सोने चांदी की कीमतों में गिरावट: लंबे समय तक सोने में निवेश करने के लिए अच्छा समय

 
सोने चांदी की कीमतों में गिरावट: लंबे समय तक सोने में निवेश करने के लिए अच्छा समय

स्वतंत्र प्रभात 

नई दिल्ली: प्राचीन काल से ही सोना खरीदना भारत में न केवल सम्मान से जुड़ा माना गया है बल्कि सोने की खरीद लोग आड़े वक्त में काम आने के लिए निवेश के हिसाब से भी करते हैं। त्यौहारों के अवसर पर सोना खरीदना और मांगलिक अवसरों पर सोना उपहार में देना शुभ माना जाता है। भारतीय संस्कृति में धर्म से लेकर शुभ कामों में सोने की कहीं न कहीं आवश्यकत होती है।  वर्तमान में सोने के भाव में लगातार गिरावट देखी जा रही है। इसको लेकर बाजार में चिंता का भाव भी है, तो वहीं इसे लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट के लिए अच्छा भी माना जा रहा है। 

जुगल किशोर ज्वैलर्स बाय राजन रस्तोगी के पार्टनर राघव रस्तोगी के अनुसार, "ग्राहकों को हमेशा लंबे समय तक निवेश का लक्ष्य बनाकर सोने की खरीदारी करनी चाहिए। इस समय सोने के भाव मे कमी आ रही है, देखा जाए तो सोना खरीदने वाले लॉन्गटर्म इन्वेस्टर्स के लिए यह समय अच्छा है।"

वहीं ऐश्प्रा जेम्स एंड ज्वेल्स के निदेशक अनूप सराफ ने सोने और चांदी के बाजार भाव के कम होने पर अपनी राय रखते हुए कहा, ""पितृपक्ष के बाद नवरात्रि, दीपावली और शादी-ब्याह के सीजन शुरू हो जाएगा। कीमतों में गिरावट के चलते इन सभी  शुभ अवसरों की तैयारी के लिए सोने और चांदी की खरीदारी करने का यह सुनहरा अवसर है। सोने-चांदी की कीमतों में यह गिरावट निवेशकों के लिए आगे चलकर फायदेमंद साबित होने वाली है।"

अंबाला के फतेह चंद बंसीलाल ज्वैलर्स के निदेशक ऋषि वर्मा के अनुसार, "सोने और चांदी की कीमतों में घरेलू और अंतरराष्ट्रीय वजहों से रोज उतार-चढ़ाव होता है।  पिछले कुछ समय से इन कीमती मेटल्स के दाम में लगातार कमी देखी जा रही है। पिछले एक हफ्ते में जहां सोने की कीमत में लगभग ₹1500 रुपए प्रति दस ग्राम की गिरावट देखने को मिली है तो चांदी की कीमत लगभग ₹3000 प्रति किलोग्राम गिरी है। यह कमी निवेशकों के लिए बेहतरीन अवसर है, सोने और चांदी में निवेश करने के लिए बेहद उचित समय है।"

   

FROM AROUND THE WEB