचे अफसर

वाराणसी गृहकर नहीं देने पर होटल सील करने पहुंचे अफसर

गृहकर नहीं देने पर होटल सील करने पहुंचे अफसर


नगर निगम प्रशासन ने गृहकर के बड़े बकाएदारों के खिलाफ कार्रवाई तेज कर दी है। वरुणापार जोन के तीन होटलों को सालों से गृहकर बकाया नहीं चुकाने पर गुरुवार को सील करने अधिकारी पहुंचे।

कार्रवाई होते देख तीनों प्रतिष्ठानों से करीब 20 लाख रुपये बकाया वसूला गया। वहीं, अलग-अलग जोन के तीन बड़े बकाएदारों की ओर से दिए गए चेक बाउंस होने पर उनके खिलाफ संबंधित थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया है।

नगर निगम में राजस्व को लेकर सख्त नगर आयुक्त डॉ. नितिन बंसल ने गृहकर वसूली की मॉनीटरिंग संयुक्त नगर आयुक्त गौरव सोंगरवाल को दी है। सोंगरवाल ने हर जोन के 20 बड़े बकाएदारों की सूची तलब कर उनके प्रतिष्ठान को सील करने की कार्रवाई शुरू की है। गुरुवार की सुबह 11 बजे संयुक्त नगर आयुक्त सबसे पहले होटल इंडिया पहुंचे।

यहां प्रबंधक से बकाए गृहकर की मांग की गई। प्रबंधक पार्ट टाइम पेमेंट और समय की मांग करने लगा। जिस पर पुलिस से साथ पहुंचे अधिकारी ने होटल को सील करना शुरू कर दिया। इससे होटल प्रबंधन में अफरातफरी मच गयी। मैनेजर की ओर से तत्काल गृहकर बकाया 8 लाख 90 हजार 657 की रुपये जमा किए गए।

इसके बाद टीम होटल वैभव पहुंची। यहां पर भी भुगतान में आनाकानी देख तालाबंदी का आदेश देते ही प्रबंधक ने पूरा बकाया 7 लाख 14 हजार 630 रुपये का भुगतान किया। पांच सितारा होटल क्लार्क्स से भी 3 लाख 74 हजार 34 रुपये वसूले गए।

उधर, भेलूपुर जोन में एक व दशाश्वमेध जोन में दो व्यवसायिक प्रतिष्ठानों के गृहकर का चेक बाउंस होने होने पर संबंधित थानों में एफआईआर दर्ज कराई गई है।

वारंट के बाद भी सालों से टैक्स बकाया

संयुक्त नगर आयुक्त ने बताया कि तीन प्रतिष्ठानों पर विगत कई सालों से गृहकर बकाया था। बुधवार को राजस्व वसूली की समीक्षा में भुगतान नहीं होने पर तीनों होटलों की पत्रावली तलब कर परीक्षण किया। इसमें पाया गया कि वरुणापार जोन की ओर से तीनों भवनों पर डिमांड ऑफ नोटिस व वारंट की कार्यवाही की गयी थी। फिर भी बकाया गृहकर जमा नहीं किया गया है।

बड़े प्रतिष्ठानों का फिर होगा मूल्यांकन

संयुक्त नगर आयुक्त गौरव सोंगरवाल ने बताया कि वार्डों के निरीक्षण में पाया गया है कि शिवपुर क्षेत्र में एक बड़ा व्यवसाय केंद्र है। जिसने आज तक गृहकर जमा नहीं किया है। जबकि भवन के अंदर दर्जनभर दुकानें व फैक्ट्रियां चलती हैं। शुक्रवार को टीम के साथ पैमाइश कराई जा जाएगी।

इसके बाद मूल्यांकन कर गृहकर वसूली की जाएगी। बताया कि नगर में ऐसे बड़े होटल, हॉस्पिटल, नर्सिंग होम, व्यवसायिक केंद्र संचालित हैं।

परंतु विगत कई वर्षों से उनका गृहकर जमा नहीं है। ऐसे सभी प्रतिष्ठानों की सूची तैयार कर ली गई है। इनसे गृहकर वसूली करायी जाएगी। नहीं देने पर भवन सील किया जाएगा।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Loading...
Loading...

Comments