क्यों बढ़ता जा रहा है तापमान , और इसके क्या उपाय हैं

क्यों बढ़ता जा रहा है तापमान , और इसके क्या उपाय हैं

मो. शाहिद अंसारी

सिर्फ भारत में ही नहीं हर जगह तापामान में वृद्धि देखने को मिल रही हैं. हर साल तापामान में बढ़ोत्तरी देखने के मिल रही है. जो कि खतनाक हैं।

अगर ऐसा ही रहा तो एक दिन ऐसा आएगा कि धरती गर्मी से आग बन जाएगी. जिस कारण जीना मुश्किल हो जाएगा। कई मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक हर साल धरती का तापमान में वृद्धि हो रही हैं। इसकी सबसे बड़ी वजह है ग्लोबल वार्मिग की।

 जब सूर्य की रोशनी धरती पर पहुंचती हैं तो इसके साथ कई हानिकारक किरणें भी होती हैं. जो धरती से टकराकर वापस अंतरिक्ष में चली जाती हैं. जिससे धरती पर रहने वाले लोग इन किरणों के हानिकारक प्रभावों से बच जाते हैं. लेकिन औद्योगिकीकरण और अन्य मानवीय गतिविधियों से कुछ ऐसी गैंसे धरती पर निकलती हैं, जो ऊपर जाकर वायुमंडल में एक तरह से वायु की परत (आवरण) बना लेती हैं।सूर्य से आने वाली हानिकारक किरणें, जिन्हे धरती से टकराकर वापस जाना होता हैं. उन किरणों को आवरण, वापस जाने नहीं देता हैं, जिस कारण सूर्य का तापमान बढ़ता हैं। यानी आवरण बनाने वाली गैंसे ही एक तरह से गर्मी बढ़ाने के जिम्मेदार हैं, धरती का इस तरह से तापमान बढ़ने को ही ‘ग्लोबल वार्मिग’ (भूमंडलीय उष्मीकरण)  कहते हैं। जो भी गैसें धरती से आवरण बनाने वाली निकलती हैं उनका जिम्मेदार हम खुद हैं, यह गैसें आमतौर पर मीलों, रेफ्रिजरेटर, ए.सी., आदि से निकलती हैं, जितनी ज्यादा गर्मी पड़ेगी मानव उतना ही गर्मी से बचने के लिए ए.सी. वगैरह का इस्तेमाल करेंगा. जिससे और ज्यादा गैंसे निकलेंगी तो और ज्यादा गर्मी बढ़ेगी जो कि हम खुद अपने आस पास देख सकते हैं।

हमे इस  तपतपाती गर्मी से बचने के लिए ज्यादा से ज्यादा पौधे लगाने होंगे, जिससे हमें स्वच्छ वायु,ऑक्सीजन प्राप्त होगी जिससे कार्बन डाइऑक्साइड और अन्य गैसों का प्रभाव कम होने लगेगा और वातावरण में गर्मी के दुष्प्रभाव कम होंगे।

Comments