ब्रह्मपुत्र के ऊपर कोलियाभोमोरागुड़ी सेतु से रेलिंग तोड़ के एक ट्रक पानी के अंदर डूबे

ट्रक चालक और  चालक की सहायक दोनों ही अब तक  लापता
 
 ब्रह्मपुत्र के ऊपर कोलियाभोमोरागुड़ी  सेतु से  रेलिंग तोड़ के एक ट्रक  पानी  के अंदर डूबे
सेतु के ऊपर  गाड़ी की नियंत्रण खोकर यह हादसा होने की संभावना है
 असम  जीपीएस रिपोर्ट के अनुसार  मालूम चला है कि  कोलियाभोमोरा सेतु में एक दुर्घटना  हुआ है . जीपीएस रिपोर्ट के अनुसार 22 नवंबर सुबह 1:09 बजे  यह घटना  घटित हुआ है . स्थानीय मछुआरों और  कंस्ट्रक्शन कंपनी में काम करने वाली लोगों ने  पानी में एक जोर की आवाज सुनी  जिससे तुरंत  काम करने वाले लोगों ने अपनी कंपनी के द्वारा सोनितपुर  जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन को खबर दी . तुरंत पुलिस प्रशासन ने एनडीआरएफ के  दल को लेकर घटनास्थल में उपस्थित हुए और  उन लोगों को सुरक्षित निकालने की कोशिश की .

 लेकिन  जब देखा कि एक 10 चक्के वाली ट्रक है  और ट्रक  के ज्यादातर हिस्से बाली के अंदर घुस चुके हैं . तब  एनडीआरएफ बहिनी की  बहुत ही मुश्किल की सामना करनी पड़ी . लेकिन बहुत  मशक्कत  के बाद कल  शाम को गाड़ी पानी  के अंदर से  निकाल लिया गया . 10  चक्के  वाली ट्रक के नंबर है  NL-01-K-3553.  10 चक्के वाली यह ट्रक  सूत्रों के अनुसार  दीमापुर से अरुणाचल के बंदर दुआ तक कुछ लोहे के सामान लेकर आ रहे थे .  आते समय सेतु के ऊपर  गाड़ी की नियंत्रण खोकर यह हादसा होने की संभावना है ऐसी जानकारी   सोनितपुर  पुलिस प्रशासन ने हमें दी है .

 गाड़ी  के चालक  सोनितपुर जिले के जमुगुरी  पुलिस थाना की  अंतर्गत  कृषिपाम गांव के  रहने बाला  पदंम विश्वकर्मा के बेटे  राजीव विश्वकर्मा है  और उनके सहायक  थे विश्वनाथ जिले के  बिहाली पुलिस थाना के अंतर्गत  सेनिमाड़ी  गांव के  20 साल  के लड़का   ओमित डोनर उर्फ लुटे है . पिछले सोमवार से  गैमन इंडिया कंपनी के सहायता से एनडीआरएफ और  एसडीआरएफ  कि लोग उन लोगों को ढूंढ रहे लेकिन  अब तक उन लोगों की जानकारी नहीं मिली है . कल से सेनाबाहिनी की मदद भी  जिला प्रशासन ने ली है लेकिन  समाचार भेजने तक हमें  उन लोगों की जानकारी अभी तक नहीं मिली है .

 स्थानीय लोगों ने सरकार से मांग की है कि  रेलिंग  टूट कर  होने वाली सेतु में जो दुर्घटना घट रही है .  इसको रोकने के लिए  सरकार विशेष कदम उठाए क्योंकि  यह घटना हर साल  मैं दो या तीन बार कट रहे हैं . स्थानीय लोगों ने सरकार से मांग की है कि रेलिंग को और मजबूत से बनाया जाए क्योंकि यह पुराना हो चुकी है और  जो सेतु के ऊपर स्ट्रीट लाइट दिया हुआ है उसे भी  जलाए जाए क्योंकि स्ट्रीट लाइट ना होने की वजह से  यो घटना घट रहा है ऐसा भी शंका स्थानीय लोगों ने  अनुमान लगाया है .

FROM AROUND THE WEB