‌प्रयागराज में अब कालिंदी उत्सव ‌ जूना अखाड़ा ने लिया निर्णय

‌प्रयागराज में अब कालिंदी उत्सव ‌  जूना अखाड़ा ने लिया निर्णय

‌ प्रयागराज से दया शंकर त्रिपाठी की रिपोर्ट

‌ प्रयागराज

‌‌उत्सवों का शहर प्रयागराज जल्द ही नए उत्सव का गवाह बनेगा। यहां जल्द ही कालिंदी उत्सव शुरू करने की तैयारी है। इसके लिए अखिल भारतीय जूना अखाड़ा ने पहल की है। प्रशासन से बातचीत शुरू हो गई है। मौजगिरि घाट से लेकर हनुमान मंदिर के बीच किसी स्थान पर उत्सव मनाने की तैयारी है।

‌प्रयागराज में तमाम उत्सव और मेले होते हैं। लेकिन ज्यादातर उत्सव गंगा तट पर ही होते हैं। यमुना तट पर कार्तिक मेले को छोड़कर कोई खास उत्सव नहीं होता है। जबकि यहां पर यमुना से जुड़े तमाम व्यवसाय होते हैं। सिंचाई, खनन, पेयजल और मछुआरों के जीविकोपार्जन में यमुना का खास महत्व है। जूना अखाड़ा के संरक्षक महंत हरिगिरि ने बताया कि इस चीज को ध्यान में रखते हुए यमुना तट पर विशेष कालिंदी उत्सव कराने की तैयारी है। इसके लिए अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि से बात भी हुई है। प्रशासन से भी इस दिशा में सार्थक पहल के लिए कहा गया है।

‌यमुना किनारे उत्सव होने से पर्यटन को तो बल मिलेगा ही, साथ ही यमुना की दशा में सुधार के लिए भी सार्थक प्रयास होंगे। एक महीने का खास उत्सव होने के कारण यमुना घाटों की सफाई और इसके रखरखाव का बंदोबस्त होगा। साथ ही वर्षपर्यंत पर्याप्त जल बना रहे, इसके लिए भी प्रयास होंगे

‌उत्सव के लिए स्थान व समय पर मंथन चल रहा है। 

 

 

Comments